दक्षिणेश्वर काली मंदिर कलकत्ता के सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है

पर्यटक साल के किसी भी समय यहां घूमने के लिए आ सकते हैं।

दक्षिणेश्वर काली मंदिर एक ऐतिहासिक हिंदू मंदिर है, जो उत्तर कोलकाता में विवेकानंद सेतु के कोलकाता छोर पर, बैरकपुर के पास, हुगली नदी के तट पर स्थित है। इस मंदिर के मुख्य देवता भवतारिणी हैं, जो हिंदू देवी काली माता हैं। यह कलकत्ता के सबसे प्रसिद्ध मंदिरों में से एक है, और कई मायनों में, कालीघाट मंदिर के बाद सबसे प्रसिद्ध काली मंदिर है। इसे 1854 में जान बाजार की रानी रसमनी ने बनवाया था। मंदिर प्रख्यात दार्शनिक और धार्मिक नेता, स्वामी रामकृष्ण परमहंस की कर्मभूमि रहा है, जो बंगाली या हिंदू पुनर्जागरण, दार्शनिक, धार्मिक नेता और रामकृष्ण मिशन के संस्थापक स्वामी विवेकानंद के गुरु थे। . 1857-68 के बीच स्वामी रामकृष्ण इस मंदिर के मुख्य पुजारी थे। उसके बाद उन्होंने इस मंदिर को अपना साधना स्थल बनाया। कई मायनों में इस मंदिर की प्रतिष्ठा और प्रसिद्धि का मुख्य कारण स्वामी रामकृष्ण परमहंस से इसका जुड़ाव है।



मंदिर के मुख्य प्रांगण के उत्तर-पश्चिम कोने में रामकृष्ण परमहंस का कमरा आज भी उनके लिए एक ऐतिहासिक स्मारक के रूप में संरक्षित है, जिसमें भक्त और अन्य आगंतुक प्रवेश कर सकते हैं। दक्षिणेश्वर मंदिर का निर्माण वर्ष 1847 में शुरू हुआ था। जान बाजार की जमींदार रानी रसमनी ने एक सपना देखा था, जिसके अनुसार मां काली ने उन्हें मंदिर बनाने का निर्देश दिया था। इस भव्य मंदिर में मां की मूर्ति को श्रद्धापूर्वक स्थापित किया गया था। मंदिर का निर्माण कार्य 1855 में पूरा हुआ था। यह मंदिर 25 एकड़ के क्षेत्र में स्थित है। दक्षिणेश्वर मंदिर केवल देवी काली के लिए बनाया गया है। दक्षिणेश्वर मां काली का प्रमुख मंदिर है। हजार पंखुड़ियों वाले चांदी से बने कमल के फूल के भीतरी भाग में, लेकिन मां काली भुजाओं के साथ भगवान शिव के शीर्ष पर खड़ी हैं। काली मां का मंदिर एक नवरत्न की तरह बनाया गया है और यह 46 फीट चौड़ा और 100 फीट ऊंचा है।


विशेषण आकर्षण यह है कि पवित्र नदी गंगा जिसे बंगाल में हुगली नदी के नाम से जाना जाता है, इस मंदिर के पास बहती है। इस मंदिर में 12 गुंबद हैं। यह मंदिर हरे भरे मैदान में स्थित है। इस विशाल मंदिर के चारों ओर भगवान शिव के बारह मंदिर स्थापित किए गए हैं। प्रसिद्ध विचारक रामकृष्ण परमहंस ने मां काली के मंदिर में देवी के आध्यात्मिक दर्शन प्राप्त किए थे और उन्होंने इस स्थान पर बैठकर धर्म की एकता के प्रवचन दिए थे। रामकृष्ण इस मंदिर के पुजारी थे और मंदिर में ही रहते थे। उनके कक्ष के द्वार दर्शनार्थियों के लिए सदैव खुले रहते थे। मंच पर एक विशाल भवन के रूप में मां काली का मंदिर स्थित है। इसमें सीढ़ियों से प्रवेश किया जा सकता है। दक्षिण दिशा में स्थित यह मंदिर तीन मंजिला है। शीर्ष दो मंजिलों पर समान रूप से नौ गुंबद हैं। गुम्बदों की छतों पर सुन्दर आकृतियाँ बनाई गई हैं। दक्षिणा मां काली मंदिर के भीतरी स्थल पर भगवान शिव पर विराजमान हैं।

 

