हिंदू धर्म के अनुसार, जहां सती देवी के शरीर के अंग गिरे थे, वहां शक्ति पीठ का निर्माण हुआ था, इसे अति पावन तीर्थ कहते हैं।

ये तीर्थ पूरे भारतीय उपमहाद्वीप पर फैले हुए हैं। जयंती देवी शक्ति पीठ भारत के मेघालय राज्य में नर्तियांग नामक स्थान पर स्थित है।

पुराणों के अनुसार सती के मृत शरीर के विभिन्न अंगों से बावन शक्तिपीठों का निर्माण किया गया था। इसके पीछे की कहानी यह है कि दक्ष प्रजापति ने कनखल (हरिद्वार) में 'बृहस्पति सर्व' नामक यज्ञ का निर्माण किया। उस यज्ञ में ब्रह्मा, विष्णु, इंद्र और अन्य देवी-देवताओं को आमंत्रित किया गया था, लेकिन जानबूझकर अपने जमाता को भगवान शंकर नहीं कहा। शंकरजी की पत्नी और दक्ष की पुत्री सती जब उनके पिता को नहीं बुलाया गया और शंकरजी ने उन्हें रोका तो भी वे यज्ञ में भाग लेने गईं। यज्ञ स्थल पर सती ने अपने पिता दक्ष से शंकर को आमंत्रित न करने का कारण पूछा और पिता का घोर विरोध किया।



इस पर दक्ष प्रजापति ने भगवान शंकर को गाली दी। इस अपमान से पीड़ित सती ने यज्ञ-अग्नि में कूदकर अपने प्राण त्याग दिए। इस दुर्घटना के बारे में जब भगवान शंकर को पता चला तो उनका तीसरा नेत्र क्रोध से खुल गया। भगवान शंकर के आदेश पर, उनके गणों के उग्र क्रोध से भयभीत सभी ऋषि यज्ञ स्थल से भाग गए। भगवान शंकर ने यज्ञकुंड से सती के शरीर को निकाल कर अपने कंधे पर उठा लिया और दुःख में इधर-उधर घूमने लगे। तत्पश्चात, पूरे विश्व को प्रलय से बचाने के लिए, दुनिया के पालनकर्ता भगवान विष्णु ने सती के शरीर को एक पहिये से काट दिया।


उसके बाद टुकड़े 52 स्थानों पर गिरे। उन 52 स्थानों को शक्तिपीठ कहा जाता था। दूसरे जन्म में सती ने शिव से हिमालय की पुत्री पार्वती के रूप में विवाह किया। पुराण ग्रंथों, तंत्र साहित्य और तंत्र चूड़ामणि में मिले बावन शक्तिपीठों का विवरण इस प्रकार है। निम्नलिखित सूची 'तंत्र चूड़ामणि' में वर्णित इक्यावन शक्तिपीठों की है। पचपनवां शक्तिपीठ अन्य ग्रंथों पर आधारित है। इन बावन शक्तिपीठों के अलावा देश-विदेश में कई मंदिर मौजूद हैं। नैना देवी पीठ (बिलासपुर) हिमाचल प्रदेश में भी प्रसिद्ध है।

मूर्ति गुफा में स्थित है। कहा जाता है कि यह भी एक शक्तिपीठ है और यहां सती की एक आंख गिरी थी। इसी तरह उत्तराखंड के पर्यटन स्थल मसूरी के पास सुरकंडा देवी का मंदिर है। यह भी शक्तिपीठ है। कहा जाता है कि यहां सती का सिर शरीर से अलग हो गया था। ऐसा माना जाता है कि उत्तर प्रदेश के सहारनपुर के पास एक अत्यंत प्राचीन शक्तिपीठ क्षेत्र में मां का सिर गिरा था, जिसके कारण वहां देवी की पूजा की जाती थी। दुर्गमासुर संहारिणी को शाकंभरी कहा जाता था। यहां भैरव को भूरादेव के नाम से पहली पूजा मिलती है।


The Role of Religious Education Nurturing Minds and Souls

In a world where knowledge is abundant and diverse, there exists a realm of education that transcends the mere acquisition of facts and figures. Religious education, often regarded as the cornerstone of moral and spiritual development, plays a pivotal role in shaping individuals and societies. Beyond imparting doctrinal teachings, religious education fosters empathy, compassion, and a deeper understanding of the human experience. In this blog post, we explore the significance of religious education in nurturing minds and souls, and its impact on personal growth and societal harmony.

