नागेश्वर मंदिर, द्वारका

नागेश्वर मंदिर भगवान शिव को समर्पित एक प्रसिद्ध मंदिर है।

नागेश्वर मंदिर द्वारका, गुजरात के बाहरी इलाके में स्थित है। यह शिव के बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है। हिंदू धर्म के अनुसार नागेश्वर का अर्थ है नागों का देवता। यह विष आदि से सुरक्षा का भी प्रतीक है। रुद्र संहिता में इन देवताओं को दारुकवन नागशम कहा गया है। भगवान शिव का यह प्रसिद्ध ज्योतिर्लिंग गुजरात प्रांत के द्वारका पुरी से लगभग 17 मील की दूरी पर स्थित है। शास्त्रों में इस पवित्र ज्योतिर्लिंग के दर्शन का बड़ा ही महिमामंडन किया गया है। ऐसा कहा गया है कि जो कोई भी भक्ति के साथ इसकी उत्पत्ति और महानता की कहानी सुनता है, उसे सभी पापों से छुटकारा मिल जाता है और सभी सुखों का आनंद मिलता है, अंत में उसे भगवान शिव के परम पवित्र दिव्य निवास की प्राप्ति होती है।



सुप्रिया नाम की एक बहुत ही धर्मपरायण और गुणी वैश्य थी। वह भगवान शिव के अनन्य भक्त थे। वे उनकी पूजा, उपासना और ध्यान में नित्य लीन रहते थे। वह अपना सारा काम भगवान शिव को अर्पित करके करते थे। वह मन, वचन और कर्म से पूरी तरह से शिवार्चन में लीन थे। इस शिव भक्ति से दारुक नाम का एक राक्षस बहुत क्रोधित हुआ करता था। उन्हें भगवान शिव की यह पूजा किसी भी तरह से पसंद नहीं आई। वह लगातार कोशिश करता रहता था कि उस सुप्रिया की पूजा में कोई बाधा न आए। एक बार सुप्रिया नाव पर कहीं जा रही थी। दुष्ट दानव दारुक ने इस अवसर को देखकर नाव पर आक्रमण कर दिया। उसने सभी यात्रियों को नाव में पकड़ लिया और उन्हें अपनी राजधानी में ले जाकर कैद कर लिया। सुप्रिया जेल में भी अपनी दिनचर्या के अनुसार भगवान शिव की पूजा करने लगी।


उन्होंने अन्य बंदी यात्रियों को भी शिव भक्ति के लिए प्रेरित करना शुरू कर दिया। जब दारुक ने अपने नौकरों से सुप्रिया के बारे में यह खबर सुनी, तो वह बहुत क्रोधित हुआ और उस जेल में आ गया। सुप्रिया उस समय दोनों आंखें बंद करके भगवान शिव के चरणों में ध्यान कर रही थीं। उनकी इस मुद्रा को देखकर दैत्य ने उन्हें बहुत भयंकर स्वर में डांटा और कहा - 'हे दुष्ट वैश्य! इस समय आप कौन सी मुसीबत और षडयंत्र के बारे में सोच रहे हैं?' इतना कहने के बाद भी भगवान शिव भक्त सुप्रिया की समाधि भंग नहीं हुई। अब वह दारुक दानव क्रोध से बिलकुल पागल हो गया। उसने तुरंत अपने अनुयायियों को सुप्रिया और अन्य सभी कैदियों को मारने का आदेश दिया। सुप्रिया उसके आदेश से बिल्कुल भी परेशान और भयभीत नहीं थी।

एकाग्र मन से उन्होंने अपनी और अन्य कैदियों की मुक्ति के लिए भगवान शिव से प्रार्थना करना शुरू कर दिया। उन्हें पूर्ण विश्वास था कि मेरे प्रिय भगवान शिव मुझे इस विपदा से अवश्य मुक्ति देंगे। उनकी प्रार्थना सुनकर भगवान शंकरजी तुरंत उस कारागार में एक ऊँचे स्थान पर चमचमाते सिंहासन पर बैठे ज्योतिर्लिंग के रूप में प्रकट हुए। इस तरह वह सुप्रिया को दर्शन दिए और उन्हें अपना पाशुपत-अस्त्र दिया। इस अस्त्र से दैत्य दारुक और उसके सहायक का वध करने के बाद सुप्रिया शिवधाम चली गईं। भगवान शिव की आज्ञा से इस ज्योतिर्लिंग का नाम नागेश्वर पड़ा।


