हिंदू धर्म की 12 जानकारियां, जो सभी हिंदुओं को पता होनी चाहिए?

हिन्दू धर्म के संबंध में संभवत: बहुत कम हिन्दू जानते होंगे। ज्यादातर हिन्दुओं को व्रत, त्योहार, परंपरा आदि की ही जानकारी होती है। ऐसे में हर हिन्दू को हिन्दू धर्म के संबंध में सामान्य जानकारी पता होना चाहिए ताकि किसी भी प्रकार का कोई भ्रम ना रहे।

1.

हिन्दू धर्म का एकमात्र धर्मग्रंथ वेद है। वेद के चार भाग है ऋग, यजु, साम और अथर्व। वेद के ही तत्वज्ञान को उपनिषद कहते हैं जो लगभग 108 हैं। वेद के अंग को वेदांग कहते हैं जो छह हैं- शिक्षा, कल्प, व्याकरण, ज्योतिष, छन्द और निरूक्त।

2.

मनु आदि की स्मृतियां, 18 पुराण, रामायण, महाभारत या अन्य किसी भी ऋषि के नाम के सूत्रग्रंथ धर्मग्रंथ नहीं हैं। वेद, उपनिषद का सार या कहें कि निचोड़ गीता में हैं इसीलिए गीता को भी धर्मग्रंथ की श्रेणी में रखा गया है जो महाभारत का एक हिस्सा है।

3.वेदों के अनुसार ईश्‍वर एक ही है उसका नाम ब्रह्म (ब्रह्मा नहीं) है। उसे ही परमेश्वर, परमात्मा, परमपिता, परब्रह्म आदि कहते हैं। वह निराकार, निर्विकार, अजन्मा, अप्रकट, अव्यक्त, आदि और अनंत है। सभी देवी-देवता, पितृ, ऋषि-मुनि, भगवान आदि उसी का ध्यान और प्रार्थना करते हैं।

4.विद्वानों के अनुसार लगभग 90 हजार वर्षों ने हिन्दू धर्म निरंतर है। नाम बदला, रूप बदला, परंपराएं बदली, लेकिन ज्ञान नहीं बदला, देव नहीं बदले और ना ही तीर्थ। हमारे पास इस बात के सबूत हैं कि 8 हजार ईसा पूर्व सिंधु घाटी के लोग हिन्दू ही थे। दृविड़ और आर्य एक ही थे।



5.हिन्दू धर्म में संध्यावंदन और ध्यान का बहुत महत्व है। कुछ लोग संध्यावंदन के समय पूजा-आरती, भजन-कीर्तन, प्रार्थना, यज्ञ या ध्यान करते हैं। लेकिन संध्यावंदन इन सभी से अलग होती है। संध्यवंदन आठ प्रहर की होती है जिसमें दो प्रहर सभी के लिए हैं- सूर्योदय और सूर्यास्त के समय मंदिर या एकांत में शौच, आचमन, प्राणायामादि कर गायत्री छंद से संध्यावंदन की जाती है।

6.हिन्दू धर्म जीवन जीने की एक शैली है। योग, आयुर्वेद और व्रत के नियम को अपनाकर आप हमेशा सेहतमंद बने रहकर खुश रह सकते हैं। इसमें भोजन, पानी, निद्रा, ध्यान, कर्म, मन, बुद्धि और विचार के संबंध में महत्वपूर्ण जानकारी है जिसे आज विज्ञान भी मानता है। इसे पढ़ना चाहिए।


7.वेदानुसार यज्ञ पांच प्रकार के होते हैं-1. ब्रह्मयज्ञ, 2. देवयज्ञ, 3. पितृयज्ञ, 4. वैश्वदेव यज्ञ, 5. अतिथि यज्ञ। ब्रह्मयज्ञ का अर्थ संध्यावंदन, स्वाध्याय तथा वेदपाठ करना। देवयज्ञ अर्थात सत्संग तथा अग्निहोत्र कर्म करना। पितृयज्ञ अर्थात पूर्वज, आचार्य और माता-पिता में श्रद्धा रखते हुए श्राद्ध कर्म करना। वैश्वदेवयज्ञ अर्थात अग्नि, पशु और पक्षी को अन्य जल देना। अंत में अतिथि यज्ञ अर्थात अपंग, महिला, विद्यार्थी, संन्यासी, चिकित्सक और धर्म के रक्षकों की सेवा करना।

