असम का दौल गोविंदा मंदिर भारत के महत्वपूर्ण मंदिरों में से एक है।

यह उत्तरी गुवाहाटी के राजाद्वार में चंद्र भारती पहाड़ी की तलहटी पर उत्तरी तट पर स्थित है।

दौल गोविंदा मंदिर कामरूप, असम, भारत के महत्वपूर्ण मंदिरों में से एक है। यह उत्तरी गुवाहाटी के राजाद्वार में चंद्र भारती पहाड़ी की तलहटी पर उत्तरी तट पर स्थित है। मंदिर मुख्य रूप से भगवान कृष्ण को समर्पित है। इसके अलावा, उसी परिसर में मंदिर के साथ एक नामघर भी है। मंदिर साल भर खुला रहता है और यहां पहुंचा जा सकता है, लेकिन नवंबर से अप्रैल के महीने में कोई भी नदी के किनारे के रोमांच का आनंद ले सकता है और साथ ही ब्रह्मपुत्र के समुद्र तटों की सफेद रेत पर चल सकता है।



इस देवता के बारे में कई कहानियाँ मौजूद हैं और कैसे 'उन्हें' स्वर्गीय गंगा राम बरुआ द्वारा नलबाड़ी के पास संध्यासर नामक स्थान से यहाँ लाया गया था। दौल गोविंदा मंदिर की पहली संरचना एक सौ पचास साल पहले बनाई गई थी, लेकिन 1966 में इसे फिर से पुनर्निर्मित किया गया था। मंदिर फरवरी-मार्च के महीने में होली समारोह के लिए जाना जाता है। स्थानीय लोगों द्वारा विभिन्न कार्यक्रमों के साथ पांच दिनों तक होली मनाई जाती है और इस दौरान लगभग पांच हजार तीर्थयात्री हमेशा मंदिर परिसर में एकत्रित होते हैं।


इस समय मंदिर के लिए गुवाहाटी से राजाद्वार के लिए विशेष नौका सेवा उपलब्ध है। दौल गोविंदा मंदिर की दैनिक गतिविधियां सुबह सात बजे कपाट खुलने के साथ ही शुरू हो जाती हैं। पुजारी मूर्ति को स्नान कराते हैं और फिर अर्चना करते हैं। इसके एक घंटे बाद से भक्तों का आना शुरू हो जाता है, जो दिन के अंत तक चलता रहता है। इस बीच दोपहर के समय मंदिर बंद रहता है। शाम को भक्ति गीत या 'कीर्तन' गाकर आरती की जाती है। प्रतिदिन दोपहर के समय खुले हॉल में भक्तों के बीच भोग के बाद प्रसाद वितरित किया जाता है।

भक्तों की एक अच्छी संख्या मंदिर प्रबंधन में उनकी ओर से भोग और थगी (सराय) चढ़ाने के लिए या बिना तृष्णा के योगदान देती है। ऐसे भक्तों को काउंटर से घर ले जाने के लिए कुछ मात्रा में भोग मिलता है। आमतौर पर फेरी और स्टीमर फैंसी बाजार फेरी घाट से राजद्वार तक उपलब्ध होते हैं, जो मंदिर तक पहुंचने का सबसे आसान और तेज़ साधन है। राजद्वार पर उतरने के बाद, मंदिर तक पहुँचने के लिए पाँच मिनट की पैदल दूरी है। खरगुली के साथ-साथ अदाबारी और जलुकबाड़ी से भी ट्रेकर्स उपलब्ध हैं।


Dharamgyaan News Provides Sikhism's Religion The foundation

The Golden Temple: Sikhism's Religion Paradise  Readers of Dharamgyaan News are respectfully invited to experience the silence of the Golden Temple, the holiest site in Sikhism. Discover the architectural wonders, heavenly aura, and spiritual significance of this hallowed location, which is a major hub for Sikhs worldwide.

 

विरुपाक्ष मंदिर कर्नाटक राज्य के हम्पी में तुंगभद्रा नदी के तट पर स्थित एक पवित्र स्थान और ऐतिहासिक स्थल है।

पौराणिक कथाओं के अनुसार, जब रावण शिव द्वारा दिए गए शिवलिंग को लेकर लंका जा रहा था, तब वह यहीं रुका था।

Important Jain Concepts Dravya, Pramana, Soul, and Karma

Jainism, one of the oldest religions that began in ancient India, gives deep insights about existence, ethics and spirituality. Fundamental ideas of Jain philosophy include Dravya (substance), Pramana (valid knowledge), Soul (Jiva) and Karma (action and its consequences). This inclusive examination will look into each of these pivotal concepts in Jain religion by clarifying their meanings, importance as well as implications for personal transformation and spiritual growth.

Dravya: The Essence of Existence In Jainism, Dravya signifies the basic substances or categories of reality that make up the universe. According to Jain philosophy, there are six eternal substances which never change; they are known as Dravyas:

  • Jiva (Soul): The sentient conscious being that has individual consciousness and undergoes birth, death, rebirth (samsara).
  • Ajiva (Non-living): The non-sentient inactive entities that exist together with souls but serve as their backdrop in order to make them experience life. Ajive is inclusive of matter (Pudgala), space(Akasha), time(Kala) and motion(Dharma).
  • Pudgala (Matter): Pudgala is a physical world’s material substance made up of atoms, molecules and all solid objects that one can touch. Pudgala has attributes which include; color, taste, smell and touch.
  • Akasha (Space): The space without boundaries between objects in the universe. Akasha enables matter and souls to exist or move about.
  • Kala (Time): Time is an everlasting dimension that never changes and determines the order of events as they happen in life. Time is a continuous flow with moments like past, present and future.
  • Dharma (Motion): Dharma refers to a natural impulse or force that causes objects or entities to move within the universe, interacting with each other. It makes reality dynamic by ensuring a constant change of existence.
  • To understand Jainism worldview it is important to comprehend Dravya– its essence lies in seeing everything around as interconnected whole that cannot be separated from one another. By understanding how Dravyas are interconnected Jains learn to acknowledge the sacredness of existence and reduce violence in their relationships with the world.

श्री स्वामीनारायण मंदिर कालूपुर स्वामीनारायण सम्प्रदाय का पहला मंदिर है, जो एक हिंदू संप्रदाय है।

श्री स्वामीनारायण मंदिर अहमदाबाद के कालूपुर क्षेत्र में स्थित है, जो संप्रदाय के संस्थापक स्वामीनारायण के निर्देश पर बनाया गया था।

Divine Tradition A Study of Jain Holidays and Festivals for Wisdom

Jainism is an ancient religion based on non-violence, compassion, and spiritual austerity which holds a wide range of festivals and celebrations. These demonstrate the richness of its cultural heritage and the depth of its spiritual tradition. Jain festivals are the best times for spiritual renewal, communal bonding, and reaffirmation of Jain values. In this article, we shall go through the lively world of Jain festivals and celebrations where we will reveal their importance, symbolism, and cultural diversity.

Mahavir Jayanti:The most important festival in Jainism is Mahavir Jayanti which marks the birth anniversary of Lord Mahavira, who is considered as the twenty-fourth Tirthankara (spiritual teacher) and founder of Jainism. It is celebrated on the 13th day of the bright half of the Chaitra month according to the Hindu lunar calendar (usually falling in March or April). Devotees celebrate this occasion with great pomp through elaborate ceremonies, devotional prayers as well as spiritual discourses. Jain temples are filled with devotees who come for prayer offering rituals or carrying procession bearing highly decorated idols of Lord Mahavira. The holiday helps people to think about life and teaching oh Lord Mahavira, thus affirming non-violence principles as well as truthfulness.