सिक्खों के छठे गुरु हरगोविन्द सिंह जी को सिख धर्म में वीरता की एक नई मिसाल कायम करने के लिए भी जाना जाता है।

गुरु हरगोविन्द सिंह जी ने सिख समुदाय को सेना के रूप में संगठित होने के लिए प्रेरित किया था, उन्होंने सिख धर्म में एक नई क्रांति को जन्म दिया, जिस पर बाद में सिखों की एक विशाल सेना तैयार की गई।

हरगोविन्द सिंह जी सिक्खों के छठे गुरु थे। नानक शाही पंचांग के अनुसार इस वर्ष गुरु हरगोबिंद जी की जयंती 18 जून को मनाई जाएगी। उन्होंने ही सिख समुदाय को सेना के रूप में संगठित होने के लिए प्रेरित किया। सिखों के गुरु के रूप में उनका कार्यकाल सबसे लंबा था। उन्होंने 37 साल, 9 महीने, 3 दिन तक इस जिम्मेदारी को निभाया। हरगोबिंद साहिब जी का जन्म 21 आषाढ़ (वादी 6) संवत 1652 (19 जून, 1595) को अमृतसर के वडाली गांव में गुरु अर्जन देव के घर में हुआ था। उनके व्यक्तित्व से प्रभावित होकर मुगल बादशाह जहांगीर ने उन्हें और 52 राजाओं को उनकी कैद से मुक्त कराया। उनकी जयंती को 'गुरु हरगोबिंद सिंह जयंती' के रूप में मनाया जाता है। इस शुभ अवसर पर गुरुद्वारों में भव्य कार्यक्रमों के साथ गुरु ग्रंथ साहिब का पाठ किया जाता है। गुरुद्वारों में लंगर का आयोजन किया जाता है। जानिए उनकी जयंती के मौके पर उनके कारनामों की बेहतरीन कहानी।



जीवन परिचय
गुरु हरगोबिंद सिंह का जन्म 21 आषाढ़ (वादी 6) संवत 1652 को अमृतसर के वडाली गाँव में माँ गंगा और पिता गुरु अर्जुन देव के यहाँ हुआ था। 1606 में ही 11 साल की उम्र में उन्हें गुरु की उपाधि मिली। उन्हें यह उपाधि अपने पिता और सिखों के 5वें गुरु अर्जुन देव से मिली थी। गुरु हरगोबिंद सिंह जी को सिख धर्म में वीरता की एक नई मिसाल कायम करने के लिए भी जाना जाता है। वह हमेशा मीरा और पीरी नाम की दो तलवारें अपने साथ रखता था। एक तलवार धर्म के लिए और दूसरी तलवार धर्म की रक्षा के लिए। मुगल शासक जहांगीर के आदेश पर गुरु अर्जुन सिंह को फांसी दिए जाने पर गुरु हरगोबिंद सिंह जी ने सिखों का नेतृत्व संभाला। उन्होंने सिख धर्म में एक नई क्रांति को जन्म दिया, जिस पर बाद में सिखों की एक विशाल सेना तैयार की गई।


जोड़ा नया आदर्श
1627 में जहांगीर की मृत्यु के बाद, नए मुगल सम्राट शाहजहां ने सिखों पर और अधिक कहर बरपाना शुरू कर दिया। तब हरगोबिंद सिंह जी को अपने धर्म की रक्षा के लिए आगे आना पड़ा। सिखों के पहले से स्थापित आदर्शों में हरगोबिंद सिंह जी ने इस आदर्श को जोड़ा था कि सिखों को अपने धर्म की रक्षा करने का अधिकार है, भले ही उन्हें अपनी तलवारों की आवश्यकता हो।