8.हिन्दुओं के 10 कर्तव्य और कर्म हैं- संध्योपासन, तीर्थ, पाठ, दान, यज्ञ, व्रत, संस्कार, उत्सव (पर्व-त्योहार जयंती), सेवा और श्राद्ध। इसके अलावा चार पुरुषार्थ है- धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष। यह चारों चार आश्रम पर आधारित हैं- ब्रह्मचर्य, गृहस्थ, वानप्रस्थ और संन्यास।

9.हिन्दू धर्म अनुसार जीवन का लक्ष्य मोक्ष होता है। मोक्ष का अर्थ होता है ज्ञान को उपलब्ध होना, आत्मज्ञान प्राप्त करना या खुद को उस अवस्था में ले आना जहां जन्म और मृत्यु से परे रहकर इच्छा अनुसार जन्म लेना और मरना।

10.हिन्दू धर्म मानता है कि सृष्टि की उत्पत्ति हुई है किसी ने की नहीं है और यह कार्य कोई छह दिन में नहीं हुआ है। इसके लिए अरबों वर्ष लगे हैं। यह मानिए कि परमात्मा या आत्मा ही प्रारंभ में थे। उन्हीं से महत्, महत् से अंधकार, अंधकार से आकाश, आकाश से वायु, आयु से अग्नि, अग्नि से जल, और जल से पृथ्वी (अन्य सभी ग्रह) की उत्पत्ति हुई है। पृथ्वी, जल, वायु, अग्नि, आकाश, मन, बुद्धि और अहंकार यह प्रकृति के आठ तत्व हैं।

11.हिन्दू धर्म पहले संपूर्ण धरती पर व्याप्त था। पहले धरती के सात द्वीप थे- जम्बू, प्लक्ष, शाल्मली, कुश, क्रौंच, शाक एवं पुष्कर। इसमें से जम्बूद्वीप सभी के बीचोबीच स्थित है। राजा प्रियव्रत संपूर्ण धरती के और राजा अग्नीन्ध्र सिर्फ जम्बूद्वीप के राजा थे। जम्बूद्वीप में नौ खंड हैं- इलावृत, भद्राश्व, किंपुरुष, भारत, हरि, केतुमाल, रम्यक, कुरु और हिरण्यमय। इसमें से भारतखंड को भारत वर्ष कहा जाता था। भारतवर्ष के 9 खंड हैं- इसमें इन्द्रद्वीप, कसेरु, ताम्रपर्ण, गभस्तिमान, नागद्वीप, सौम्य, गन्धर्व और वारुण तथा यह समुद्र से घिरा हुआ द्वीप उनमें नौवां है। भारतवर्ष के इतिहास को ही हिन्दू धर्म का इतिहास नहीं समझना चाहिए।

12. ईस्वी सदी की शुरुआत में जब अखंड भारत से अलग दुनिया के अन्य हिस्सों में लोग पढ़ना-लिखना और सभ्य होना सीख रहे थे, तो दूसरीर ओर भारत में विक्रमादित्य, पाणीनी, चाणक्य जैसे विद्वान व्याकारण और अर्थशास्त्र की नई इमारत खड़ी कर रहे थे। इसके बाद आर्यभट्ट, वराहमिहिर जैसे विद्वान अंतरिक्ष की खाक छान रहे थे। वसुबंधु, धर्मपाल, सुविष्णु, असंग, धर्मकीर्ति, शांतारक्षिता, नागार्जुन, आर्यदेव, पद्मसंभव जैसे लोग उन विश्वविद्यालय में पढ़ते थे जो सिर्फ भारत में ही थे। तक्षशिला, विक्रमशिला, नालंदा आदि अनेक विश्व विद्यालयों में देश विदेश के लोग पढ़ने आते थे।


Jainism in the Current Age Overcoming challenges and Understanding Chances

Jainism is facing many difficulties and possibilitie­s now. These change how Jains live­, act, and matter today. Globalization and modern life impact Jains. The­y must also preserve the­ir Jain history and traditions. Jains deal with intricate issues. The­y need wise thought and active­ involvement. Here­, we explore Jainisms comple­x present-day dynamics in depth. We­ look at influences shaping its evolution and approache­s addressing 21st century complexitie­s.Globalization impacts cultural identitie­s worldwide:Our modern era brings incre­ased connections across nations and people­s. This process, globalization, enables cultural e­xchange, diverse inte­ractions, and economic cooperation worldwide. Though it ope­ns doors for cross-cultural dialogue and sharing, globalization also challenges traditional practice­s and beliefs. Jain communities must now navigate­ preserving their he­ritage while adapting to a globalized re­ality. Western influence­s like materialism may conflict with Jain principles of simplicity, non-posse­ssion, and non-violence. There­ are concerns about cultural dilution and losing unique ide­ntities.

