मुस्लिम धर्म के त्योहारों में शब-ए-बरात नाम का भी आता है जो पूरी दुनिया में बड़े उत्साह के साथ मनाया जाता है।

इस्लाम धर्म के अनुसार इस त्योहार के दिन अल्लाह कई लोगों को नर्क से मुक्ति दिलाता है।

शब-ए-बारात का त्योहार मुसलमानों द्वारा मनाए जाने वाले प्रमुख त्योहारों में से एक है। इस्लामिक कैलेंडर के अनुसार, यह त्योहार शाबान महीने की 14 तारीख को सूर्यास्त के बाद शुरू होता है और शाबान महीने की 15 तारीख की रात तक चलता है। शब-ए-बरात दो शब्दों से मिलकर बना है। शब और रात, शब का मतलब रात और बारात का मतलब बरी होना, इस त्योहार की रात को मुसलमानों द्वारा बहुत महिमामंडित माना जाता है। ऐसा माना जाता है कि इस दिन अल्लाह कई लोगों को नर्क से मुक्ति दिलाता है। इस त्योहार के इन्हीं महत्व के कारण शब-ए-बरात का यह त्योहार पूरी दुनिया में मुसलमानों द्वारा बहुत उत्साह के साथ मनाया जाता है। हर साल की तरह इस साल भी शब-ए-बरात का पावन पर्व मनाया गया। इस खास दिन की तैयारी कई दिन पहले से की जा रही थी। इस दिन लोगों ने जुलूस निकाला और कब्रिस्तान में नमाज अदा की। इस त्योहार की खुशी में बिहार के रोहतास में शब-ए-बरात के मौके पर उर्स मेले में शामिल होने के लिए हजारों की संख्या में लोग जमा हुए. इसके साथ ही मस्जिदों में लोगों ने विशेष नमाज अदा की और फातिहा भी पढ़ा। इसी तरह शनिवार की रात शब-ए-बारात के मौके पर राजस्थान के बूंदी में दावत इस्लामिक हिंद द्वारा मिरागेट स्थित कब्रिस्तान के चौक पर जुलूस का आयोजन किया गया. इस दौरान मौलाना जावेद मिल दुलानी ने लोगों से अपील की कि वे अपने बच्चों को अच्छी शिक्षा दें ताकि वे पढ़-लिखकर एक काबिल इंसान बन सकें. साथ ही उन्होंने युवाओं से पूजा के पर्व पर दंगा और स्टंट न करने की भी अपील की. हर साल शब-ए-बारात के मौके पर प्रशासन की ओर से लोगों को तेज गति से वाहन न चलाने और स्टंट न करने की चेतावनी दी जाती है, लेकिन इस बार भी जुलूस में शामिल कई युवकों ने अपनी हरकतों से बाज नहीं आए और जमकर हंगामा किया. स्टंट के दौरान पुलिस ने 14 लोगों के खिलाफ भी कार्रवाई की और 11 बाइक जब्त की. इसी तरह राजधानी दिल्ली में भी शब-ए-बरात के दिन स्टंट कर ट्रैफिक नियम तोड़ने पर सैकड़ों लोगों पर जुर्माना लगाया गया.



क्यों मनाया जाता है शब-ए-बरात :-
शब-ए-बारात के त्योहार का इस्लाम में बहुत महत्वपूर्ण स्थान है। मुस्लिम कैलेंडर के अनुसार शाबान महीने की 14 तारीख को सूर्यास्त के बाद दुनिया भर के अलग-अलग देशों में यह त्योहार बड़ी धूमधाम से मनाया जाता है। मुस्लिम धर्म में इस रात को बहुत ही गौरवशाली और महत्वपूर्ण माना जाता है। इस दिन लोग मस्जिदों के साथ-साथ कब्रिस्तानों में नमाज अदा करने जाते हैं।
मान्यता है कि इस दिन पिछले वर्ष किए गए कर्मों का लेखा-जोखा तैयार करने के साथ-साथ आने वाले वर्ष का भाग्य भी तय होता है. यही कारण है कि इस दिन को इस्लामी समुदाय में इतना महत्वपूर्ण स्थान मिला है। इस दिन लोग अपना समय अल्लाह की इबादत में बिताते हैं। इसके साथ ही इस दिन मस्जिदों में नमाज अदा करने वालों की भी भारी भीड़ रहती है। इस्लामी मान्यताओं के अनुसार शब-ए-बरात का त्योहार इबादत और जप का त्योहार है। इस दिन अल्लाह अपने बंदों के अच्छे और बुरे कामों को रिकॉर्ड करता है और कई लोगों को नर्क से भी छुड़ाता है। यही कारण है कि मुस्लिम समुदाय के लोग इस दिन को इतनी धूमधाम से मनाते हैं।
 

