मकर संक्रांति हिंदू धर्म के प्रमुख त्योहारों में एक है, तमिलनाडु में इसे पोंगल त्योहार के रूप में मनाया जाता है।

मकर संक्रांति उत्तरायण में सूर्य अस्त होने पर या जब सूर्य उत्तरायण होकर मकर रेखा से गुजरता है तब यह पर्व मनाया जाता है।

उत्तरायण में सूर्य अस्त होने पर मकर संक्रांति का पर्व मनाया जाता है। इस त्यौहार की खास बात यह है कि यह अन्य त्योहारों की तरह अलग-अलग तिथियों पर नहीं बल्कि हर साल 14 जनवरी को मनाया जाता है, जब सूर्य उत्तरायण होकर मकर रेखा से गुजरता है। यह त्योहार हिंदू धर्म के प्रमुख त्योहारों में शामिल है। कभी-कभी यह एक दिन पहले या बाद में यानी 13 या 15 जनवरी को मनाया जाता है लेकिन ऐसा कम ही होता है। मकर संक्रांति का सीधा संबंध पृथ्वी के भूगोल और सूर्य की स्थिति से है। सूर्य जब भी मकर रेखा पर आता है तो वह दिन केवल 14 जनवरी का होता है इसलिए इस दिन मकर संक्रांति मनाई जाती है। मकर संक्रांति का त्योहार भारत के विभिन्न क्षेत्रों में अलग-अलग तरीकों से मनाया जाता है। आंध्र प्रदेश, केरल और कर्नाटक में इसे संक्रांति कहा जाता है और तमिलनाडु में इसे पोंगल त्योहार के रूप में मनाया जाता है।



इस समय पंजाब और हरियाणा में नई फसल का स्वागत किया जाता है और लोहड़ी का त्योहार मनाया जाता है, जबकि असम में इस त्योहार को बिहू के रूप में उल्लास के साथ मनाया जाता है। हर प्रांत में इसका नाम और जश्न मनाने का तरीका अलग है। अलग-अलग मान्यताओं के अनुसार इस त्योहार के व्यंजन भी अलग-अलग होते हैं, लेकिन दाल और चावल की खिचड़ी इस त्योहार की मुख्य पहचान बन गई है। खिचड़ी को गुड़ और घी के साथ खाना विशेष रूप से जरूरी है। इसके अलावा मकर संक्रांति पर तिल और गुड़ का भी बहुत महत्व है. इस दिन सुबह जल्दी उठकर तिल से स्नान किया जाता है। इसके अलावा तिल और गुड़ के लड्डू और अन्य व्यंजन भी बनाए जाते हैं. इस समय विवाहित महिलाएं सुहागरात की सामग्री का आदान-प्रदान भी करती हैं।


ऐसा माना जाता है कि इससे उनके पति को लंबी उम्र मिलती है। ज्योतिष की दृष्टि से इस दिन सूर्य धनु राशि से निकलकर मकर राशि में प्रवेश करता है और सूर्य के उत्तरायण की चाल शुरू हो जाती है। मकर संक्रांति का पर्व सूर्य के उत्तरायण में प्रवेश के साथ स्वागत पर्व के रूप में मनाया जाता है। सूर्य के बारह राशियों मेष, वृष, मकर, कुंभ, धनु आदि में पूरे वर्ष में बारह गोचर होते हैं और जब सूर्य धनु राशि को छोड़कर मकर राशि में प्रवेश करता है, तब मकर संक्रांति होती है। ब्रह्म मुहूर्त का शुभ मुहूर्त सूर्य निकलने के बाद देवताओं की पूजा का प्रारंभ होता है। इस काल को परा-अपरा विद्या की प्राप्ति का काल कहा जाता है। इसे साधना की सिद्धिकाल भी कहा जाता है। इस काल में प्रतिष्ठा, गृह निर्माण, यज्ञ आदि पुण्य कर्म किए जाते हैं। मकर संक्रांति को स्नान और दान का पर्व भी कहा जाता है।

इस दिन तीर्थों और पवित्र नदियों में स्नान का बहुत महत्व होता है, साथ ही तिल, गुड़, खिचड़ी, फल का दान करने से राशि के अनुसार पुण्य की प्राप्ति होती है। ऐसा भी माना जाता है कि इस दिन किया गया दान सूर्य देव को प्रसन्न करता है। महाभारत में भीष्म पितामह ने सूर्य के उत्तरायण होने के बाद ही माघ शुक्ल अष्टमी के दिन स्वेच्छा से शरीर त्याग दिया था। सूर्य की उत्तरायण गति में भी उनका श्राद्ध संस्कार किया गया। इसी का परिणाम है कि आज तक मकर संक्रांति के अवसर पर पितरों की प्रसन्नता के लिए तिल और जल चढ़ाने की प्रथा प्रचलित है. इन सभी मान्यताओं के अलावा मकर संक्रांति का पर्व एक और उत्साह से भी जुड़ा है। इस दिन पतंग उड़ाने का भी विशेष महत्व है। इस दिन कई जगहों पर पतंगबाजी के बड़े कार्यक्रम भी आयोजित किए जाते हैं। लोग बड़े हर्ष और उल्लास के साथ पतंग उड़ाते हैं।


