श्री कालहस्ती मंदिर आंध्रप्रदेश के चित्तूर जिले में तिरुपति शहर के पास स्थित एक शिव मंदिर है।

दक्षिण भारत में स्थित भगवान शिव के तीर्थस्थानों में इस स्थान का विशेष महत्व है। 

श्रीकालाहस्ती आंध्रप्रदेश के चित्तूर जिले में तिरुपति शहर के पास स्थित श्रीकालहस्ती नामक कस्बे में एक शिव मंदिर है। ये मंदिर पेन्नार नदी की शाखा स्वर्णामुखी नदी के तट पर बसा है और कालहस्ती के नाम से भी जाना जाता है। दक्षिण भारत में स्थित भगवान शिव के तीर्थस्थानों में इस स्थान का विशेष महत्व है। ये तीर्थ नदी के तट से पर्वत की तलहटी तक फैला हुआ है और लगभग 2000 वर्षों से इसे दक्षिण कैलाश या दक्षिण काशी के नाम से भी जाना जाता है। मंदिर के पार्श्व में तिरुमलय की पहाड़ी दिखाई देती हैं और मंदिर का शिखर विमान दक्षिण भारतीय शैली का सफ़ेद रंग में बना है। इस मंदिर के तीन विशाल गोपुरम हैं जो स्थापत्य की दृष्टि से अनुपम हैं।



मंदिर में सौ स्तंभों वाला मंडप है, जो अपने आप में अनोखा है। अंदर सस्त्रशिवलिंग भी स्थापित है, जो यदा कदा ही दिखाई देता है। यहां भगवान कालहस्तीश्वर के संग देवी ज्ञानप्रसूनअंबा भी स्थापित हैं। देवी की मूर्ति परिसर में दुकानों के बाद, मुख्य मंदिर के बाहर ही स्थापित है। मंदिर का अंदरूनी भाग 5वीं शताब्दी का बना है और बाहरी भाग बाद में 12वीं शताब्दी में निर्मित है। मान्यता अनुसार इस स्थान का नाम तीन पशुओं श्री यानी मकड़ी, काल यानी सर्प तथा हस्ती यानी हाथी के नाम पर किया गया है। ये तीनों ही यहां शिव की आराधना करके मुक्त हुए थे।


एक जनुश्रुति के अनुसार मकड़ी ने शिवलिंग पर तपस्या करते हुए जाल बनाया था और सांप ने लिंग से लिपटकर आराधना की और हाथी ने शिवलिंग को जल से स्नान करवाया था। यहाँ पर इन तीनों पशुओं की मूर्तियाँ भी स्थापित हैं। श्रीकालहस्ती का उल्लेख स्कंद पुराण, शिव पुराण और लिंग पुराण जैसे प्राचीन ग्रंथों में भी मिलता है। स्कंद पुराण के अनुसार एक बार इस स्थान पर अर्जुन ने प्रभु कालहस्तीवर का दर्शन किया था। तत्पश्चात पर्वत के शीर्ष पर भारद्वाज मुनि के भी दर्शन किए थे। कहते हैं कणप्पा नामक एक आदिवासी ने यहाँ पर भगवान शिव की आराधना की थी। यह मंदिर राहुकाल पूजा के लिए विशेष रूप से जाना जाता है। इस स्थान के आसपास बहुत से धार्मिक स्थल हैं।

विश्वनाथ मंदिर, कणप्पा मंदिर, मणिकणिका मंदिर, सूर्यनारायण मंदिर, भरद्वाज तीर्थम, कृष्णदेवार्या मंडप, श्री सुकब्रह्माश्रमम, वैय्यालिंगाकोण (सहस्त्र लिंगों की घाटी), पर्वत पर स्थित दुर्गम मंदिर और दक्षिण काली मंदिर इनमें से प्रमुख हैं। यहां का समीपस्थ हवाई अड्डा तिरुपति विमानक्षेत्र है, जो यहाँ से बीस किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। मद्रास-विजयवाड़ा रेलवे लाइन पर स्थित गुंटूर व चेन्नई से भी इस स्थान पर आसानी से पहुँचा जा सकता है। विजयवाड़ा से तिरुपति जाने वाली लगभग सभी रेलगाड़ियां कालहस्ती पर अवश्य रुकती हैं। आंध्र प्रदेश परिवहन की बस सेवा तिरुपति से छोटे अंतराल पर इस स्थान के लिए उपलब्ध है।


