शहादत की अनूठी मिसाल मुहर्रम, इस्लामिक कैलेंडर के अनुसार मुहर्रम हिजरी संवत का पहला महीना होता है।

मुस्लिम धर्म के अनुसार मुहर्रम पैगंबर मुहम्मद और उनके साथियों के पोते इमाम हुसैन की शहादत की याद में मनाया जाता है।

मुहर्रम इस्लाम को मानने वाले लोगों का प्रमुख त्योहार है। उनके लिए यह महीना काफी विशेषता और महत्व रखता है। मुहर्रम एक ऐसा महीना है जिसमें इमाम हुसैन के शोक में दस दिन मनाए जाते हैं। उसी महीने, मुसलमानों के आदरणीय पैगंबर, पैगंबर मुहम्मद, मुस्तफा (सल्लल्लाहु अलैहि व सल्लम) पवित्र शहर मक्का से मदीना के पवित्र शहर में चले गए।


मुहर्रम का इतिहास :- कर्बला यानी आज का सीरिया जहां 60 हिजरी पर यजीद इस्लाम धर्म का खलीफा बना। वह पूरे अरब में अपना वर्चस्व फैलाना चाहता था, जिसके लिए उसके सामने सबसे बड़ी चुनौती पैगंबर मुहम्मद के परिवार के एकमात्र दीपक इमाम हुसैन थे, जो किसी भी हालत में यज़ीद के आगे झुकने को तैयार नहीं थे। इस वजह से 61 हिजरी से यज़ीद अत्याचार बढ़ने लगे।



ऐसे में बादशाह इमाम हुसैन अपने परिवार और साथियों के साथ मदीना से इराकी शहर कुफ़ा जाने लगे, लेकिन रास्ते में यज़ीद की सेना ने इमाम हुसैन के काफिले को कर्बला के रेगिस्तान में रोक दिया. यह दूसरे मुहर्रम का दिन था, जब हुसैन का काफिला कर्बला के तपते रेगिस्तान में रुका था। पानी का एकमात्र स्रोत यूफ्रेट्स नदी थी, जिस पर यज़ीद की मृत्यु हो गई थी। सेना ने हुसैन के काफिले को 6 मुहर्रम से पानी के लिए रोका था. इसके बावजूद इमाम हुसैन नहीं झुके। यज़ीद के प्रतिनिधियों द्वारा इमाम हुसैन के सामने झुकने का हर प्रयास विफल रहा और अंत में युद्ध की घोषणा की गई। इतिहास कहता है कि हुसैन के 72 वीर जवानों ने यजीद की 80,000 की सेना के सामने जिस तरह से लड़ाई लड़ी, वह दुश्मन सेना का ही उदाहरण है।


सिपाही एक दूसरे को देने लगे। लेकिन हुसैन युद्ध जीतने के लिए कहां आया था, वह अल्लाह की राह में खुद को कुर्बान करने आया था। उन्होंने अपने नाना और पिता द्वारा सिखाए गए अल्लाह के लिए पुण्य, उच्च विचार, आध्यात्मिकता और बिना शर्त प्यार के माध्यम से प्यास, दर्द, भूख और दर्द पर विजय प्राप्त की। दसवें मुहर्रम के दिन तक, हुसैन अपने भाइयों और अपने साथियों के शवों को दफना देंगे। और अंत में वह अकेला ही लड़ा, फिर भी शत्रु उसे मार न सका। आख़िरकार जब इमाम हुसैन अस्र की नमाज़ के समय ख़ुदा को सजदा कर रहे थे तो एक यज़ीदी ने सोचा कि शायद यही हुसैन को मारने का सही समय है। फिर उसने धोखे से हुसैन को मार डाला।

लेकिन इमाम हुसैन अपनी मृत्यु के बाद भी जीवित रहे और हमेशा के लिए अमर हो गए। लेकिन यज़ीद जीत गया कर भी गंवाया।  उसके बाद अरब में क्रांति हुई, हर आत्मा कांप उठी और हर आंख से आंसू छलक पड़े और इस्लाम गालिब हो गया। मुहर्रम में आप क्या करते हैं? मुहर्रम में कई लोग उपवास रखते हैं। पैगंबर मुहम्मद स. उनके पोते की शहादत और कर्बला के शहीदों के बलिदान को याद किया जाता है। कर्बला के शहीदों ने इस्लाम धर्म को नया जीवन दिया था। इस महीने में बहुत से लोग पहले 10 दिनों का उपवास। जो लोग 10 दिनों तक उपवास नहीं कर पाते हैं, वे 9 और 10 तारीख को उपवास करते हैं। इस दिन यहां काफी भीड़ होती है


Middle Field of Islamic Thought in Barzakh

In the pavement of Islamic faith, there is a place joining the earthly life to an afterlife; this place is called Barzakh. This term is derived from Arabic word meaning a barrier or partition separating two things. In Islamic theology, it implies an intermediate state where souls dwell after leaving the realm of living but before the Day of Judgment. The objective of this paper is to explore Barzakh within Islamic belief by investigating its importance, essence and consequences for the soul’s path after death.