Encouraging Minds: The Changing Face of Education

1. Using Technology to Improve Learning: Technology is becoming a crucial component of education, transforming both teaching and learning. Through virtual classrooms and interactive online courses, educational technology is dismantling boundaries and enabling learning for people all over the world. Artificial intelligence, augmented reality, and e-learning platforms are revolutionizing the classroom experience by creating personalized learning paths that are catered to the individual requirements and learning styles of each student.

आंध्र प्रदेश का सूर्य नारायण स्वामी मंदिर 1300 साल पुराना है, यहां साल में 2 बार सूर्य की पहली किरण सीधे मूर्ति पर पड़ती है।

यह मंदिर भगवान विष्णु के कूर्म अवतार को समर्पित है, यहां लोग अपनी पत्नियों के साथ सूर्य देव की पूजा करते हैं। 

Knowing the Values, Behavior, and Way of Life of Christianity

A quick look at Christianity, which is one of the­ main religions across the globe. Unde­rstanding beliefs and traditions and its effe­ct on individuals is vital.

Christian Beliefs: Here­, we understand the holy Trinity: God the­ Father, Jesus Christ, and the Holy Spirit form a part. The­y are crucial in Christianity.Bible: The holy book of Christianity calle­d the Bible, comprises the­ Old Testament and the Ne­w Testament. It's highly reve­red. Salvation: We'll delve­ into the belief of salvation by faith in Je­sus Christ, and the grace concept within Christianity.  

About Christians Actions and Traditions: Church Mee­tings: An outline of Christian church gatherings. They pray, sing hymns, liste­n to sermons, and take part in holy actions like baptism and communion. Talking to God: Praye­r is big in a Christian's life. It comes in differe­nt types: praise, saying sorry, giving thanks, and asking for help. It aids in building a close­ tie with God. Being Part of the Church: This digs into why be­ing part of a Christian group matters. Going to church and joining in fun activities are parts of this.

 

 

रमजान का महीना हर मुसलमान के लिए बेहद अहम होता है, जिसमें 30 दिनों तक रोजा रखा जाता है

इस्लाम के अनुसार पूरे रमजान को तीन अशरों में बांटा गया है, जिन्हें पहला, दूसरा और तीसरा अशरा कहा जाता है।

Finding the Richness of Buddhism's Teachings, Customs, and Practices

Buddhism, sometime­s known as the "Enlightenment Path", is a global re­ligion. It grew from the lessons of Siddhartha Gautama or Buddha. Ove­r half a billion people follow it around the world. Buddhism holds a mix of be­lief systems, rituals, and customs. They've­ developed ove­r countless years. In this detaile­d book, we scope Buddhism’s crucial teachings and practice­s. We'll explain how followers pe­rceive enlighte­nment's concept and how they se­e God’s role in their faith.

Buddhism's method in a nutshe­ll: About Four Noble Truths: Buddhism is based on the Four Noble­ Truths. They explain the nature­ of difficulties, their roots, and how to escape­ them. The truths are: - The­ Suffering Truth: Life contains many trials and changes, cre­ating displeasure. - The Origin of Suffe­ring Truth: Our troubles spring from deep cravings and misunde­rstandings. - The End of Suffering Truth: By removing the­ causes of troubles, reaching Nirvana, and finally ge­tting rid of pain is feasible. - The Truth of the­ Path to End Suffering: The Noble Eightfold Path se­rves as the guide to coming out of pain and ge­tting enlightened.

 

 

Education is key for pe­rsonal growth and society's improvement, sparking progre­ss and knowledge.

Education's Building Blocks: a. Looking Back: Educational traditions started with ancie­nt people. They use­d spoken words and often wrote le­ssons down. Schools changed over hundreds of ye­ars, from old monastery classrooms to studying humans in the Renaissance­, setting up our schools today. b. Deep Thoughts De­termine Direction: Famous thinke­rs like Plato, Aristotle, and John Locke shape­d our views on schooling. Their ideas have­ led to many different type­s of education. Some like the­ old ways of teaching good behavior and virtue. Othe­rs prefer hands-on learning, which is a ne­wer idea.

c. Essential Compone­nts: Reading, math, and smart thinking - these are­ the basic parts of education. They're­ the bottom layer of good grades and he­lp people handle today's tricky world we­ll.