जानिए आशूरा' का महत्व और इसके बारे में सबकुछ।

मुस्लिम धर्म के अनुसार शिया समुदाय के लिए ये मातम का माह होता है।

मुस्लिम धर्म में इस्लामी हिजरी के अनुसार मुहर्रम हिजरी कैलेंडर का पहला महीना है। शिया समुदाय के लिए यह शोक का महीना माना जाता है, जिसे वे इमाम हुसैन की शहादत के शोक में मनाते हैं। हिजरी महीने के 10वें दिन को 'मुहर्रम' का सबसे पवित्र दिन माना जाता है क्योंकि हजरत इमाम हुसैन ने इस्लाम की रक्षा के लिए इस दिन अपने प्राण त्याग दिए थे।



इसीलिए 10वें 'मुहर्रम' का सबसे अधिक महत्व है, जिसे 'मुहर्रम' कहा जाता है। इमाम हुसैन की याद में शिया मुसलमान पहले इस दिन ताजिया जुलूस निकालते हैं और फिर उसे कर्बला में दफनाते हैं। मुहर्रम में 'मर्सिया गैया' गाया जाता है। इस दौरान महिलाएं अपना सीना पीटकर मातम मनाती हैं और पुरुष खुद को तलवारों से पीटते हैं। इस दिन, घरों में खिचड़ा या हलीम तैयार किया जाता है।


जो विभिन्न अनाज और मांस के मिश्रण से बनता है, ऐसा माना जाता है कि कर्बला के शहीदों ने हलीम को अपने अंतिम भोजन के रूप में खाया था। यह ज्ञात है कि मुस्लिम देश के लोग 'हिजरी कैलेंडर' का ही पालन करते हैं। मुहर्रम को चार पवित्र महीनों में से एक माना जाता है। मुहर्रम का अर्थ है 'हराम' जिसका अर्थ है 'निषिद्ध'। इस पूरे महीने को अल्लाह का महीना कहा जाता है।

ऐसा माना जाता है कि इस महीने में कर्बला नामक स्थान पर एक धार्मिक युद्ध हुआ, जो पैगंबर हजरत मुहम्मद साहब के पोते और यजीद के बीच हुआ था। इस धार्मिक युद्ध में हज़रत साहब की जीत हुई थी, लेकिन यज़ीद के सेनापति ने इमाम हुसैन और उनके सभी 72 साथियों को धोखे से मार डाला था। जिसमें उनका छह महीने का बेटा हजरत अली असगर भी शामिल था। तभी से इस महीने को दुख, शोक और शहादत का महीना कहा जाता है।


Which is 2nd verse from the Bhagavad Gita?

The Bhagavad Gita, a sacred text of Hinduism, consists of 18 chapters (verses) in total. Each chapter is divided into several verses. The second chapter of the Bhagavad Gita is called "Sankhya Yoga" or "The Yoga of Knowledge."

 

The Bhagavad Gita, a sacred text of Hinduism, consists of 18 chapters (verses) in total. Each chapter is divided into several verses. The second chapter of the Bhagavad Gita is called "Sankhya Yoga" or "The Yoga of Knowledge."

The second verse of the Bhagavad Gita, Chapter 2, is as follows:

"Sanjaya uvacha Tam tatha krpayavishtam ashrupurnakulekshanam Vishidantam idam vakyam uvacha madhusudanah"

Translation: "Sanjaya said: To him who was thus overcome with compassion and afflicted with sorrow, whose eyes were full of tears and who was bewildered, Lord Krishna spoke the following words."

This verse sets the stage for the teachings of Lord Krishna to Arjuna, who is in a state of moral dilemma and emotional distress on the battlefield of Kurukshetra. It highlights Arjuna's emotional state and his readiness to receive Lord Krishna's guidance.

Encouraging Minds: The Changing Face of Education

1. Using Technology to Improve Learning: Technology is becoming a crucial component of education, transforming both teaching and learning. Through virtual classrooms and interactive online courses, educational technology is dismantling boundaries and enabling learning for people all over the world. Artificial intelligence, augmented reality, and e-learning platforms are revolutionizing the classroom experience by creating personalized learning paths that are catered to the individual requirements and learning styles of each student.

hennapur balaji

Mehdipur Balaji Temple is a famous temple of Hanuman ji located in Tehsil (Sikrai) of Rajasthan. Hanuman ji is called Balaji in many parts of India. This place is situated between two hills and looks very attractive.

Islam: Including the Incredible of a Multifaceted and Infinite Religion

Origins and Historical Context: From the Arabian Peninsula, Islam first appeared in the seventh century CE, with its founder Muhammad serving as its last messenger. Islam's sacred book, the Quran, is a compilation of the revelations that Muhammad received. In the Islamic Golden Age, the faith rapidly expanded across continents, influencing a wide range of cultures and fostering the advancement of knowledge, the arts, and science.