Looking at the Art and Culture of the Kshatriya Religion

The threads of art and culture are twisted very complex in the fabric of human civilization. In Kshatriya religion, artistic expressions and cultural practices are like a Rainbow reflecting mystical key and historical legacy of this ancient tradition. Music beats and dance movements, verses written by poets and paintings made with able brushstrokes form an impressive synthesis between creativity and spirituality in the Kshatriya community. This article takes a journey into various aspects of art including music, dance, literature as well as visual arts that emanate from the religion of Kshatriya to unearth its cultural variety.

Music:Music which is a bridge linking the worldly life and the spiritual world holds the sacred place in Kshatriya tradition. With its roots in ancient Vedic chants and songs, Kshatriya music has a lot of various styles and genres all with spiritual undertones. One of the most well-liked forms of Kshatriya music is mantric devotional singing that consists of syllables with spiritual meaning. These melodies usually along with by musical tools such as harmonium and tabla create incredible exceeding mood, allowing devotees to delve into divine thinking.

Classical Dhrupad represents another significant part of Kshatriyan music, characterized by deep meditative sounds as well as intricate constant patterns. It was sung even in ancient times as it was considered to have been used by warriors before going for war for utilizing bravery within them. Dhrupad is still alive today, thanks to generations after generations of Guru’s who are committed towards its practice and conservation.

Is Buddhism a religion or philosophy?

Buddhism can be considered both a religion and a philosophy, depending on how you define these terms.

From a religious perspective, Buddhism involves worshiping Buddha and other enlightened beings, performing rituals, and observing moral precepts. Buddhists also believe in the existence of the realm of rebirth, the cycle of rebirth (reincarnation) and the attainment of enlightenment (nirvana) as the ultimate goal of their spiritual practice.

Examining the Bright Pattern of Hindu Holidays and Festivities

Hinduism, the most venerated religion in the world, is known for its proliferous rituals and celebrations which For example the multitude of features, sacrality and vivacious character of the followers.From the colorful festivities of Holi to the inspiring joy of Diwali, each festival holds profound importance and offers a glimpse into the deeply rooted traditions and beliefs of Hindu culture. Hindu festivals are diverse and multidimensional, bringing different facets of their stories, traditions and religious values to light. At this lecture, youll get to know them by name.

Diwali - The Festival of Lights:Diwali - The Festival of Lights:Diwali, also known as Deepavali, stands as one of the most celebrated festivals in Hinduism, expressing the victory of light over darkness and good over evil. Usually the festival lasts for five days, and every each day is very meaningful for the community as it is along with by a different set of rituals, traditions and Legends.From the lighting of earthen lamps (diyas) to the bursting of firecrackers, Diwali is a time of joyous celebration and religious renewal, marked by prayers, feasting, and the exchange of gifts. As essential elements standing behind Diwali, are Goddess Lakshmi - the goddess of wealth and prosperity, and Lord Ganesha removing the obstacles that paves a way to blessings and wealth within the home.Holi - The Festival of Colors:Holi - The Festival of Colors:Holi, often referred to as the "festival of colors," is a joyous occasion celebrated with fervor and dedication across India. The festival is the celebration of the Spring as well as the celebrating of the lovely things in the life. It is a period of a show of happiness and good will.The highlight of Holi is the playful throwing of colored powders and water balloons, expressing the triumph of good over evil and the arrival of a new season of growth and renewal. With glory complemented by the cheering festival, Holi holds a high religious importance, which is measured by the Legends of Hindu puranas that revolve around the burning of Holika and the divine love of Radha and Krishna.