जहांगीर को सपने में मिला था रिहाई का आदेश
सिखों के विद्रोह के बाद मुगल सम्राट जहांगीर ने उन्हें कैद कर लिया था। गुरु हरगोबिंद सिंह जी को 52 राजाओं के साथ ग्वालियर किले में कैद कर लिया गया था। उन्हें बंदी बनाने के बाद जहांगीर मानसिक रूप से परेशान रहने लगा। इस बीच, मुगल बादशाहों के करीबी एक फकीर ने उन्हें तुरंत गुरु हरगोबिंद साहिब को रिहा करने की सलाह दी। यह भी कहा जाता है कि जहांगीर को सपने में गुरुजी को एक फकीर से मुक्त करने का आदेश मिला था। जब गुरु हरगोबिंद को कैद से रिहा किया गया, तो वह अपने साथ कैद 52 राजाओं को रिहा करने के लिए अड़े थे। गुरु गोबिंद सिंह जी ने अन्याय की शिक्षा दी, अधर्म से लड़ना सीखा, गीता में भी यही कहा था।

अपने साथ कराई 52 राजाओं को छुड़ाया
गुरु हरगोबिंद सिंह के कहने पर, 52 राजाओं को भी जहाँगीर की कैद से मुक्त किया गया था। जहाँगीर 52 राजाओं को एक बार में रिहा नहीं करना चाहता था। इसलिए उन्होंने एक कूटनीति की और आदेश दिया कि जो भी राजा गुरु हरगोबिंद साहिब के समर्थन से सामने आ सकते हैं, उन्हें रिहा कर दिया जाएगा। इसके लिए रणनीति बनाई गई कि जेल से छूटने पर नए कपड़े पहनने के नाम पर 52 कलियों का अंगरखा सिल दिया जाए। गुरु जी ने उस अंगरखा को पहन लिया, और 52 राजाओं ने प्रत्येक कली के सिरे को धारण किया और इस प्रकार सभी राजाओं को छोड़ दिया गया। हरगोविंद जी की समझ के कारण उन्हें 'दाता बंदी छोड' के नाम से पुकारा गया।


‘दाता बंदी छोड़ गुरुद्वारा’
बाद में उस स्थान पर एक गुरुद्वारा बनाया गया जहां उन्हें गुरु हरगोबिंद सिंह साहिब के इस पराक्रम को यादगार बनाए रखने के लिए कैद किया गया था। उनके नाम पर बने गुरुद्वारे को 'गुरुद्वारा दाता बंदी छोर' के नाम से जाना जाता है। अपनी रिहाई के बाद, उन्हें फिर से मुगलों के खिलाफ विद्रोह छेड़ते हुए कश्मीर के पहाड़ों में रहना पड़ा। 1644 में पंजाब के किरतपुर में उनकी मृत्यु हो गई।


Exploring Hinduism: A Journey into the Heart of an Ancient Faith

Dharma in Hinduism: Dharma is like a guidebook for living the right way in Hinduism. It's a set of rules that tell us how to be good to everyone and everything. There are rules for how to act in society, how to treat ourselves, and how to respect the world around us. Dharma helps us live in a way that keeps everything in balance, just like the order of the universe.

Come­, dive deep into the­ guiding ideas and rituals that shape Jainism.

 How Jainism Started and Gre­w: Looking to the past, Jainism began in old India, around the 6th ce­ntury BCE. Lord Mahavira, the 24th Tirthankara, started it. Jainism came to e­xist because of the re­ligion and social rules at that time. Its main ideas we­re spiritual knowledge, se­lf-control, and no violence. These­ made Jainism more popular.

Examining Kshatriyas' Identity and Legacy: Keepers of Dharma

Origins and Vedic Period: Four varnas, or classes, comprised ancient Vedic literature, which is where the idea of Kshatriyas originated. The task of defending the kingdom and its subjects fell to the Kshatriyas. They were considered the guardians and fighters, in charge of upholding law and order.

 

भारत के त्योहारों पर नजर डालें तो ज्यादातर त्योहार फसल कटने के बाद ही पड़ते हैं, पोंगल त्योहार भी इनमे से एक है।

अन्य त्योहारों की तरह, पोंगल को उत्तरायण पुण्यकालम के रूप में जाना जाता है जिसका हिंदू पौराणिक कथाओं में विशेष महत्व है।

The Kshatriya Legacy: Upholding Tradition and Courage

The Root of Kshatriya: Guardians of Virtue: The term "Kshatriya" finds its roots in Sanskrit, symbolizing a group dedicated to upholding virtue and righteousness. Historically, Kshatriyas were entrusted with the responsibility of safeguarding societal order and justice.