Accepting Sikhism: A Spiritual and Serving Journey

1. Foundational Sikh Beliefs: The Guru Granth Sahib, the primary religious text that guides Sikhs, is at the core of Sikhism. The teachings place a strong emphasis on the goal of selfless service, the equality of all people, and the unity of God. Sikhs adhere to the ideal of leading an honest, sincere life while attempting to maintain a harmonic balance between their spiritual and material obligations.

Bhagavad Gita, Chapter 2, Verse 14

Hindi (हिन्दी):
उत्सीदेयुरिमे लोका न कुर्यां कर्म चेदहम्।
सङ्करस्य च कर्ता स्यामुपहन्यामिमाः प्रजाः॥

Meaning (Hindi):
अर्जुन कहते हैं: अगर मैं कर्म को नहीं करता हूँ, तो ये सभी लोग संकर (बाह्य शक्तियों के प्रभाव) के प्रजनक हो जाएँगे, और मैं कर्ता बनूँगा।

English:
Arjuna says: "If I do not perform my duty, all these people will be led astray by the influence of material desires, and I will be responsible for creating confusion in society."

Analyzing the Sikh Gurus Legacy Shining Path

The Sikh Gurus stand as luminaries in the annals of Sikh history, revered for their profound spiritual insights, unwavering commitment to righteousness, and selfless service to humanity. By means of their sacred lives, teachings, and legacies, those first ones established a lively religion for Sikhs to follow into the way of truthfulness, equality, and worship of the heavens; as a result millions people received this way of life.Beginning with Guru Nanak Dev Ji, the founder of Sikhism, each Guru played a pivotal role in shaping the ethos and practices of the Sikh faith. Guru Nanak Dev ji, whose birthplace is Talwandi (this village is now known as Nanakana Sahib), took long journeys throughout geographical locations to spread the ideology of ikonkar (the notion of the formless and the omnipresent divine) together went with his followers and the concept of Simran (meditation on the divine name) and kar sema (selfless service).Guru Nanaks spiritual successor, Guru Angad Dev Ji, continued the mission of spreading Sikh teachings, furthering the practice of Naam Simran and promoting humility as a cornerstone of spiritual growth. Through his leadership, the Gurmukhi script was standardized, which allowed to set apart Sikh scripture as well as its conservation.Guru Angad Dev Jis emphasis on the importance of education and community welfare left an indelible mark on Sikh society.

श्वेतांबर और दिगंबर समाज का पर्युषण पर्व भाद्रपद माह में मनाया जाता है।

इस दिन ऋषि-मुनि अधिक से अधिक धार्मिक ध्यान, यज्ञ और तपस्या करते हैं। एक-दूसरे से माफी मांगना और दूसरों को माफ करना दोस्ती की ओर बढ़ता है।

Bhagavad Gita, Chapter 2, Verse 15

Hindi (हिन्दी):
यं हि न व्यथयन्त्येते पुरुषं पुरुषर्षभ।
समदुःखसुखं धीरं सोऽमृतत्वाय कल्पते॥

English:
yaṁ hi na vyathayantyete puruṣhaṁ puruṣharṣhabha,
sama-duḥkha-sukhaṁ dhīraṁ so'mṛitatvāya kalpate.

Meaning (Hindi):
हे पुरुषोत्तम! जो धीर पुरुष दुःख सुख में समान रहता है, उसे यह सिद्ध हो जाता है कि वह अमरत्व को प्राप्त हो गया है।

Meaning (English):
O best of men (Arjuna), the person who is not disturbed by happiness and distress, and remains steady in both, becomes eligible for liberation and attains immortality.