पिरान कलियार दरगाह पर देश-विदेश से आने वाले तीर्थयात्री कम हो रहे हैं

एक तरफ जहां उत्तराखंड सरकार धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने के दावे कर रही है, वहीं दूसरी तरफ विश्व प्रसिद्ध पिरान कलियार दरगाह सरकार की उदासीनता का शिकार है. ऐसा लगता है कि राज्य सरकार राज्य में पर्यटन को बढ़ावा देने के बड़े-बड़े दावे करने तक ही सीमित है।

एक तरफ जहां उत्तराखंड सरकार धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने के दावे कर रही है, वहीं दूसरी तरफ विश्व प्रसिद्ध पिरान कलियार दरगाह सरकार की उदासीनता का शिकार है. ऐसा लगता है कि राज्य सरकार राज्य में पर्यटन को बढ़ावा देने के बड़े-बड़े दावे करने तक ही सीमित है। सूबे में धार्मिक पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए कई योजनाएं शुरू की गई हैं, लेकिन पीरान कलियार स्थित विश्व प्रसिद्ध साबिर अलाउद्दीन रहमतुल्लाह अलैही की दरगाह शरीफ पर प्रशासन ध्यान नहीं दे रहा है.



विश्व प्रसिद्ध कलियार शरीफ दरगाह और उसके आसपास कुप्रबंधन अपने चरम पर है। साफ-सफाई से लेकर तीर्थयात्रियों के ठहरने तक की समुचित व्यवस्था नहीं है। दरगाह के यात्री डिब्बे की हालत बेहद खराब है। यात्री घर में रहना तो दूर की बात है, लेकिन दुर्गंध के कारण वहां खड़ा होना भी मुश्किल है। मुसाफिरखाना में काफी समय से लोगों का कब्जा है। दरगाह कमेटी ने आंखें बंद कर ली हैं. ऐसा लगता है कि राज्य के पर्यटन विभाग में भी कलियार शरीफ में सुविधाएं मुहैया कराने का जज्बा नहीं है.


इस कारण दरगाह और आसपास के इलाकों की हालत बद से बदतर होती जा रही है। वहीं अगर राज्य के पर्यटन मंत्री की बात करें तो ऐसा लगता है कि विभाग की जिम्मेदारी मिलने के बाद वह कलियार नहीं गए होंगे. फिलहाल पिरान कलियार दरगाह की जिम्मेदारी हरिद्वार जिले के डीएम के पास है। डीएम एचसी सेमवाल के प्रबंधन के बावजूद दरगाह में व्यवस्था का अभाव है. दरगाह की व्यवस्था की जिम्मेदारी डीएम हरिद्वार द्वारा नियुक्त प्रबंधक की होती है।

अगर उत्तराखंड वक्फ बोर्ड की बात करें तो बोर्ड का साफ मानना ​​है कि दरगाह में कुप्रबंधन की स्थिति है, जिससे तीर्थयात्रियों की संख्या कम हो रही है. उत्तराखंड के पिरान कलियार में प्रसिद्ध साबिर अलाउद्दीन रहमतुल्लाह अलैही की दरगाह पर साल भर दूर-दूर से तीर्थयात्रियों का मेला लगता है, लेकिन राज्य पर्यटन विभाग द्वारा यहां कोई व्यवस्था नहीं की जा रही है। राज्य का पर्यटन विभाग चाहे तो दरगाह और आसपास के क्षेत्रों को विकसित कर तीर्थयात्रियों को अच्छी सुविधा मुहैया कराने में मददगार साबित हो सकता है।


Bhagavad Gita, Chapter 2, Verse 18

"Anta-vanta ime dehā nityasyoktāḥ śharīriṇaḥ
Anāśhino ’prameyasya tasmād yudhyasva Bhārata"

Translation in English:

"The material body of the embodied soul is perishable, and the eternal soul within is indestructible, immeasurable, and eternal. Therefore, fight, O Arjuna."

Meaning in Hindi:

"इन शरीरों के अंत में स्थित जो नित्य आत्मा है, वही अविनाशी और अमाप्य है। इसलिए, हे भारत, तू युद्ध कर।"