मां कल्याणेश्वरी ने पूरी की मनोकामनाएं, नए साल में उमड़ेगी भक्तों की भीड़

मां कल्याणेश्वरी मंदिर में माता के दर्शन के लिए भक्तों की लंबी कतार।

मंदिर के पुजारी शुभंकर देवरिया ने बताया कि नए साल के लिए मंदिर पूरी तरह से तैयार है। भक्तों के लिए मां के द्वार खुले हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना में भी मां कल्याणेश्वरी ने भक्तों से दूरी नहीं बनाई और आशीर्वाद के लिए मां के कपाट हमेशा खुले रहे. मैथन में झारखंड और पश्चिम बंगाल की सीमा पर स्थित प्रसिद्ध कल्याणेश्वरी मंदिर और 500 साल से अधिक पुरानी बराकर नदी की गोद में स्थित प्रसिद्ध कल्याणेश्वरी मंदिर से श्रद्धालु कोरोना महामारी में भी दूर नहीं रहे. और मां कल्याणेश्वरी ने भी भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूरी कीं।



आज हर दिन सैकड़ों लोग माता के चरणों में सिर झुकाते हैं और माता भी उन्हें सभी शुभ होने का आशीर्वाद देती हैं। नए साल के आगमन से पहले मंदिर समिति द्वारा सभी तैयारियां पूरी की जा रही हैं। हुह। इस मंदिर की बहुत पुरानी मान्यता है, पौराणिक कथाओं के अनुसार इस मंदिर का निर्माण पंचकोट के राजा महाराज हरि गुप्त ने तीसरी शताब्दी में करवाया था, जो 500 साल से भी ज्यादा पुराना है। इच्छाएँ अवश्य पूरी होती हैं।


एक अन्य मान्यता के अनुसार यहां पहले मानव बलि दी जाती थी लेकिन बाद में इसे बकरे की बलि में बदल दिया गया। मंदिर में लोगों की पूजा करने के बाद उनकी मनोकामना पूरी करने के लिए आंगन में एक नीम के पेड़ पर पत्थर बांधने की परंपरा है और माना जाता है कि बांधा हुआ पत्थर मन्नत पूरी होने पर अपने आप गिर जाता है। जिसके लिए ज्यादातर लोग पूजा के बाद आंगन में स्थित नीम के पेड़ पर पत्थर बांधते हैं, जो आज भी जारी है। 

मंदिर के पुजारी शुभंकर देवरिया ने बताया कि नए साल के लिए मंदिर पूरी तरह से तैयार है। भक्तों के लिए मां के द्वार खुले हैं। उन्होंने कहा कि कोरोना में भी मां कल्याणेश्वरी ने भक्तों से दूरी नहीं बनाई और आशीर्वाद के लिए मां के कपाट हमेशा खुले रहे. उन्होंने बताया कि कल्याणेश्वरी में, पश्चिम बंगाल और झारखंड के विभिन्न स्थानों से सैकड़ों लोग प्रतिदिन आशीर्वाद लेने आते हैं और बांध की प्राकृतिक सुंदरता का भी लाभ उठाते हैं। और हर कोई यहां पूजा कर अपने शुभ कार्यों की शुरुआत करना चाहता है।


Path of Religion, Success, and Challenges Faced by Jain Women (Sadhvis) in a Traditional Environment

Jainism is one of the oldest religions in the world, famous for its principles of non-violence (ahimsa), empathy and self-control. Jain religious life is dominated by ascetics who give up worldly possessions to concentrate on spiritual matters. Among other known cases of male ascetics (Sadhus), there are also female ascetics called Sadhvis in the Jain religion. This paper will examine how Jain Sadhvis live, what they do, and the difficulties they face while giving an insight into their significant contributions within a patriarchal society.

The Spiritual Journey of Jain Sadhvis: The choice about becoming a Sadhvi is not a simple one; it is a profound calling from God with earnest devotion to Jain norms. Ascetic life styles of Sadhvis include giving away all their material possessions, renouncing family ties, and leaving behind worldly aspirations to be devoted purely to achieving spiritual progress that will ultimately result in release from the cycle of birth and death (moksha).

Giving Up and Beginning: Normally, the journey begins with Diksha ritual for the sadhvi where she renounces her previous life through taking vows on chastity, non-violence, truthfulness, non-attachment and austerity. It marks her initiation into monastic presence after having led a worldly lay person’s life before this stage.

The Path to Enlightenment: Examining the Heart of Bodh Dharma

The Origin of Bodh Dharma: Bodh Dharma, also known as Buddhism, has its origins in the historical person Siddhartha Gautama, who lived in ancient India in the sixth century BCE. Bodh Dharma began with Siddhartha's enlightenment under the Bodhi tree, which resulted from his quest to comprehend the nature of suffering and the way to liberation.

 

Dharam of Hindu: Religion of Indies

In Hinduism, there are a few categories of dharma that direct the moral standards and code of conduct for people. Here are the most categories of dharma:


Sanatana Dharma
Sanatana Dharma, moreover known as Hinduism, is the most seasoned and most broadly practiced religion in India. It could be a way of life that emphasizes ethical and moral values, otherworldly hones, and the interest of self-realization.

Maintaining Parsi Morals: Dissecting the Visible it of the Parsi Society

Traditional Customs: An Overview of Parsi Ceremony Going beyond the widely recognized traditions, let us explore some of the lesser-known Parsi rituals that enrich their cultural past. These customs show a strong bond with their historical origins, from the intricate details of the Navjote ceremony, which starts a child into the Zoroastrian faith, to the spiritual meaning of the Sudreh-Kusti, a holy vest and girdle worn by Parsis.