हिमाचल-उत्तराखंड की सीमा पर यमुना नदी के तट पर सिरमौर नाम से एक जिला है जो पांवटा साहिब गुरुद्वारा स्थित है

पांवटा साहिब के नाम का अर्थ पांवटा साहिब की स्थापना सिखों के दसवें गुरु गोविंद सिंह ने की थी।

इतिहास की दृष्टि से हिमाचल-उत्तराखंड की सीमा पर एक जिला है जो यमुना नदी के तट पर है और इस जिले का नाम सिरमौर है। यहां हम पांवटा साहिब के बारे में जानेंगे, जो सिखों के लिए बेहद अहम जगह है। इस गुरुद्वारे से जुड़ी पूरी कहानी आप जानेंगे, पांवटा साहिब के नाम का अर्थ पांवटा साहिब की स्थापना सिखों के दसवें गुरु गोविंद सिंह ने की थी। इस जगह के बारे में कहा जाता है कि पहले इसका नाम पोंटिका था। पांवटा यानी पैर, इस जगह का नाम अगर आप इसके अर्थ पर गौर करें तो इसका बहुत महत्व है। ऐसा माना जाता है कि सिख गुरु गोबिंद सिंह जी अपने घोड़े पर जा रहे थे और इस स्थान पर आने के बाद उनके घोड़े को पैर लग गए। इसलिए गुरु गोबिंद सिंह जी ने पौन और वैक्सीन जोड़कर पांवटा नाम दिया। गुरु जी ने इस स्थान पर गुरुद्वारा की स्थापना करायी और अपने जीवन के साढ़े चार वर्ष वहीं रहे।



श्री तालाब गुरुद्वारे के अन्दर का वह स्थान है जहाँ से गुरुजी वेतन बाँटते थे और श्रीदास्तर गुरुद्वारा में वह स्थान है जहाँ गुरुजी पगड़ी बाँधने की प्रतियोगिता में निर्णायक हुआ करते थे। गुरुद्वारा में एक संग्रहालय भी है जहां गुरुजी द्वारा इस्तेमाल की गई कलम और उस समय के हथियारों को देखा जा सकता है। पांवटा साहिब की नींव कैसे रखी गई थी? क्या आप जानते हैं कि पांवटा साहिब इस धरती पर एकमात्र ऐसा शहर है जिसका नाम खुद गुरु गोबिंद सिंह ने रखा था? गुरु गोबिंद सिंह जी ने 1685 में 17 वैशाख संवत 1742 को नाहन जाकर पांवटा साहिब की नींव रखी। पौंटा साहिब में साढ़े चार साल रहने के दौरान गुरु गोबिंद सिंह जी ने कई साहित्यिक कृतियों की रचना की, कई गुरुवाणी की रचना की। पुराने साहित्य और ज्ञान की कृतियों को लेखकों ने सरल भाषा में लिखा था।


यहां गुरु द्वारा एक कवि दरबार भी स्थापित किया गया था, जिसमें 52 भाषाओं के विभिन्न कवि थे। कवि के दरबार में पूर्णिमा की रात गुरु जी भी एक विशेष प्रकार के कवि दरबार को सजाते थे। दरअसल, इक्कीसवीं सदी के राजाओं के बीच युद्ध हुआ करता था। ऐसे में हुआ यह कि नाहन रियासत के राजा मेदनी प्रकाश ने श्रीनगर गढ़वाल के राजा फतहशाह ने उनके कुछ इलाके पर कब्जा कर लिया था, लेकिन राजा मेदनी प्रकाश अपने इलाके को आजाद कराना चाहते थे लेकिन सफल नहीं हो पाए. तो ऐसे में राजा ने तपस्वी ऋषि कालपी से परामर्श किया, तब ऋषि ने कहा कि गुरु गोबिंद सिंह जी को अपनी रियासत में बुलाकर राजा उनके कष्ट दूर कर सकते हैं, तब राजा ने गुरु गोबिंद सिंह जी से नाहन आने का अनुरोध किया, जिस पर गुरुजी नाहन पहुंचे।

