रमजान का महीना हर मुसलमान के लिए बेहद अहम होता है, जिसमें 30 दिनों तक रोजा रखा जाता है

इस्लाम के अनुसार पूरे रमजान को तीन अशरों में बांटा गया है, जिन्हें पहला, दूसरा और तीसरा अशरा कहा जाता है।

रमजान का महीना हर मुसलमान के लिए बेहद अहम होता है, जिसमें 30 दिनों तक रोजा रखा जाता है। इस्लाम के अनुसार पूरे रमजान को तीन भागों में बांटा गया है, जिन्हें पहला, दूसरा और तीसरा अशरा कहा जाता है। अशरा अरबी का 10वां नंबर है। इस तरह पहला अशरा रमजान के पहले 10 दिन (1-10) में, दूसरा अशरा दूसरे 10 दिन (11-20) में और तीसरा अशरा तीसरे दिन (21-30) में बांटा जाता है। इस तरह रमजान के महीने में 3 अशरे होते हैं। पहला अशरा रहमत का, दूसरा अशरा मगफिरत यानी गुनाहों की माफी का और तीसरा अशरा खुद को नर्क की आग से बचाने के लिए।



रमजान के महीने के बारे में पैगंबर मोहम्मद ने कहा है, रमजान की शुरुआत में रहम है, बीच में मगफिरत (क्षमा) है और इसके अंत में जहन्नम की आग से सुरक्षा है। रमजान के पहले 10 दिनों में रोजा रखने वालों पर अल्लाह की रहमत होती है। रमजान के बीच यानी दूसरे अशरे में मुसलमान अपने गुनाहों से पाक हो सकते हैं। वहीं रमजान के आखिरी यानि तीसरे अशरे में जहन्नम की आग से खुद को बचा सकता है. रमजान के 3 अशरे और उनका महत्व-


1. रमजान का पहला अशरा :-
रमजान के महीने के पहले 10 दिन रहम के होते हैं। रोजा रखने वालों पर अल्लाह की रहमत है। रमजान के पहले अशरे में मुसलमान ज्यादा से ज्यादा दान देकर गरीबों की मदद करें। सबके साथ प्रेम और दया का व्यवहार करना चाहिए।

2. रमजान का दूसरा अशरा :-
दूसरा अशरा रमजान के 11वें दिन से 20वें दिन तक चलता है। यह अशरा क्षमा का है। इस अशरे में पूजा करने से लोगों को अपने पापों से मुक्ति मिल सकती है। इस्लामी मान्यता के अनुसार अगर कोई व्यक्ति रमजान के दूसरे अशरे में अपने गुनाहों (पापों) के लिए माफी मांगता है तो इस समय अल्लाह अपने बंदों को बाकी दिनों की तुलना में जल्दी माफ कर देता है।

3. रमजान का तीसरा अशरा :-
रमजान का तीसरा और आखिरी अशरा 21वें दिन से शुरू होकर चांद के हिसाब से 29 या 30 तारीख तक चलता है. यह अशरा सबसे महत्वपूर्ण माना जाता है। तीसरे अशरे का उद्देश्य स्वयं को नरक की आग से बचाना है। इस दौरान हर मुसलमान को नर्क से बचने के लिए अल्लाह से दुआ करनी चाहिए। रमजान के आखिरी अशरे में कई मुस्लिम पुरुष और महिलाएं एहतकाफ में बैठते हैं। आपको बता दें, एहतकाफ में मुस्लिम पुरुष मस्जिद के कोने में बैठकर 10 दिन तक अल्लाह की इबादत करते हैं, जबकि महिलाएं घर में रहकर इबादत करती हैं।


The Revelation Journey How Islam Was Introduced to Muhammad

Mohammed’s acquaintance with Islam is closely related to his personal experiences, spiritual journey and encounters with divine revelations. He was born in 570 CE in Mecca and grew up among people who practiced polytheism, tribalism and inequalities. Nevertheless, Muhammad’s search for truth and spiritual fulfillment would ultimately lead him to the last messenger of Islam. This narrative explores the different stages of revelation that shaped Muhammad’s understanding of Islam, beginning from his early childhood until the time he received divine revelations.

Early Life and Influences:The Quraysh tribe belonged to Mecca where they had been entrusted with the responsibility of overseeing worship at Kaaba, a holy shrine that housed idols worshipped by pre-Islamic Arabs. Though orphaned at an early age Muhammad lived with his grandfather first then uncle Abu Talib. As a young boy he earned a reputation for honesty, trustworthy and deep thought, which earned him the name “Al-Amin”.

Since his growing years, Muhammad had been exposed to different religious and cultural influences present in Meccan society. The polytheistic belief of the pagans was practiced alongside diluted versions of monotheistic faith inherited from Abraham and Ishmael that were corrupted by idolatry and superstitions. These contrasting world views with which Muhammad grew up would lead him into a path of introspection and spiritual questioning.

चित्रकूट धाम एक भव्य पवित्र स्थान है जहाँ पाँच गाँवों का संगम है, जहाँ भगवान राम, सीता और लक्ष्मण अपने वनवास के दौरान रुके थे।

यह स्थान कर्वी, सीतापुर, कामता, कोहनी, नयागांव जैसे गांवों का संगम है।

Sikh Expressions of Identity and Devotion in Music, Art, and Architecture

Sikhism is a religion that celebrates art and worship as the same. We will look at different types of artistic expression such as music and architecture within this exploration, considering what they mean for Sikh identity and community life.

Art of Sikhism & Iconography:The simplicity of Sikh art lies in its symbolism which revolves around spiritual themes. For example, there are many mediums used including frescos or gurdwara (Sikh temples) decorations; all serve their purpose well by conveying divine messages through visuals alone.

Representations can take the form of paintings or portraits depicting historical events like battles fought between various kings under Muhammad Ghori against Prithviraj Chauhan along with other significant moments from Sikh history up until now such as birth anniversary celebrations dedicated towards Guru Nanak Dev Ji Maharaj who was born on 15th April 1469 AD in Nankana Sahib (now Pakistan).

कोल्हापुर का महालक्ष्मी मंदिर 2 हजार साल पुराना है, जिनमें धार्मिक और पौराणिक कथाओं का इतिहास है।

वैसे तो हमारे देश में देवी लक्ष्मी के कई मंदिर हैं, लेकिन कोल्हापुर में स्थित महालक्ष्मी मंदिर उनमें से बहुत खास है।

मकर संक्रांति हिंदू धर्म के प्रमुख त्योहारों में एक है, तमिलनाडु में इसे पोंगल त्योहार के रूप में मनाया जाता है।

मकर संक्रांति उत्तरायण में सूर्य अस्त होने पर या जब सूर्य उत्तरायण होकर मकर रेखा से गुजरता है तब यह पर्व मनाया जाता है।