ताज उल मस्जिद भोपाल के बारे में जानकारी

ताज-उल मस्जिद न केवल भारत में बल्कि एशिया में सबसे बड़ी मस्जिदों में से एक है।

मध्य प्रदेश के भोपाल शहर को झीलों का शहर कहा जाता है, लेकिन यहां स्थित ताज-उल मस्जिद मुस्लिम धर्म के लोगों के लिए एक महत्वपूर्ण स्थल है। ताज-उल मस्जिद भोपाल में मोतिया तालाब के पास स्थित है। अगर आप भोपाल जाते हैं तो ताज-उल मस्जिद जाए बिना आपकी भोपाल की यात्रा अधूरी है। ताज-उल का अर्थ है "मस्जिदों का ताज"। यह मस्जिद देखने में बहुत ही खूबसूरत है और यहां सजाया गया गुंबद वाकई किसी ताज से कम नहीं लगता है। भोपाल की ताज-उल मस्जिद न केवल भारत में बल्कि एशिया की सबसे बड़ी मस्जिदों में से एक है। ताज-उल मस्जिद को एशिया की दूसरी सबसे बड़ी मस्जिद माना जाता है, लेकिन अगर क्षेत्रफल की दृष्टि से देखा जाए तो यह दुनिया की सबसे बड़ी मस्जिद है। इस मस्जिद की संरचना काफी आकर्षक और राजसी है। बस ताज-उल मस्जिद का इतिहास ही ऐसा था कि इसका निर्माण कार्य शायद ही पूरा हो सके और आज यह इमारत दुनिया की खूबसूरत इमारतों में से एक है। गुलाबी रंग में रंगी ताज-उल मस्जिद में सफेद गुंबदों वाली विशाल मीनारें हैं। बलुआ पत्थर से बनी इस इमारत के बारे में कहा जाता है कि ताज-उल मस्जिद का निर्माण दिल्ली की जामा मस्जिद से प्रेरणा लेकर किया गया था। ताज-उल मस्जिद जामा मस्जिद की नकल है। इसके पीछे भी एक दिलचस्प कहानी है। हर साल यहां तीन दिवसीय इज्तिमा उर्स आयोजित किया जाता है, जिसमें दुनिया भर से लोग भाग लेते हैं। तो आज हम आपको इस लेख के माध्यम से भोपाल शहर के इतिहास और एशिया की सबसे बड़ी मस्जिदों में से एक ताज-उल मस्जिद के बारे में बताते हैं।



1. ताज-उल मस्जिद का निर्माण किसने करवाया था -

ताज-उल मस्जिद का निर्माण भोपाल के नवाब शाहजहां बेगम ने मुगल सम्राट बहादुर शाह जफर के शासनकाल के दौरान शुरू किया था। बता दें कि शाहजहां बेगम बांकी मोहम्मद की पत्नी थीं। उनके बाद उनकी बेटी सुल्तान जहां बेगम ने उनके जीवनकाल में इस मस्जिद का निर्माण कार्य जारी रखा। हालांकि, धन की कमी के कारण इस मस्जिद का निर्माण पूरा नहीं हो सका और शाहजहां बेगम का यह सपना अधूरा रह गया। 1857 के युद्ध के काफी समय बाद भोपाल के अल्लामा इमरान मोहम्मद खान और मौलाना शहीद हशमत अली साहब के प्रयासों से 1971 में एक बार फिर से इसका निर्माण शुरू हुआ, जो 1985 तक चला। हालांकि भारत सरकार ने भी इसके निर्माण में हस्तक्षेप किया, जिसके बाद यह खूबसूरत इमारत पूरी हो सकती थी और आज ताज-उल मस्जिद को दुनिया के खूबसूरत स्मारकों में से एक माना जाता है।