जहां उनका जोरदार स्वागत किया गया। वहां पहुंचकर गुरु जी ने पूरे क्षेत्र का भ्रमण किया। उन्होंने 1686 में अपनी पहली लड़ाई लड़ी। गुरु गोबिंद सिंह ने 20 साल की छोटी उम्र में यह लड़ाई लड़ी, जिसमें उन्होंने राजा फतेह साहिब को हरा दिया और बिना किसी प्रशिक्षण के बिसधर के राजाओं के खिलाफ सेना बनाई और उनकी 25 हजार सेना को हराया। इस युद्ध से गुरु जी ने अन्याय के विरुद्ध युद्ध छेड़ा और एक के बाद एक 13 युद्ध लड़े। पांवटा साहिब गुरुद्वारे में एक पालकी है जो शुद्ध सोने से बनी है। जो एक भक्त ने दिन में किया है। एक कथा है कि पास में बहने वाली यमुना नदी शोर करती थी लेकिन गुरु गोबिंद सिंह जी के कहने पर शांत हो गई, जिसके बाद गुरु जी यमुना के तट पर बैठकर दशम ग्रंथ लिखने में सक्षम हुए और आज भी यमुना है।


सोमनाथ मन्दिर इतिहास तथा हिन्दुओं के चुनिन्दा और महत्वपूर्ण मन्दिरों में से एक है।

सोमनाथ मन्दिर भारत के 12 ज्योतिर्लिंगों में सर्वप्रथम ज्योतिर्लिंग के रूप में माना व जाना जाता है। 

Is Buddhism a religion or philosophy?

Buddhism can be considered both a religion and a philosophy, depending on how you define these terms.

From a religious perspective, Buddhism involves worshiping Buddha and other enlightened beings, performing rituals, and observing moral precepts. Buddhists also believe in the existence of the realm of rebirth, the cycle of rebirth (reincarnation) and the attainment of enlightenment (nirvana) as the ultimate goal of their spiritual practice.

मणिपुर के लोग कृष्ण भक्ति की रासलीला को वैष्णव पारम्परिक तरीके से मानते हैं।

मणिपुर में 1720 से 1728 तक रामानंदी संप्रदाय के शांति दास नामक एक संत वैष्णव परंपरा का प्रचार करने के लिए राजा के पूर्ण संरक्षण में थे।

Parsi Building Styles and Themes in Art and Architecture

The Parsi communitys art and architecture, so significantly intertwined with their religion and cultural heritage, which spans over centuries, is indeed a manifestation of the strong history of tradition, symbolism, and unique aesthetics. The Parsis, worshipers of Zoroastrianism, have their artistic tradition, which stands out from the rest because of their beliefs, history, and values. Now, we will try to unfold the world of Parsi art and architecture told through symbolic motifs and architectural styles which are the core of this radiant tradition.

The Parsi Faith and Its Impact (on) (the) Culture

If you want to understand Parsi art and architecture, you have to know the fundamental beliefs of Zoroastrianism, the ancient religion of the prophet Zoroaster, the founder of the religion, in ancient Persia. Parsi people, who fled from Persia in ancient times and found themselves in the Indian subcontinent, have been very faithful in preserving their religion and way of life.

Fundamental to Zoroastrianism is the idea of dualism—the continuous battle for the supremacy of Ahura Mazda (the highest spirit of goodness and wisdom) and Angra Mainyu (the destructive spirit of evil). This duality is shown in Parsi art via different images and symbols.

Symbolism in Parsi Art

Parsi art is devoid of symbols that are used to convey their philosophical and spiritual meaning. One of the most outstanding symbols is Faravahar, a side-dewing with a human figure, which symbolizes the Zoroastrian idea of the divine guardian spirit. The recurring theme is found in Parsi architecture, jewelry, and textiles which usually have spiritual implications of the journey and connection with God.

Other symbols frequently found in Parsi art are the Homa-time Sacred Fire, which symbolizes purity and illumination, and the Fravashi, ancestral guardian spirits thought to guard and guide the living. These symbols are not just decorative but they carry so much sense in the daily lives and routines of Parsis.