धार्मिक और सांस्कृतिक धरोहर की महत्ता

हिन्दू धर्म एक प्राचीन और विशाल धर्म है जो भारतीय सभ्यता का महत्वपूर्ण हिस्सा है। इस धर्म का इतिहास और धार्मिक विचार अनगिनत वर्षों का है, जिसमें कई प्रकार की संप्रदायिकताओं और धार्मिक साधनाओं का समावेश है। हिन्दू धर्म की संस्कृति और तत्व विश्व के किसी भी धर्म या धार्मिक सिद्धांत के साथ मिलान नहीं करती है। इसकी सबसे विशेषता भारतीय उपमहाद्वीप के अलग-अलग क्षेत्रों में विविधता और अनेकता को समेटने की क्षमता है।

अयोध्या: धर्म और सांस्कृतिक महत्व: अयोध्या भारतीय इतिहास और सांस्कृतिक धरोहर में महत्त्वपूर्ण स्थान रखता है। यह स्थल प्राचीन रामायण काल में प्रख्यात राजधानी था, जहां प्रभु राम ने अपने जीवन के अधिकांश समय व्यतीत किया था। अयोध्या का नाम भगवान राम और भक्त रामायण के द्वारा जाना जाता है, और यहां कई महत्वपूर्ण धार्मिक और सांस्कृतिक स्थल हैं जो हिन्दू धर्म के लिए प्रमुख माने जाते हैं।

Accepting the Joyful Starts: Hindu New Year Celebrations

Significance of Hindu New Year: The first day of the Chaitra month, which usually occurs in March or April, is designated as the Hindu New Year. It marks the arrival of spring, a season of rebirth and revitalization for the natural world. Hindu mythology holds that this is the day that the universe's creator, Lord Brahma, began his work. For Hindus, it's a lucky time to start new projects, make big decisions, and ask for blessings for a successful next year.

हम बोधवाद की मूल बातें जानेंगे, इसकी शुरुआत कहाँ से हुई, और इसके पाठ आज क्यों मायने रखते हैं।

उत्पत्ति और ऐतिहासिक संदर्भ . सिद्धार्थ गौतम का जन्म:   बोधवाद की उत्पत्ति सिद्धार्थ गौतम के जीवन से मानी जाती है, जिनका जन्म लगभग 563 ईसा पूर्व नेपाल के लुंबिनी में हुआ था। युवा राजकुमार ने बाद में मानव अस्तित्व के मूलभूत प्रश्नों के उत्तर की तलाश में अपना शाही जीवन त्याग दिया। . बोधि वृक्ष पर खोज:   सिद्धार्थ की यात्रा ने उन्हें बोधगया में बोधि वृक्ष के बारे में गहरी जानकारी दी। इस असाधारण ज्ञानोदय से बोधवाद की शुरुआत हुई, जहाँ सिद्धार्थ को बुद्ध के नाम से जाना जाता था, जिन्हें जागृत व्यक्ति भी कहा जाता था।

. बौद्ध धर्म का मूल:   बौद्ध धर्म का हृदय चार आर्य सत्य हैं, जिन्हें बुद्ध ने अपनी मुख्य शिक्षाओं के रूप में फैलाया। ये सत्य दुख के विचार, यह कहां से आता है, इसे कैसे समाप्त किया जाए और दुख से मुक्ति का मार्ग बताते हैं। . आठ चरणों का मार्ग:   चार मुख्य सत्यों के साथ-साथ आठ-चरणीय पथ भी निहित है, जो नैतिक और मानसिक विकास का एक रोडमैप है। इस पथ में सही समझ, महत्वाकांक्षा, संचार, कार्य, जीवनशैली, प्रयास, सतर्कता और फोकस शामिल हैं।

Bhagavad Gita, Chapter 2, Verse 30

"Dehī nityam avadhyo ’yaṁ dehe sarvasya bhārata
Tasmāt sarvāṇi bhūtāni na tvaṁ śhochitum-arhasi"

Translation in English:

"O descendant of Bharata, he who dwells in the body is eternal and can never be slain. Therefore, you should not grieve for any creature."

Meaning in Hindi:

"हे भारतवंश के संतानों! जो शरीर में वास करने वाला है, वह नित्य है और कभी नष्ट नहीं हो सकता है। इसलिए, तुम्हें किसी भी प्राणी के लिए शोक करने की आवश्यकता नहीं है।"