2. ताज-उल मस्जिद का इतिहास -

सिकंदर बेगम ने सबसे पहले ताज-उल मस्जिद को दुनिया की सबसे बड़ी मस्जिद बनाने का सपना देखा था। सिकंदर बेगम भोपाल के बहादुर शाह जफर की पत्नी थीं। इसीलिए सिकंदर बेगम का नाम आज भी ताज-उल मस्जिद के इतिहास से जुड़ा है। जब सिकंदर बेगम ने 1861 में दिल्ली की जामा मस्जिद का दौरा किया, तो उन्होंने देखा कि जामा मस्जिद को ब्रिटिश सेना के स्टड में बदल दिया गया था। फिर उसने अपनी वफादारी के दम पर इस मस्जिद को हासिल कर लिया और यहां शाही इमाम की स्थापना की। जामा मस्जिद से प्रेरित होकर उन्होंने भोपाल में भी ऐसी ही मस्जिद बनाने का संकल्प लिया। सिकंदर बेगम का यह सपना उनके जीवन में अधूरा रह गया, जिसके बाद उनकी बेटी नवाब शाहजहां बेगम ने इसे अपना सपना बना लिया। हालांकि पैसों के अभाव में उनका सपना भी अधूरा रह गया, जिसे उनकी बेटी सुल्तान जहां ने संभाला। लेकिन यह ताज-उल मस्जिद के इतिहास का दुर्भाग्य ही था कि ताज-उल मस्जिद का निर्माण उनके जीवन काल में भी पूरा नहीं हो सका।

3. ताज-उल मस्जिद की वास्तुकला -

ताज-उल मस्जिद का निर्माण मुगल शैली में किया गया था। कहा जाता है कि नवाब शाहजहाँ बेगम अपनी माँ से बहुत प्यार करती थी। अपने सपने को पूरा करने के लिए उसने ताज-उल मस्जिद का वैज्ञानिक नक्शा तैयार किया था। उन्होंने ध्वनि तरंगों के सिद्धांत को ध्यान में रखते हुए 21 खाली गुंबदों की एक संरचना तैयार की कि जब कोई इमाम मुख्य गुंबद के नीचे खड़े होकर कुछ कहता है, तो उसकी आवाज पूरी मस्जिद में गूंज जाएगी। शाहजहाँ बेगम ने मस्जिद को आकर्षक रूप देने के लिए विशेष रूप से विदेशों से 15 लाख का एक पत्थर मंगवाया था। यह पत्थर ऐसा था जिसमें अक्स दिखाई दे रहे थे, इसलिए मौलवियों ने इस पत्थर को मस्जिद में लगाने पर रोक लगा दी। लेकिन याद के तौर पर कुछ ऐसे पत्थर दारुल उलम में आज भी रखे हुए हैं। कहा जाता है कि नवाब शाहजहां बेगम का यह सपना पैसों की कमी और गालों के कैंसर के कारण अधूरा रह गया और मस्जिद का निर्माण भी रुक गया। उनके बाद जहां कहीं भी बेटी सुल्तान अपना सपना पूरा नहीं कर पाई। लेकिन कुछ समय बाद भारत सरकार के हस्तक्षेप के बाद मस्जिद का निर्माण पूरा हो सका। बता दें कि इस मस्जिद के मुख्य वास्तुकार अल्लार खान थे।


कोल्हापुर का महालक्ष्मी मंदिर 2 हजार साल पुराना है, जिनमें धार्मिक और पौराणिक कथाओं का इतिहास है।

वैसे तो हमारे देश में देवी लक्ष्मी के कई मंदिर हैं, लेकिन कोल्हापुर में स्थित महालक्ष्मी मंदिर उनमें से बहुत खास है।

Bhagavad Gita, Chapter 2, Verse 12

न त्वेवाहं जातु नासं न त्वं नेमे जनाधिपाः।
न चैव न भविष्यामः सर्वे वयमतः परम्‌॥

Translation (English):
Never was there a time when I did not exist, nor you, nor all these kings; nor in the future shall any of us cease to be.

Meaning (Hindi):
कभी नहीं था कि मैं न था, न तू था, न ये सभी राजा थे। और भविष्य में भी हम सबका कोई अंत नहीं होगा॥

कामाक्षी अम्मन मंदिर भारत के तमिलनाडु राज्य के कांचीपुरम तीर्थ शहर में स्थित त्रिपुरा सुंदरी के रूप में देवी कामाक्षी को समर्पित एक हिंदू मंदिर है।

कामाक्षी अम्मन मंदिर आदि गुरु शंकराचार्य का नाम भी जुड़ा है।