बिहार राज्य के नालंदा ज़िले के पावापुरी में स्थित जल मंदिर

यह जैन धर्म के मतावलंबियो के लिये भी अत्यंत पवित्र माना जाता है क्यों कि भगवान महावीर को यहीं मोक्ष की प्राप्ति हुई थी।

पावापुरी, जिसे पावा भी कहा जाता है, भारत के बिहार राज्य के नालंदा ज़िले में राजगीर और बोधगया के समीप स्थित एक स्थान है। यह जैन धर्म के मतावलंबियो के लिये एक अत्यंत पवित्र शहर है क्यूंकि माना जाता है कि भगवान महावीर को यहीं मोक्ष की प्राप्ति हुई थी। यहाँ के जलमंदिर की शोभा देखते ही बनती है। संपूर्ण शहर कैमूर की पहाड़ी पर बसा हुआ है। 13वीं शती ई॰ में जिनप्रभसूरीजी ने अपने ग्रंथ विविध तीर्थ कल्प रूप में इसका प्राचीन नाम अपापा बताया है।



पावापुरी का अभिज्ञान बिहार शरीफ रेलवे स्टेशन (बिहार) से 9 मील पर स्थित पावा नामक स्थान से किया गया है। यह स्थान राजगृह से दस मील दूर है। भगवान महावीर स्वामी के निर्वाण का सूचक एक स्तूप अभी तक यहाँ खंडहर के रूप में स्थित है। स्तूप से प्राप्त ईटें राजगृह के खंडहरों की ईंटों से मिलती-जुलती हैं। जिससे दोनों स्थानों की समकालीनता सिद्ध होती है। कनिंघम के मत में जिसका आधार शायद बुद्धचरित में कुशीनगर के ठीक पूर्व की ओर पावापुरी की स्थिति का उल्लेख है।


कसिया जो प्राचीन कुशीनगर के नाम से विख्यात है, से 12 मील दूर पदरौना नामक स्थान ही पावा है। जहाँ गौतम बुद्ध के समय मल्ल-क्षत्रियों की राजधानी थी। भगवान महावीर का मोक्ष 72 वर्ष की आयु में हुआ था। जीवन के अंतिम समय में तथागत ने पावापुरी में ठहरकर चुंड का सूकर-माद्दव नाम का भोजन स्वीकार किया था। जिसके कारण अतिसार हो जाने से उनकी मृत्यु कुशीनगर पहुँचने पर हो गई थी।

कनिंघम ने पावा का अभिज्ञान कसिया के दक्षिण पूर्व में 10 मील पर स्थित फ़ाज़िलपुर नामक ग्राम से किया है। जैन ग्रंथ कल्पसूत्र के अनुसार महावीर ने पावा में एक वर्ष बिताया था। यहीं उन्होंने अपना प्रथम धर्म-प्रवचन किया था, इसी कारण इस नगरी को जैन संम्प्रदाय का सारनाथ माना जाता है। महावीर स्वामी द्वारा जैन संघ की स्थापना पावापुरी में ही की गई थी। फाजिलपुर वर्तमान में फाजिलनगर है जिसे पावा नगर भी कहते हैं। यह स्थान उत्तर प्रदेश के कुशीनगर जनपद से 25 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। यहाँ पर भगवान महावीर का एक मंदिर भी है।


शब-ए-बरात की रात सच्चे दिल से अल्लाह की इबादत करते हुए अगर कोई शख्स अपने गुनाहों से तौबा कर लेता है तो अल्लाह उसके सारे गुनाह माफ कर देता है।

 

शब-ए-बरात त्योहार शाबान महीने की 14 तारीख को सूर्यास्त के बाद शुरू होता है और 15 तारीख की शाम तक मनाया जाता है।

Investigating Women's Geography in Hinduism: A Contemplative Trip with DharamGyaan

Hinduism's Feminist Geography: Handling Gender Dynamics DharamGyaan opens the conversation by exploring feminist geography within Hinduism, illuminating the complex network of gender relations woven into religious stories. Read through articles that challenge conventional wisdom in order to create a more inclusive understanding of the roles and experiences that people have within the Hindu community.

 

प्रभु वेंकटेश्वर को भगवान विष्णु अवतार माना जाता है और कहा जाता है कि प्रभु विष्णु ने कुछ समय के लिए स्वामी पुष्करणी नामक सरोवर के किनारे निवास किया था।

इस तिरुपति के चारों ओर स्थित पहाड़ियाँ, शेषनाग के सात फनों के आधार पर बनीं 'सप्तगिरि' कहलाती हैं।

भारत के त्योहारों पर नजर डालें तो ज्यादातर त्योहार फसल कटने के बाद ही पड़ते हैं, पोंगल त्योहार भी इनमे से एक है।

अन्य त्योहारों की तरह, पोंगल को उत्तरायण पुण्यकालम के रूप में जाना जाता है जिसका हिंदू पौराणिक कथाओं में विशेष महत्व है।

Creating Christian Joy: An Beautiful Research of Religion

Scripture-Related Cotton Paintings: Use creativity and your favorite Bible verses to create your own masterpiece. Pick a verse that speaks to you, then use paint, brushes, and a canvas to bring the words to life. As you create your unique scripture-inspired canvas art, feel free to express your creativity with a vibrant portrayal of a significant passage or a mild, simple layout.