शब-ए-बरात कैसे मनाया जाता है - रीति-रिवाज और परंपराएं :-
हर त्योहार की तरह शब-ए-बरात के त्योहार को भी मनाने का अपना एक खास तरीका होता है। इस दिन मस्जिदों और कब्रिस्तानों में विशेष सजावट की जाती है। इसके साथ ही घरों में दीये भी जलाए जाते हैं और लोग अपना समय पूजा-पाठ में बिताते हैं क्योंकि इस दिन पूजा-पाठ, पूजा-पाठ का विशेष महत्व है. ऐसा माना जाता है कि इस दिन रात में भगवान की पूजा करने और अपने पापों की क्षमा मांगने से बहुत अच्छे परिणाम मिलते हैं क्योंकि इस दिन को पापों और पुण्यों की गणना का दिन माना जाता है। इसलिए, इस दिन, लोग अल्लाह से अपने पिछले वर्ष में किए गए पापों और चूकों के लिए क्षमा मांगते हैं, और आने वाले वर्ष के लिए आशीर्वाद मांगते हैं। इसके साथ ही इस दिन कब्रिस्तानों में विशेष सजावट भी की जाती है और दीये जलाए जाते हैं क्योंकि ऐसा माना जाता है कि इस दिन कई आत्माओं को अल्लाह के द्वारा नर्क से मुक्ति मिलती है। माना जाता है कि दुआओं की इस खास रात में साल भर किए जाने वाले काम अल्लाह तय करते हैं और कई काम फरिश्तों को सौंपे जाते हैं. इसके साथ ही इस दिन लोगों द्वारा हलवा खाने की एक विशेष परंपरा भी है, ऐसा माना जाता है कि इसी तिथि को उहुद के युद्ध में मुहम्मद का एक दांत टूट गया था। जिस कारण उन्होंने इस दिन हलवा खाया था, यही कारण है कि इस दिन लोगों को हलवा जरूर खाना चाहिए क्योंकि इस दिन हलवा खाना सुन्नत माना जाता है।


शब-ए-बराती की आधुनिक परंपरा :-
हर त्योहार की तरह आज के समय में भी शब-ए-बरात के त्योहार में कई बदलाव हुए हैं. हालांकि इनमें कई बदलाव बहुत अच्छे हैं और इस त्योहार की लोकप्रियता को बढ़ाने वाले हैं, लेकिन इसके साथ ही इस त्योहार में कुछ ऐसी बुराइयां भी जुड़ गई हैं, जो इस महत्वपूर्ण त्योहार की प्रतिष्ठा को कम करने का काम करती हैं. पहले के मुकाबले आज के समय में इस पर्व की भव्यता काफी बढ़ गई है। इस दिन मस्जिदों और कब्रिस्तानों में विशेष सजावट की जाती है और लोग कब्रिस्तानों में अपने बुजुर्गों और परिवार के सदस्यों की कब्रों पर जाते हैं और दीपक जलाते हैं। यही कारण है कि इस दिन कब्रिस्तान भी रोशनी से जगमगाते हैं और यहां लोगों को मेला देखने को मिलता है। हालांकि इसके साथ ही शब-ए-बरात के इस पर्व में कई कुरुतियों को भी जोड़ा गया है, जो इस पर्व की साख पर छूट देने का काम कर रही है. वैसे तो इस दिन को भगवान की पूजा और अपने बड़ों को याद करने के दिन के रूप में जाना जाता है, लेकिन आज के समय में मुस्लिम बहुल इलाकों और सार्वजनिक स्थानों पर इस दिन युवाओं द्वारा आतिशबाजी और खतरनाक बाइक स्टंट किए जाते हैं। जो न सिर्फ इस त्योहार की छवि खराब करता है बल्कि आम लोगों के लिए भी खतरे का कारण बन जाता है। मौलाना और इस्लामी विद्वानों ने कई बार इन बातों को लोगों को समझाया है, लेकिन लोगों ने इन बातों पर ध्यान नहीं दिया। हमें यह समझना होगा कि शब-ए-बरात का पर्व ईश्वर की पूजा का दिन है न कि आतिशबाजी और खतरनाक स्टंट का, साथ ही हमें अधिक से अधिक प्रयास करना चाहिए कि हम शब-ए-बरात के इस त्योहार को मनाएं। त्योहार के पारंपरिक स्वरूप को बनाए रखें ताकि यह त्योहार अन्य धर्मों के लोगों के बीच भी लोकप्रिय हो सके।

शब-ए-बारात का महत्व :-
शब-ए-बारात के त्योहार का इस्लाम में बहुत महत्वपूर्ण स्थान है। ऐसा माना जाता है कि शाबान महीने की 14 तारीख को सूर्यास्त के बाद मनाए जाने वाले इस त्योहार पर अल्लाह कई लोगों को नर्क से मुक्त करता है। इस रात मुस्लिम धर्म के लोग कब्रिस्तान में जाकर अपने मृत रिश्तेदारों की मुक्ति की दुआ करते हैं और अल्लाह से उनकी मुक्ति की दुआ करते हैं। इसके साथ ही इस दिन लोग अपने अल्लाह से अपने गुनाहों की माफी भी मांगते हैं और इस दिन को अल्लाह की इबादत और कब्रिस्तान में जियारत करने और अपनी हैसियत के मुताबिक दान करने में बिताते हैं। यही कारण है कि इस दिन का इस्लाम धर्म में इतना महत्वपूर्ण स्थान है।


शब-ए-बारात का इतिहास :-
शब-ए-बरात के त्योहार को लेकर कई मान्यताएं और कहानियां प्रचलित हैं। इस त्योहार का इस्लाम में बहुत महत्वपूर्ण स्थान है, इस त्योहार की महानता का वर्णन कुरान और हदीस में ही किया गया है, हालांकि इस त्योहार को मनाने के बारे में शिया और सुन्नी दोनों संप्रदायों के लोगों के अलग-अलग विचार हैं। सुन्नी संप्रदाय के लोग मनाते हैं कि इस दिन अल्लाह साल भर लोगों के पापों और गुणों को दर्ज करता है। दूसरी ओर, शिया संप्रदाय के लोग इस दिन को शिया संप्रदाय के अंतिम इमाम मुहम्मद अल-महदी के जन्मदिन के रूप में मनाते हैं।


शब-ए-बारात से जुड़ी सुन्नी संप्रदाय की मान्यता :-
इस्लाम के सुन्नी संप्रदाय द्वारा यह माना जाता है कि पैगंबर मुहम्मद, अल्लाह के पैगंबर, उहुद की लड़ाई में अपना दांत खो चुके थे। जिस कारण उन्होंने उस दिन हलवा खाया था इसलिए इस दिन हलवा खाना सुन्नत और बहुत शुभ माना जाता था। यही कारण है कि लोग इस दिन हलवा जरूर खाते हैं। ऐसा कहा जाता है कि इस दिन अल्लाह आने वाले साल का भाग्य लिखता है और पिछले साल के पापों और गुणों को दर्ज करता है।


भारत के त्योहारों पर नजर डालें तो ज्यादातर त्योहार फसल कटने के बाद ही पड़ते हैं, पोंगल त्योहार भी इनमे से एक है।

अन्य त्योहारों की तरह, पोंगल को उत्तरायण पुण्यकालम के रूप में जाना जाता है जिसका हिंदू पौराणिक कथाओं में विशेष महत्व है।

Parsi Culture and Heritage by Exploring Traditions, Customs, and Ceremony

The rich culture of the Parsi community is responsible for giving it fame and identity over centuries of existence. With its roots in ancient Persia and that follow global diaspora to India, among other countries, Parsi culture has shown resilience, creative adaption, and strong social connections. This article aims to sail you through a rainbow of symbols that differentiates Parsi community from others including their traditions, beliefs, rituals, art work and eating.

The history of the Parsis can be traced back to ancient Persia where Zoroastrianism evolved as one of the oldest monotheistic religions worldwide. To escape persecution due to religion back in their home country, a small number of Zoroastrians called the Parsis fled to the western coast of India more than one thousand years earlier. However, despite these drawbacks like cultural diversity and language barrier; they survived into Indian society thus contributing immensely towards its cultural economic and societal development.

The Parsi wedding traditions are full of customs and symbolism, which help to illustrate the cultural heritage of the society and religious beliefs. One such is called lagan in which all the rituals are joyful like Achoo mishtu where the couple exchanges flower garlands and Haath Borvanu when bride’s hands are tied with a sacred thread.

गुड फ्राइडे हर साल ईस्टर संडे से पहले शुक्रवार को मनाया जाता है। इसी दिन प्रभु ईसा मसीह को सूली पर चढ़ाया गया था।

प्रभु यीशु मसीह का बलिदान दिवस, गुड फ्राइडे, इस दिन लोग चर्च में सेवा करते हुए अपना दिन बिताते हैं।

Let's explore­ the intriguing Parsi customs and their exe­cution.

Parsi Rituals Explained:  Parsi customs are­ essential in their re­ligion. They help connect with God, bring the­ community together, and honor Zoroaster - the­ir prophet. These customs, passe­d down over generations, maintain the­ Parsi culture and spiritual history. Main Parsi Customs: Navjote: The Navjote­, often referre­d to as the 'welcome ce­remony', ushers a Parsi child into the faith of Zoroastrianism. Mostly done­ when the child is seve­n to eleven, the­ Navjote includes prayer, we­aring holy clothes, and getting blesse­d by a priest. This marks the start of their life­ as practicing Zoroastrians. Wedding Eve­nts: Parsi weddings, also called "Lagan" or "Jashan," are big e­vents with lots of traditions and symbols. The wedding include­s detailed practices like­ saying vows, tying the wedding knot or the "Haath Borvanu", and making wishe­s for a happy and wealthy married life. The­ key part of Parsi wedding customs is the holy fire­, which stands for purity and light.