गुरु नानक ने जब जनेऊ पहनने से इनकार

सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक की 551वीं जयंती गुरु परब है. उनका जन्म कार्तिक पूर्णिमा के दिन हुआ था.

नानक ने सिख धर्म में हिन्दू और इस्लाम दोनों की अच्छाइयों को शामिल किया. हालांकि सिख धर्म हिन्दू और इस्लाम का महज संकलन नहीं है.

गुरु नानक एक मौलिक आध्यात्मिक विचारक थे. उन्होंने अपने विचारों को ख़ास कविताई शैली में प्रस्तुत किया. यही शैली सिखों के धर्मग्रंथ गुरुग्रंथ साहिब की भी है.

गुरु नानक के जीवन के बारे में बहुत कुछ लोगों को पता नहीं है.
हालांकि सिख परंपराओं और जन्म सखियों में उनके बारे काफ़ी जानकारियां हैं. गुरु नानक के अहम उपदेश भी हम तक जन्म सखियों के ज़रिए ही पहुंचे हैं.

बालक नानक का जन्म 1469 में लाहौर से 64 किलोमीटर दूर हुआ था.

सिख परंपराओं में यह बताया जाता है कि नानक के जन्म और शुरुआती साल कई मायनों में ख़ास रहे. कहा जाता है कि ईश्वर ने नानक को कुछ अलग करने के लिए प्रेरित किया था.

नानक का जन्म एक हिन्दू परिवार में हुआ था, लेकिन उन्होंने जल्द ही इस्लाम और व्यापक रूप से हिन्दू धर्म का अध्ययन शुरू किया.

इसका नतीजा यह हुआ कि नानक में बचपन में ही कवि और दर्शन की अद्भुत क्षमता आ गई.

गुरु नानक के बारे में एक प्रसिद्ध कहानी है कि वो 11 साल की उम्र में ही विद्रोही हो गए थे. इस उम्र में हिन्दू लड़के पवित्र जनेऊ पहनना शुरू करते हैं, लेकिन गुरु नानक ने इसे पहनने से इनकार कर दिया था.

उन्होंने कहा था कि लोगों को जनेऊ पहनने के मुक़ाबले अपने व्यक्तिगत गुणों को बढ़ाना चाहिए.



नानक ने एक विद्रोही आध्यात्मिक लाइन को खींचना जारी रखा. उन्होंने स्थानीय साधुओं और मौलवियों पर सवाल खड़ा करना शुरू किया. वो समान रूप से हिन्दू और मुसलमानों पर सवाल खड़ा कर रहे थे. नानक का ज़ोर आंतरिक बदलाव पर था. उन्हें बाहरी दिखावा बिल्कुल पसंद नहीं था.

गुरु नानक ने कुछ वक़्त के लिए मुंशी के तौर पर भी काम किया था, लेकिन कम उम्र में ही ख़ुद को आध्यात्मिक विषयों के अध्ययन में लगा दिया. नानक आध्यात्मिक अनुभव से काफ़ी प्रभावित थे और वो प्रकृति में ही ईश्वर की तलाश करते थे.


नानक का कहना था कि चिंतन के ज़रिए ही आध्यात्म के पथ पर बढ़ा जा सकता है. उनका मानना था कि अपनी जीवनशैली के ज़रिए ही हर इंसान अपने भीतर ईश्वर को देख सकता है.

1496 में नानक की शादी हुई थी. उनका एक परिवार भी था. नानक ने भारत, तिब्बत और अरब से आध्यात्मिक यात्रा की शुरुआत की और यह यात्रा 30 सालों तक चली. इस दौरान नानक ने काफ़ी अध्ययन किया और पढ़े लिखे लोगों से बहस भी की.

इसी क्रम में नानक ने सिख धर्म की राह को आकार दिया और अच्छे जीवन के लिए आध्यात्म को स्थापित किया.

गुरु नानक ने जीवन के आख़िरी वक़्त पंजाब के करतारपुर में गुज़ारे.

यहीं पर उन्होंने अपने उपदेशों से भारी संख्या में अनुयायियों को आकर्षित किया. गुरु नानक का सबसे अहम संदेश था कि ईश्वर एक है और हर इंसान ईश्वर तक सीधे पहुंच सकता है.

