Hindu

  • Home    >
  • Hindu
blog_img
  • 12
  • November

कार्तिक पूर्णिमा का पर्व कार्तिक शुक्ल पूर्णिमा के दिन पड़ता है.

इस दिन भगवान शिव ने त्रिपुरासुर राक्षस का वध किया था, इसलिए इसे त्रिपुरी पूर्णिमा के नाम से जाना जाता है। 


कार्तिक पूर्णिमा का पर्व कार्तिक शुक्ल पूर्णिमा के दिन पड़ता है. इसी दिन भगवान शिव ने त्रिपुरासुर राक्षस का वध किया था, इसलिए इसे त्रिपुरी पूर्णिमा के नाम से जाना जाता है। इसका दूसरा नाम गंगा स्नान भी है। इस विशेष अवसर पर नदी स्नान, दीपदान, पूजा-आरती, हवन और दान का बहुत महत्व माना जाता है। कार्तिक पूर्णिमा के दिन गंगा नदी में स्नान करने से भी वर्ष भर स्नान करने का फल मिलता है। ऐसी मान्यता है कि इस दिन कोई भी व्यक्ति स्नान किए बिना नहीं रहना चाहिए। इसी दिन सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव जी का जन्म हुआ था। इस दिन को रोशनी के त्योहार के रूप में मनाया जाता है।


आइए जानते हैं आज क्या करें-
1. इस दिन पूरे घर की सफाई करें, घर को बिल्कुल भी गंदा न रखें, मान्यता के अनुसार ऐसा करने से घर में धन की देवी लक्ष्मी का आगमन होता है.
2. कार्तिक पूर्णिमा के दिन घर के दरवाजों को माल्यार्पण से सजाएं।
3. घर के दरवाजे के सामने स्वस्तिक बनाएं।


4. कार्तिक पूर्णिमा के दिन कार्तिक पूर्णिमा के दिन भगवान विष्णु और मां लक्ष्मी की पूजा करें.
5. इस दिन संभव हो तो चावल, चीनी और दूध का दान करें या नदी में थोड़ी सी मात्रा में डालने से अक्षय पुण्य की प्राप्ति होती है.
6. कार्तिक पूर्णिमा पर चंद्र दर्शन अवश्य करें और मिश्री से बनी खीर का भोग अवश्य लगाएं।
7. कार्तिक पूर्णिमा के दिन नदी में दीपक का दान करें। अगर किसी कारण से आप नदी में दीपक दान नहीं कर सकते हैं, तो पास के मंदिर में दीपक दान जरूर करें।


8. मान्यता के अनुसार इस दिन गाय का दान करने से अनंत पुण्य फल मिलते हैं।
9. इस दिन घर में दीप जलाने का भी विशेष महत्व है। इससे घर के सभी कष्ट दूर होते हैं और खुशियों का वास होता है।
10. इस दिन गंगा स्नान करने से आपको विशेष फल मिलता है, मान्यता के अनुसार इस दिन आकाश से अमृत की वर्षा होती है और लाखों श्रद्धालु इस अमृत को पाने के लिए पवित्र स्नान करने आते हैं।

  • Admin
  • 12
  • November
  • 2021