सतपुड़ा की हरी-भरी पर्वत श्रंखलाओं में 'बावंगाजा' की चर्चा निराली है।

दुनिया की अनोखी मूर्ति और अद्वितीय प्रतिमा बावनगजा

सतपुड़ा की हरी-भरी पर्वत श्रंखलाओं में 'बावंगाजा' की चर्चा निराली है। मध्य प्रदेश के बड़वानी जिले से 8 किमी. दक्षिण में भगवान ऋषभनाथ की चौरासी फीट ऊंची प्रतिमा शास्त्रीय शिल्प का अनूठा नमूना है। यह जैनियों के साथ-साथ पर्यटन, इतिहास, प्रकृति, तैराकी, पर्वतारोहण में रुचि रखने वालों के लिए एक आदर्श स्थान है। विद्वानों ने इस मूर्ति के निर्माण काल ​​को रामायण काल ​​माना है। यह बीसवें तीर्थंकर मुनि सुव्रतनाथ के समय पूरा हुआ था। इसके रचयिता का नाम कहीं भी उत्कीर्ण नहीं है, फिर भी यह सिद्ध क्षेत्र होने के बारे में कहा जाता है कि रावण के भाई कुंभकर्ण और रावण के पुत्र मेघनाद ने यहां मोक्ष प्राप्त किया था। चुलगिरी पर इनका विशाल और भव्य मंदिर है। रावण की पत्नी मंदोदरी ने अस्सी हजार विद्वानों के साथ यहां आर्यिका दीक्षा ली थी। मंदोदरी नामक प्रसिद्ध पहाड़ी पर सती मंदोदरी का महल (जर्जर हालत में) आज भी साक्षी लगता है। 2000 वर्ष पूर्व प्राकृत द्वारा रचित 'निर्वाण कांड' में इसकी महिमा इस प्रकार है।



इसकी प्राचीनता इसके जीर्णोद्धार के इतिहास से भी जानी जाती है। चुलगिरी के सभा मंडप में पूर्व और दक्षिण की ओर उत्कीर्ण शिलालेखों में से एक में 1166 में मुनीराम चंद्र द्वारा मंदिरों के जीर्णोद्धार का उल्लेख है और दूसरे में मुनि देवानंदजी का उल्लेख है। बड़वानी रिसायत के गजेटियर में लिखा है कि 1452 में महमूद खिलजी के समय में मंडलाचार्य श्री रत्नाकीर्ति द्वारा दस जिन-मंदिरों और सूत्र श्लोक के निर्माण के साथ इसका जीर्णोद्धार किया गया था, जब जनवरी के 15 महीने में पौषसुदी में जैन मेले का आयोजन किया गया था। चुलगिरी के मुख्य मंदिर के अलावा यहां 28 अन्य मंदिर, एक मानव स्तंभ, दो सीढ़ी वाली छतरियां हैं। चौथी अवधि की इस मूर्ति और चुलगिरी मंदिर का जीर्णोद्धार सातवीं शताब्दी में धार के परमार राजा के दीवान ने करवाया था। ऐसी और भी घटनाएं हैं जो इसके जीर्णोद्धार के साथ-साथ इसकी प्राचीनता की कहानी भी बयां करती हैं।


इस प्रसिद्ध तीर्थ स्थल के बारे में कहा जाता है कि महान त्यागी-श्रमणों ने इस पर्वत पर तपस्या की और निर्वाण प्राप्त किया। इसलिए इसे सिद्धक्षेत्र कहा जाता है। मूर्ति के बारे में यह प्रचलित है कि इसे राजा नरककीर्ति ने बनवाया था। 12वीं शताब्दी के विद्वान भट्टारक यति मदनकीर्ति ने इस प्रतिमा का वर्णन 'शासन चतुर्षशिका' में किया है। यहां की सबसे ऊंची चोटी चुलगिरी है। इसकी ऊंचाई 4002.6 फीट है। यहां एक चुलगिरी मंदिर भी है। एक अन्य मानव मंदिर भी यहाँ स्थित है। सबसे प्राचीन और प्रमुख जिनालय हैं, जो कला और वैभव से भरपूर हैं, जो चुलगिरी चोटी पर स्थित हैं। इसके गर्भगृह में कुम्भकर्ण और मेघनाद जैसे सिद्धों के दो पैर बनाए गए हैं। इस जगह पर सौ साल पहले से मेले का विवरण मिलता है, लेकिन द्वितीय विश्व युद्ध के बाद यहां कोई मेला नहीं लगता था। इससे पहले पौष सुदी अष्टमी से पूर्णिमा तक हर साल मेला लगता था। वीर निर्वाण संवत 2490 (ई. 1964) में, मुनि निर्मल सागर के चतुर्मास के दौरान, इस पौराणिक प्रतिमा का महामस्तकाभिषेक हुआ।

तब से हर 12 साल के अंतराल पर फिर से कुंभ मेले की तरह मेले का आयोजन होने लगा। इसमें मूर्ति का महाभिषेक सबसे महत्वपूर्ण आयोजन है। अब फिर से हर साल माघ सुदी चौदस पर मेला लगता है। वर्तमान समय में इस क्षेत्र, मूर्ति और मंदिर के जीर्णोद्धार के बाद वर्ष 1991 में पुन: 14 जनवरी 2007 को पंचकल्याण का आयोजन किया गया, तब से इस क्षेत्र की सुंदरता और भी बढ़ गई है। इसमें 10 लाख श्रद्धालु और पर्यटक शामिल हुए। लगभग एक हजार आठ सौ की आबादी वाले बावंगाजा गांव में 125 से अधिक आदिवासी परिवार हैं. यहां मंदोदरी महल भी है। इस जैन मंदिर में जैन मूर्तियाँ हैं। कहा जाता है कि रावण की पत्नी मंदोदरी ने इसी स्थान पर तपस्या की थी। इसके अलावा इस क्षेत्र के आस-पास आवासगढ़, देवगढ़, तोरणमल आदि क्षेत्रों में भी बड़ी संख्या में जैन प्रतिमाएं बिखरी पड़ी हैं। तीर्थयात्रा को और आकर्षक बनाने के लिए यहां एक संग्रहालय भी है। इसमें दो सौ से अधिक पत्थर की मूर्तियां हैं। पचास हेक्टेयर के क्षेत्र में फैला एक सुंदर आदिनाथ वन है।


Christian Social Justice and Ethics Environmental Stewardship and Kindness

Christianity is based on Jesus’ teachings as well as the Bible. As such, it lays great emphasis on living ethically and promoting social justice. This article deals with two main areas of Christian ethics: justice, mercy, and compassion principles in addressing social problems; and environmental stewardship from a Christian viewpoint towards taking care of creation.

Christian Social Morality: Principles of Justice, Mercy, and CompassionChristian social ethics are rooted in the biblical command to love God with all one’s heart, soul, mind, and strength; and to love one’s neighbor as oneself. This principle forms the basis for how Christians should respond to injustices within their communities or around the world.

Principles Of Social Justice:Dignity Of Every Human Being: Christianity preaches that every person is created in God’s image and hence has inherent worth. According to this belief system, human rights should be respected universally by all people without considering their socio-economic status or any other background information about them.

दूनागिरी वह स्थान है जहां कभी ऋषि द्रोण का आश्रम हुआ करता था

दूनागिरी अल्मोड़ा जिले का एक हिल स्टेशन है। अल्मोड़ा जिला मुख्यालय से इसकी दूरी करीब 60 किमी है। यह रानीखेत-कर्णप्रयाग मार्ग पर द्वाराहाट से 15 किमी की दूरी पर स्थित है।