Modern days and te­ch growth change many parts of human life, including religion and spirituality for Jains. Te­ch gives chances and challenge­s for keeping and sharing Jain teachings. On one­ side, digital spaces and social media ope­n new ways to spread Jain values and conne­ct with people worldwide. But, te­chs big influence may cause distraction, gre­ed, and move away from Jain ideals of simple­ living. Also, some tech like AI and biote­ch raise questions about ethics and if the­y respect the Jain be­lief of non-violence and re­spect for all life. 

Fire Temples and Parsi Community Culinary Traditions Zoroastrian Cultural Heritage

Zoroastrianism, which is amongst the oldest religious faiths on Earth, has a rich cultural background displayed by its ceremonies, signs, and culinary arts. We will be discussing two important components of Zoroastrian cultural heritage; the symbolism behind Zoroastrian fire temples (Atash Behrams) as well as an exclusive Parsi cuisine that reflects influences from different cultures and religions in this article.

The Importance and Significance of Zoroastrian Fire TemplesZoroastrian fire temples (Atash Behrams) are decorated with deep symbolic meaning and are at the very heart of Zoroastrian religious worship. These houses of worship contain sacred fires that represent divine presence and are therefore held in high regard by followers. 

Normal Flames:Meaning of Fire: In Zoroastrianism, fire represents purity, enlightenment, and Ahura Mazda’s divine presence. The unceasing fire within Atash Behram symbolizes eternal truth lightened with wisdom.

Ceremonial acts & Sacrifices: In front of the sacred flame priests (mobeds) carry out rituals or prayers called Yasna where they offer sandalwood fruits among other items as a show of their love for God’s creation through gratitude while ensuring holiness is maintained by those looking after it.

Ancient Indian Warriors Martial Arts and Military Traditions Revealed

The tales, legends, and historical records of old India never fail to mention how good the Kshatriyas were in warfare. The warrior class of ancient India was truly skilled not only in combat but also had a great knowledge of war methods and tactics as well as weapons. In this article, therefore we will explore the weapons used during their time, training methods they employed and strategies for fighting on battlefield that are described by classics like Dhanurveda.

Kshatriyas’ Role in Ancient India:In ancient Indian society, the Kshatriyas held a special place as defenders or rulers who protected people from external threats while ensuring justice prevails within the state through might. They were trained rigorously since childhood which made them physically tough leaders capable of handling any kind military challenge thrown at them.

Weapons used by Kshatriyas:

Swords and Blades: The Khanda was one among many types of swords known to be used by these warriors; others include Katara which is straight bladed weapon with single edge or sometimes two edges designed for thrusting attacks only. Cuts could also be made using this type of sword if necessary because it had sharp edges too

Religion and Social Concerns Caste Structure and the Empowerment of Women

Hinduism is one of the oldest and most diverse religious traditions in the world. Over the years, it has been deeply connected with social systems and cultural norms which have greatly impacted people’s lives for centuries. This paper will discuss two major social concerns that exist within Hindu society – caste system and women’s status. We will look at their historical background, development over time as well as current challenges faced by them; besides we are going to touch upon attempts made towards changing these aspects taking into consideration insights from Hindu religious texts, historical records and contemporary discourses.

Caste System in Hindu Society: Historical Views and Modern ChallengesThe “varna vyavastha” or caste system is a hierarchical division of people into different groups based on their birth, occupation and social status . There are four main categories under this traditional varna system:

  • Brahmins (Priests): They belong to highest varna who perform priestly duties such as conducting rituals, studying scriptures etc.
  • Kshatriyas (Warriors): This class includes warriors responsible for protecting society against external aggression and ruling kingdoms internally.
  • Vaishyas (Merchants): Members of business community engaged mainly in wealth creation through trade activities like agriculture among others.
  • Shudras (Servants): Labourers performing manual tasks considered inferior by other higher castes; they serve those above them.

Bhagavad Gita, Chapter 2, Verse 26


Bhagavad Gita, Chapter 2, Verse 26:

"Atha chainaṁ nitya-jātaṁ nityaṁ vā manyase mṛtam
Tathāpi tvaṁ mahā-bāho naivaṁ śhochitum-arhasi"

Translation in English:

"If, however, you think that the soul is perpetually born and always dies, still you have no reason to lament, O mighty-armed."

Meaning in Hindi:

"यदि आपको लगता है कि आत्मा सदैव जन्मती रहती है और सदैव मरती रहती है, तो भी, हे महाबाहो! आपको शोक करने के लिए कोई कारण नहीं है।"