भक्त उस पवित्र स्थान के चारों ओर बैठकर पूजा करते हैं जहाँ देवी की मूर्ति रखी जाती है। नट मंदिर दक्षिणेश्वर मां काली मंदिर के सामने स्थित है। मुख्य मंदिर के पास अन्य तीर्थ स्थलों के दर्शन के लिए भक्तों की भीड़ लगी रहती है। दक्षिणेश्वर मां काली का मंदिर दुनिया में सबसे प्रसिद्ध है। मां काली का मंदिर भारत के सांस्कृतिक धार्मिक तीर्थ स्थलों में सबसे पुराना माना जाता है। दक्षिणेश्वर मां काली का मंदिर दुनिया में सबसे प्रसिद्ध है। मां काली का मंदिर भारत के सांस्कृतिक धार्मिक तीर्थ स्थलों में सबसे पुराना माना जाता है। राधाकृष्ण का हॉल मंदिर के उत्तर की ओर स्थित है। पश्चिम की ओर बंगाल के अचला रूप में बारह शिव मंदिर हैं। चांदनी स्नान घाट के चारों ओर शिव के मंदिर हैं। घाट के दोनों ओर छह मंदिर स्थित हैं। अतिथि कक्ष और कार्यालय मंदिर की तीन दिशाओं, उत्तर, पूर्व, पश्चिम में स्थित हैं। पर्यटक साल के किसी भी समय यहां घूमने के लिए आ सकते हैं।


ये है शीश गंज साहिब गुरुद्वारा जहां सिखों के नौवें गुरू ने दिया था अपने जीवन का बलिदान।

शीश गंज साहिब जहां औरंगजेब का घमण्ड तोड़ा गया था, यहाँ धर्म की रक्षा के लिए गुरु तेगबहादुर ने दी थी शहादत। 

त्रियुगीनारायण मंदिर उत्तराखंड के रुद्रप्रयाग जिले के त्रियुगीनारायण गांव में स्थित एक हिंदू मंदिर है।

त्रियुगी-नारायण प्राचीन मंदिर भगवान विष्णु को समर्पित है। भगवान् नारायण भूदेवी तथा लक्ष्मी देवी के साथ विराजमान हैं।

Deciphering the Jain Philosophical Tapestry: Examining Jīva, Ajiva, Asrava, and Bandha

First of all: The ancient Indian religion known as Jainism is well known for its deep philosophical teachings that explore the nature of life and the quest for spiritual enlightenment. The four basic ideas of Jain philosophy are Jīva, Ajiva, Asrava, and Bandha. We go on a journey to understand the nuances of these ideas in this blog post, delving into the core ideas of Jain philosophy and how it affects the lives of its adherents.

 

Islams Current Difficulties Balancing Modernity, Secularism, and Social Justice

To its followers, Islam presents contemporary challenges that need thorough insight and interaction with the present world. The Muslim community is confronted by a range of arguments and dilemmas as it tries to make sense of modernity, secularism, religious pluralism, or social justice. This paper will therefore comprehensively examine these issues to understand how they affect the Islamic faith, identity, and practice.

Modernity and Tradition:Currently, there is one major dilemma facing Islam; it is the ongoing tussle between tradition and modernity. As societies swiftly change because of technology improvements, globalization effects, and shifting cultural considerations; Muslims are faced with the question of how best they can incorporate Islamic teachings into their lives while at the same time meeting the needs of a changing world. Some people are advocating for a progressive interpretation of Islamic principles that takes into account the reality of modern times whereas others argue for the preservation of traditional values. Consequently, we see this tension manifesting in various aspects which include gender roles in society, family dynamics, and approaches to governance and law.

Taking care of Raising Awareness of Mental Health Adaptability and Compassion

Online Worship: Many Hindus now use­ tech for worship. They can now see­ their gods, pray, and watch rituals online.  This doesnt re­place temples, but it he­lps. It makes religion easy to acce­ss from home, or when they cant visit a te­mple.Respect for Nature­: Hindus have always respecte­d nature. Their belie­fs teach them to care for all life­. They plant trees, cle­an rivers, and host green fe­stivals. These acts show their love­ for the environment and he­lp keep nature in balance­.

Religious Talks: Hinduism e­mbraces all faiths, pushing for interfaith talks. This helps to grow unde­rstanding between diffe­rent religious groups. Hindus have re­spectful discussions with other religions. This he­lps society stick together be­tter.Fitness and Inner Pe­ace: Yoga, which started from ancient Hindu ide­as, is loved worldwide. Its for well-be­ing in both mind and body. Hindus dont just see Yoga as a workout but as a spiritual routine too. Yoga is about good he­alth, clear thinking and a kickstart for the spirit. It helps bring out true­ peace from within. A key point in Hindu we­llness.