Understanding Barzakh:Barzakh holds a significant position in Islamic eschatology which refers to the field of study on end times and life after death. After someone dies, according to Islam teachings their soul moves through various stages until the day judgement comes. In fact, Barzakh happens to be one phase whereby souls are in a stage of transition.

The Nature of Barzakh: This is an area that human beings cannot see therefore describing its nature becomes a complex task. Islamic holy books tend only to mention this space, giving little details about it hence many questions arise due to too much interpretation and thinking about it while scholars and theologians have tried offering solutions based on some Quranic verses, Hadiths (Prophet Muhammad sayings) as well as philosophical reasoning.

Sikh Expressions of Identity and Devotion in Music, Art, and Architecture

Sikhism is a religion that celebrates art and worship as the same. We will look at different types of artistic expression such as music and architecture within this exploration, considering what they mean for Sikh identity and community life.

Art of Sikhism & Iconography:The simplicity of Sikh art lies in its symbolism which revolves around spiritual themes. For example, there are many mediums used including frescos or gurdwara (Sikh temples) decorations; all serve their purpose well by conveying divine messages through visuals alone.

Representations can take the form of paintings or portraits depicting historical events like battles fought between various kings under Muhammad Ghori against Prithviraj Chauhan along with other significant moments from Sikh history up until now such as birth anniversary celebrations dedicated towards Guru Nanak Dev Ji Maharaj who was born on 15th April 1469 AD in Nankana Sahib (now Pakistan).

ये है शीश गंज साहिब गुरुद्वारा जहां सिखों के नौवें गुरू ने दिया था अपने जीवन का बलिदान।

शीश गंज साहिब जहां औरंगजेब का घमण्ड तोड़ा गया था, यहाँ धर्म की रक्षा के लिए गुरु तेगबहादुर ने दी थी शहादत। 

Examining Parsis's Rich History: A Tapestry of Contribution and Culture

Origins of Zoroastrianism: Zoroastrianism is one of the oldest monotheistic religions in the world, and it is the ancestry of the Parsi community. In the seventh century, a group of Zoroastrians fled religious persecution in Persia and took refuge on the western coast of India, where they gave rise to the Parsi community.

 

Islamic Five Pillars A Basis of Belief and Action

It is simply a monotheistic religion that is practiced by many people around the world and has a well-defined system of beliefs and doctrines that are followed by its followers. Five primary duties are recognized in Islam, forming the Five Pillars of Islam which provides the prerequisites and guidelines for worship and ethical being and living. These pillars act as the fundamental principles of the Islamic faith and give Muslims a coherent direction of how they should live their lives in order to be spiritually productive citizens. These are five of the most important principles in the Islamic religion and honoring them takes many forms of rituals and plays a deeper symbolic role in the religion.

Understanding Islam: Thus, it is appropriate to offer a brief overview of these methodologies.However, for an individual to pass through the Five Pillars, one must have some basic understanding of Islam as a religion. Islam the religion of submission, or Islam the religion of ‘’surrender’’ Arabic is defined by the Quran the holy scripture that was revealed to the prophet Mohammed by the Angel Gabriel within a time span of roughly twenty-three years. Muslims are expected to believe and accept Muhammad as the last of the prophets of God in the series of prophets sent to all nations of the world.

The fundamental tenet revolves around a monotheistic concept or the idea of tawhid; this is the belief that the only deity to be worshipped is Allah and that human beings have to surrender themselves wholly to Him. Muslims also follow certain guidelines on moral and ethical conduct as are depicted in the Quran and also the Hadith; which is a recording of the prophet Muhammads word and deeds. All aspects of life are regulated by these principles, whether in the religious sphere, family or community, economic practices, or politics.

The Five Pillars of Islam: A Brief OverviewFive practices central to Islamic belief are collectively referred to as the Five Pillars of Islam, and it is important to know that it is a misconception that these five practices represent five different duties a Muslim needs to perform. Thus they create a regimen of spirit and symbolical reminder and come with a testimony of the holder’s faith in the divine. The Five Pillars are as follows: The Five Pillars are as follows: