श्री कालहस्ती मंदिर आंध्रप्रदेश के चित्तूर जिले में तिरुपति शहर के पास स्थित एक शिव मंदिर है।

दक्षिण भारत में स्थित भगवान शिव के तीर्थस्थानों में इस स्थान का विशेष महत्व है। 

श्रीकालाहस्ती आंध्रप्रदेश के चित्तूर जिले में तिरुपति शहर के पास स्थित श्रीकालहस्ती नामक कस्बे में एक शिव मंदिर है। ये मंदिर पेन्नार नदी की शाखा स्वर्णामुखी नदी के तट पर बसा है और कालहस्ती के नाम से भी जाना जाता है। दक्षिण भारत में स्थित भगवान शिव के तीर्थस्थानों में इस स्थान का विशेष महत्व है। ये तीर्थ नदी के तट से पर्वत की तलहटी तक फैला हुआ है और लगभग 2000 वर्षों से इसे दक्षिण कैलाश या दक्षिण काशी के नाम से भी जाना जाता है। मंदिर के पार्श्व में तिरुमलय की पहाड़ी दिखाई देती हैं और मंदिर का शिखर विमान दक्षिण भारतीय शैली का सफ़ेद रंग में बना है। इस मंदिर के तीन विशाल गोपुरम हैं जो स्थापत्य की दृष्टि से अनुपम हैं।



मंदिर में सौ स्तंभों वाला मंडप है, जो अपने आप में अनोखा है। अंदर सस्त्रशिवलिंग भी स्थापित है, जो यदा कदा ही दिखाई देता है। यहां भगवान कालहस्तीश्वर के संग देवी ज्ञानप्रसूनअंबा भी स्थापित हैं। देवी की मूर्ति परिसर में दुकानों के बाद, मुख्य मंदिर के बाहर ही स्थापित है। मंदिर का अंदरूनी भाग 5वीं शताब्दी का बना है और बाहरी भाग बाद में 12वीं शताब्दी में निर्मित है। मान्यता अनुसार इस स्थान का नाम तीन पशुओं श्री यानी मकड़ी, काल यानी सर्प तथा हस्ती यानी हाथी के नाम पर किया गया है। ये तीनों ही यहां शिव की आराधना करके मुक्त हुए थे।


एक जनुश्रुति के अनुसार मकड़ी ने शिवलिंग पर तपस्या करते हुए जाल बनाया था और सांप ने लिंग से लिपटकर आराधना की और हाथी ने शिवलिंग को जल से स्नान करवाया था। यहाँ पर इन तीनों पशुओं की मूर्तियाँ भी स्थापित हैं। श्रीकालहस्ती का उल्लेख स्कंद पुराण, शिव पुराण और लिंग पुराण जैसे प्राचीन ग्रंथों में भी मिलता है। स्कंद पुराण के अनुसार एक बार इस स्थान पर अर्जुन ने प्रभु कालहस्तीवर का दर्शन किया था। तत्पश्चात पर्वत के शीर्ष पर भारद्वाज मुनि के भी दर्शन किए थे। कहते हैं कणप्पा नामक एक आदिवासी ने यहाँ पर भगवान शिव की आराधना की थी। यह मंदिर राहुकाल पूजा के लिए विशेष रूप से जाना जाता है। इस स्थान के आसपास बहुत से धार्मिक स्थल हैं।

विश्वनाथ मंदिर, कणप्पा मंदिर, मणिकणिका मंदिर, सूर्यनारायण मंदिर, भरद्वाज तीर्थम, कृष्णदेवार्या मंडप, श्री सुकब्रह्माश्रमम, वैय्यालिंगाकोण (सहस्त्र लिंगों की घाटी), पर्वत पर स्थित दुर्गम मंदिर और दक्षिण काली मंदिर इनमें से प्रमुख हैं। यहां का समीपस्थ हवाई अड्डा तिरुपति विमानक्षेत्र है, जो यहाँ से बीस किलोमीटर की दूरी पर स्थित है। मद्रास-विजयवाड़ा रेलवे लाइन पर स्थित गुंटूर व चेन्नई से भी इस स्थान पर आसानी से पहुँचा जा सकता है। विजयवाड़ा से तिरुपति जाने वाली लगभग सभी रेलगाड़ियां कालहस्ती पर अवश्य रुकती हैं। आंध्र प्रदेश परिवहन की बस सेवा तिरुपति से छोटे अंतराल पर इस स्थान के लिए उपलब्ध है।


Jain Morality and Religion Guide for Moral Behavior and Soul Growth

Jainism, one of the worlds oldest religions, offers deep insights on reality, human life and moral existence. Jain philosophy is founded on three fundamental ideas; Ahimsa (non-violence), Anekantavada (non-absolutism) and Aparigraha (non- possession). This book provides an in-depth examination of these basic aspects of Jainism such as their meaning, practical implications and transformative value in guiding people towards moral behavior and spiritual development.

The Principle of Non-Violence:The principle of non-violence is described as being not merely the backbone but also the corner stone of Jain philosophy. It goes further than just refraining from physical injury; it encompasses all forms of harm that are inflicted upon sentient beings including psychological, emotional or environmental harm. Ahimsa demands that individuals should acquire compassion, empathy for others and respect for each form of life since all forms are interconnected with a common nature. Jains embrace Ahimsa to avoid causing any suffering if they can help it, to create peaceful relationships with others and maintain harmony in their interaction with the world around them.

तिरुपति में तिरुपति बालाजी का मंदिर (वेंकटेश्वर मंदिर)

श्री वेंकटेश्वर स्वामी वारी मंदिर भारत के आंध्र प्रदेश के तिरुपति जिले में तिरुपति के पहाड़ी शहर तिरुमाला में स्थित एक हिंदू मंदिर है। मंदिर विष्णु के एक रूप वेंकटेश्वर को समर्पित है, जिनके बारे में माना जाता है कि वे मानव जाति को कलियुग के परीक्षणों और परेशानियों से बचाने के लिए पृथ्वी पर प्रकट हुए थे।

Navroz: A Parsi New Year's Celebration of Accepting New Beginnings

Meaning in Culture: Navroz, which translates to "New Day," has its origins in antiquated Zoroastrian customs. It represents the arrival of prosperity and progress as well as the victory of light over darkness. Navroz, which falls on the vernal equinox, is widely observed by Zoroastrians, especially those of the Parsi community in India.