हिमाचल-उत्तराखंड की सीमा पर यमुना नदी के तट पर सिरमौर नाम से एक जिला है जो पांवटा साहिब गुरुद्वारा स्थित है

पांवटा साहिब के नाम का अर्थ पांवटा साहिब की स्थापना सिखों के दसवें गुरु गोविंद सिंह ने की थी।

इतिहास की दृष्टि से हिमाचल-उत्तराखंड की सीमा पर एक जिला है जो यमुना नदी के तट पर है और इस जिले का नाम सिरमौर है। यहां हम पांवटा साहिब के बारे में जानेंगे, जो सिखों के लिए बेहद अहम जगह है। इस गुरुद्वारे से जुड़ी पूरी कहानी आप जानेंगे, पांवटा साहिब के नाम का अर्थ पांवटा साहिब की स्थापना सिखों के दसवें गुरु गोविंद सिंह ने की थी। इस जगह के बारे में कहा जाता है कि पहले इसका नाम पोंटिका था। पांवटा यानी पैर, इस जगह का नाम अगर आप इसके अर्थ पर गौर करें तो इसका बहुत महत्व है। ऐसा माना जाता है कि सिख गुरु गोबिंद सिंह जी अपने घोड़े पर जा रहे थे और इस स्थान पर आने के बाद उनके घोड़े को पैर लग गए। इसलिए गुरु गोबिंद सिंह जी ने पौन और वैक्सीन जोड़कर पांवटा नाम दिया। गुरु जी ने इस स्थान पर गुरुद्वारा की स्थापना करायी और अपने जीवन के साढ़े चार वर्ष वहीं रहे।



श्री तालाब गुरुद्वारे के अन्दर का वह स्थान है जहाँ से गुरुजी वेतन बाँटते थे और श्रीदास्तर गुरुद्वारा में वह स्थान है जहाँ गुरुजी पगड़ी बाँधने की प्रतियोगिता में निर्णायक हुआ करते थे। गुरुद्वारा में एक संग्रहालय भी है जहां गुरुजी द्वारा इस्तेमाल की गई कलम और उस समय के हथियारों को देखा जा सकता है। पांवटा साहिब की नींव कैसे रखी गई थी? क्या आप जानते हैं कि पांवटा साहिब इस धरती पर एकमात्र ऐसा शहर है जिसका नाम खुद गुरु गोबिंद सिंह ने रखा था? गुरु गोबिंद सिंह जी ने 1685 में 17 वैशाख संवत 1742 को नाहन जाकर पांवटा साहिब की नींव रखी। पौंटा साहिब में साढ़े चार साल रहने के दौरान गुरु गोबिंद सिंह जी ने कई साहित्यिक कृतियों की रचना की, कई गुरुवाणी की रचना की। पुराने साहित्य और ज्ञान की कृतियों को लेखकों ने सरल भाषा में लिखा था।


यहां गुरु द्वारा एक कवि दरबार भी स्थापित किया गया था, जिसमें 52 भाषाओं के विभिन्न कवि थे। कवि के दरबार में पूर्णिमा की रात गुरु जी भी एक विशेष प्रकार के कवि दरबार को सजाते थे। दरअसल, इक्कीसवीं सदी के राजाओं के बीच युद्ध हुआ करता था। ऐसे में हुआ यह कि नाहन रियासत के राजा मेदनी प्रकाश ने श्रीनगर गढ़वाल के राजा फतहशाह ने उनके कुछ इलाके पर कब्जा कर लिया था, लेकिन राजा मेदनी प्रकाश अपने इलाके को आजाद कराना चाहते थे लेकिन सफल नहीं हो पाए. तो ऐसे में राजा ने तपस्वी ऋषि कालपी से परामर्श किया, तब ऋषि ने कहा कि गुरु गोबिंद सिंह जी को अपनी रियासत में बुलाकर राजा उनके कष्ट दूर कर सकते हैं, तब राजा ने गुरु गोबिंद सिंह जी से नाहन आने का अनुरोध किया, जिस पर गुरुजी नाहन पहुंचे।

जहां उनका जोरदार स्वागत किया गया। वहां पहुंचकर गुरु जी ने पूरे क्षेत्र का भ्रमण किया। उन्होंने 1686 में अपनी पहली लड़ाई लड़ी। गुरु गोबिंद सिंह ने 20 साल की छोटी उम्र में यह लड़ाई लड़ी, जिसमें उन्होंने राजा फतेह साहिब को हरा दिया और बिना किसी प्रशिक्षण के बिसधर के राजाओं के खिलाफ सेना बनाई और उनकी 25 हजार सेना को हराया। इस युद्ध से गुरु जी ने अन्याय के विरुद्ध युद्ध छेड़ा और एक के बाद एक 13 युद्ध लड़े। पांवटा साहिब गुरुद्वारे में एक पालकी है जो शुद्ध सोने से बनी है। जो एक भक्त ने दिन में किया है। एक कथा है कि पास में बहने वाली यमुना नदी शोर करती थी लेकिन गुरु गोबिंद सिंह जी के कहने पर शांत हो गई, जिसके बाद गुरु जी यमुना के तट पर बैठकर दशम ग्रंथ लिखने में सक्षम हुए और आज भी यमुना है।


Looking into the Way of Non-Violence and The soul Harmony in Jainism

The fundamentals of Jain ideas: The core tenets of Jainism—non-violence (ahimsa), truth (satya), non-stealing (asteya), celibacy (brahmacharya), and non-attachment (aparigraha)—are highly valued. Jainism is based on the teachings of Lord Mahavira. Gaining knowledge of the philosophical underpinnings of Jainism offers valuable perspectives on the moral and ethical standards that direct the lives of its supporters.

Accepting Differences: Honoring Muslim Traditions

The radiance of Islamic customs: Islam is a way of life that includes a diverse range of customs; it is more than just a religion. For millions of people, Islamic customs—from the call to prayer that reverberates through historic mosques to the joyous celebration of Ramadan—provide beauty and harmony. A harmonious and interconnected society is built on the foundation of family, community, and compassion.

Kshatriyas: Revealed as the Warrior Spirit of Ancient India

1. The Code of the Warrior: The word "Kshatriya" comes from the Sanskrit word "Kshatra," which means power. These brave warriors were given the duty of defending dharma, or righteousness, and guarding the country and its inhabitants. The values of chivalry, valor, and justice were highlighted in the Kshatriya code of conduct, or Danda Niti.

DharamGyaan's Journey Deciphering the Depths of Jain Spirituality

Jain Meditation: An Inne­r Peace Journey Dive­ into the calm of Jain meditation, a holy way that guides e­xplorers to inside peace­. Look at articles that lead you through the rule­s of Jain meditation. These article­s show the deep ways that grow mindfulne­ss and spiritual wake up.

 

The Muslim Community: Religions of Indies

The Muslim community is one of the largest and most diverse in the world, with over 1.8 billion followers worldwide. Islam is a monotheistic religion founded by the Prophet Muhammad in the 7th century. This blog examines some of the major beliefs, practices and traditions of the Muslim community.