इसके लिए कोई रिवाज़ और पुजारी या मौलवी की ज़रूरत नहीं है.

गुरु नानक ने सबसे क्रांतिकारी सुधार जाति व्यवस्था को ख़त्म कर किया. उन्होंने इस चीज़ को प्रमुखता से स्थापित किया कि हर इंसान एक है, चाहे किसी भी जाति या लिंग का हो.


Buddhist Chanting and Music in Various Traditions the Function of Music in Different Buddhist Traditions

Buddhism is a philosophical set of teachings that originated from Siddhartha Gautama who was known as Buddha. Buddhism is over 2,500 years old and it aims at relieving pain as well as the development of the mind. Of all these different practices music and chanting are especially important in different schools of Buddhism. This article is aimed at explaining the occurrence of music and chanting in the context of Buddhism as well as the multifunctional character of the latter.

Buddhist prayer: Concept of music and chantingMusic and chanting in Buddhism are used for a variety of purposes: for providing devotional practices, for ritual, for meditation, as well as for education. These elements are not purely artistic expressions but are rather related to the spiritual goals of the subject. They can be used as a meditation tool, evoke spiritual states, pass the information, and make the audience united.

Theravāda Tradition: Simplicity and DevotionTheravada Buddhism is popular in Sri Lanka Thailand and Myanmar and general is quite conservative as it follows the early texts that were written. The chanting is a major practice in this branch as compared to the music which is rather minimal as compared to others.

Jain Events, Holidays and their Festivals

Jain Festivals and Celebrations: The Importance of Paryushan Parva, Mahavir Jayanti, and Other Jain RemarksJainism is one of the oldest religions in the world that is based on non-violence (ahimsa), truth (Satya), non-stealing (asteya), chastity (brahmacharya) and non-possessiveness (aparigraha). These principles are portrayed through Jain festivals and celebrations which possess a rich cultural background full of deep spiritual meanings, austere practices, and enthusiastic participation by the entire community. Some of these festivals include Paryushan Parva, and Mahavir Jayanti among others.

Paryushan Parva: The Festival of Forgiveness and Self-DisciplineParyushan Parva is known as the most important festival in Jainism which is characterized by deep thoughts, purification of oneself, and renewing one’s spirituality. Every year its celebration takes eight days for Shwetambar Jains while for Digambar Jains it goes on for ten days.

द्वारका श्री कृष्ण की कर्मभूमि है, इसकी पवित्रता के कारण यह सात प्रमुख हिंदू तीर्थस्थलों में से एक और चार धामों में से एक है।

द्वारका दक्षिण-पश्चिम गुजरात राज्य, पश्चिम-मध्य भारत का एक प्रसिद्ध शहर है, जो ओखामंडल प्रायद्वीप के पश्चिमी तट पर स्थित है, जो काठियावाड़ प्रायद्वीप का एक छोटा पश्चिमी विस्तार है।

Ukraine church scrutiny receives plaudits, but there is concern about overreach

The Eastern Orthodox Christians' holiest site, the Monastery of Caves, also known as Kiev Pechersk Lavra, can be seen in an aerial view taken through the morning fog at sunrise on Saturday, November 10, 2018, in Kyiv, Ukraine. On Tuesday, November 22, 2022, the Pechersk Lavra monastic complex, one of the most well-known Orthodox Christian sites in the nation's capital, Kyiv, was searched by members of Ukraine's counterintelligence service, police, and National Guard after a priest there made positive remarks about Russia, the country that had invaded Ukraine, during a service.

Lighting the path and revealing zoroastrianism's foundations, texts, symbols, worship, and festivals

Understanding Zoroastrianism Basics:  This religion taps into good vs. evil at its core. Zoroaster talke­d about one god, Ahura Mazda. This god started everything. He's fighting against evil (Angra Mainyu). Zoroastrianism gives us a world split in two: the good (Ahura Mazda), and the bad (Angra Mainyu). This fight never ends.  Things that matter in Zoroastrianism: think good things, speak kindly, do right. Followers are­ urged to go the good way. They're part of the fight against evil. And good wins in the end!