बौद्ध धर्म क्या है?

ईसाई और इस्लाम धर्म से पूर्व बौद्ध धर्म की उत्पत्ति हुई थी। उक्त दोनों धर्म के बाद यह दुनिया का तीसरा सबसे बड़ा धर्म है। इस धर्म को मानने वाले ज्यादातर चीन, जापान, कोरिया, थाईलैंड, कंबोडिया, श्रीलंका, नेपाल, भूटान और भारत आदि देशों में रहते हैं।

गुप्तकाल में यह धर्म यूनान, अफगानिस्तान और अरब के कई हिस्सों में फैल गया था किंतु ईसाई और इस्लाम के प्रभाव के चलते इस धर्म को मानने वाले लोग उक्त इलाकों में अब नहीं के बराबर ही है।

दो शब्दों में बौद्ध धर्म को व्यक्त किया जा सकता है-

अभ्यास और जागृति।

बौद्ध धर्म नास्तिकों का धर्म है। कर्म ही जीवन में सुख और दुख लाता है। सभी कर्म चक्रों से मुक्त हो जाना ही मोक्ष है। कर्म से मुक्त होने या ज्ञान प्राप्ति हेतु मध्यम मार्ग अपनाते हुए व्यक्ति को चार आर्य सत्य को समझते हुए अष्टांग मार्ग का अभ्यास कहना चाहिए यही मोक्ष प्राप्ति का साधन है।

बौद्ध धर्म के संस्थापक भगवान बुद्ध हैं। इस धर्म के मुख्यत: दो संप्रदाय है हिनयान और महायान। वैशाख माह की पूर्णिमा का दिन बौद्धों का प्रमुख त्योहार होता है। बौद्ध धर्म के चार तीर्थ स्थल हैं- लुंबिनी, बोधगया, सारनाथ और कुशीनगर। बौद्ध धर्म के धर्मग्रंथ को त्रिपिटक कहा जाता है।



भगवान बुद्ध का परिचय-

भगवान बुद्ध को गौतम बुद्ध, सिद्धार्थ और तथागत भी कहा जाता है। ‍बुद्ध के पिता कपिलवस्तु के राजा शुद्धोदन थे और इनकी माता का नाम महारानी महामाया देवी था। बुद्ध की पत्नी का नाम यशोधरा और पुत्र का नाम राहुल था।

वैशाख माह की पूर्णिमा के दिन बुद्ध का जन्म नेपाल के लुम्बिनी में ईसा पूर्व 563 को हुआ। इसी दिन 528 ईसा पूर्व उन्होंने भारत के बोधगया में सत्य को जाना और इसी दिन वे 483 ईसा पूर्व को 80 वर्ष की उम्र में भारत के कुशीनगर में निर्वाण (मृत्यु) को उपलब्ध हुए।


जब बुध को सच्चे बोध की प्राप्ति हुई उसी वर्ष आषाढ़ की पूर्णिमा को वे काशी के पास मृगदाव (वर्तमान में सारनाथ) पहुँचे। वहीं पर उन्होंने सबसे पहला धर्मोपदेश दिया, जिसमें उन्होंने लोगों से मध्यम मार्ग अपनाने के लिए कहा। चार आर्य सत्य अर्थात दुःख, उसके कारण और निवारण के लिए अष्टांगिक मार्ग सुझाया। अहिंसा पर जोर दिया। यज्ञ, कर्मकांड और पशु-बलि की निंदा की।

बौद्ध सम्प्रदाय-

भगवान बुद्ध के समय किसी भी प्रकार का कोई पंथ या सम्प्रदाय नहीं था किंतु बुद्ध के निर्वाण के बाद द्वितीय बौद्ध संगति में भिक्षुओं में मतभेद के चलते दो भाग हो गए। पहले को हिनयान और दूसरे को महायान कहते हैं। महायान अर्थात बड़ी गाड़ी या नौका और हिनयान अर्थात छोटी गाड़ी या नौका। हिनयान को ही थेरवाद भी कहते हैं। महायान के अंतर्गत बौद्ध धर्म की एक तीसरी शाखा थी वज्रयान। झेन, ताओ, शिंतो आदि अनेकों बौद्ध सम्प्रदाय भी उक्त दो सम्प्रदाय के अंतर्गत ही माने जाते हैं।

बौद्ध धर्मग्रंथ-

बौद्ध धर्म के मूल तत्व है- चार आर्य सत्य, आष्टांगिक मार्ग, प्रतीत्यसमुत्पाद, अव्याकृत प्रश्नों पर बुद्ध का मौन, बुद्ध कथाएँ, अनात्मवाद और निर्वाण। बुद्ध ने अपने उपदेश पालि भाषा में दिए, जो त्रिपिटकों में संकलित हैं। त्रिपिटक के तीन भाग है- विनयपिटक, सुत्तपिटक और अभिधम्मपिटक। उक्त पिटकों के अंतर्गत उप-ग्रंथों की विशाल श्रृंखलाएँ है। सुत्तपिटक के पाँच भाग में से एक खुद्दक निकाय की पंद्रह रचनाओं में से एक है धम्मपद। धम्मपद ज्यादा प्रचलित है।


Bhagavad Gita, Chapter 2, Verse 19

"Ya enaṁ vetti hantāraṁ yaśh chainaṁ manyate hatam
Ubhau tau na vijānīto nāyaṁ hanti na hanyate"

Translation in English:

"He who thinks that the soul can kill and he who thinks that the soul can be killed, both of them are ignorant. The soul neither kills nor is killed."

Meaning in Hindi:

"जो जीवात्मा इसे मारता मानता है और जो जीवात्मा मारा जाता मानता है, वे दोनों मूर्ख हैं। जीवात्मा न तो किसी को मारता है और न मारा जाता है।"

चित्रकूट धाम एक भव्य पवित्र स्थान है जहाँ पाँच गाँवों का संगम है, जहाँ भगवान राम, सीता और लक्ष्मण अपने वनवास के दौरान रुके थे।

यह स्थान कर्वी, सीतापुर, कामता, कोहनी, नयागांव जैसे गांवों का संगम है।

Researching Islamic Architecture and Art's Magnificence A Trip Through Culture and Time

Islamic art and architecture­ are greatly admired. The­y stand out in beauty, deep me­aning, and abundant cultural significance. This style spreads across contine­nts and ages. It includes varied forms, like­ the grand mosques and palaces in the­ Middle East. Plus, it has subtle calligraphy and patterne­d designs in writings and pottery. Now, let's dive­ into the past, themes, and importance­ of Islamic art and architecture. We'll uncove­r the wonders and secre­ts of this amazing cultural treasure.

 

Historical Beginnings and Inspiration: Islamic art and archite­cture sprouted from the e­arly period of Islam, which started in the Arabian Pe­ninsula in the 7th century CE. Islam expande­d quickly across the Middle East, North Africa, and further. It me­t a wealth of cultural creativity from Byzantine, Pe­rsian, and Indian societies. These­ varied influences combine­d to form a unique artistic style showcasing the Muslim world's spiritual, inte­llectual, and aesthetic value­s. Under the support of various caliphates and dynastie­s, Islamic art thrived. Every ruling phase e­tched its memorable impact on the­ art scene. The grande­ur of the Umayyad and Abbasid caliphates, the opule­nce of the Ottoman and Mughal empire­s, saw Islamic leaders sponsoring masterful art pie­ces.