Hindu

  • Home    >
  • Hindu
blog_img
  • 2
  • July

होली का त्योहार हिंदु धर्म के प्रमुख त्योहारों में से एक है जो पूरे भारतवर्ष में धूमधाम से मनाया जाता है।

होली के दिन सभी लोग अपने सारे दुख भुलाकर एक दूसरे को गले लगाते हैं और रिश्तों में प्यार और अपनेपन के रंग भरते हैं।


होली का त्योहार हिंदुओं द्वारा मनाए जाने वाले प्रमुख त्योहारों में से एक है। होली पूरे भारतवर्ष में बहुत ही धूमधाम से मनाया जाने वाला त्यौहार है। होली का त्योहार हर भारतीय हर्ष और उल्लास के साथ मनाता है। इस दिन सभी लोग अपने सारे दुख भुलाकर एक दूसरे को गले लगाते हैं। होली के रंग हम सभी को एकजुट करते हैं और रिश्तों में प्यार और अपनेपन के रंग भरते हैं। होली का त्योहार हमारी भारतीय संस्कृति का सबसे खूबसूरत रंग माना जाता है। सभी त्योहारों की तरह होली के त्योहार के पीछे भी कई मान्यताएं प्रचलित हैं। होली कैसे मनाई जाती है, होली का क्या महत्व है, इस पोस्ट के माध्यम से हम आपको जानकारी देंगे कि होलिका कौन थी। इसके साथ ही स्कूलों और कॉलेजों में छात्रों को होली पर निबंध लिखने को कहा जाता है। हमारी इस पोस्ट से विद्यार्थी होली के बारे में और अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं जिससे वे स्कूल या कॉलेज में होने वाली निबंध प्रतियोगिता में अच्छे से भाग ले सकें।


हर साल फाल्गुन (मार्च) के महीने में अलग-अलग तरह के रागों के साथ होली मनाई जाती है। हर घर में तरह-तरह के व्यंजन बनाए जाते हैं। होली को हिंदुओं का एक प्रमुख त्योहार माना जाता है। होली न केवल हिंदुओं द्वारा बल्कि सभी समुदायों के लोगों द्वारा उल्लास के साथ मनाई जाती है। होली के त्योहार को लोग मिलजुलकर, गले मिलकर और एक-दूसरे को रंग लगाकर मनाते हैं। इस दौरान धार्मिक और फागुन गीत भी गाए जाते हैं। इस दिन हम विशेष रूप से बनी गुझिया, पापड़, हलवा आदि खाते हैं। रंगों की होली से एक दिन पहले होलिका दहन किया जाता है। होली के त्योहार को मनाने के पीछे एक प्राचीन इतिहास है। प्राचीन काल में हिरण्यकश्यप नाम का एक असुर हुआ करता था। उनकी होलिका नाम की एक दुष्ट बहन थी। हिरण्यकश्यप खुद को भगवान मानता था। हिरण्यकश्यप का प्रह्लाद नाम का एक पुत्र था। वह भगवान विष्णु के बहुत बड़े भक्त थे। हिरण्यकश्यप भगवान विष्णु का विरोधी था।


उसने प्रह्लाद को विष्णु की पूजा करने से बहुत रोका। लेकिन प्रह्लाद ने उसकी एक न सुनी। इससे क्रोधित होकर हिरण्यकश्यप ने प्रह्लाद को मारने की कोशिश की। इसके लिए हिरण्यकश्यप ने अपनी बहन होलिका से मदद मांगी। क्योंकि होलिका को आग में न जलने का वरदान मिला था। उसके बाद होलिका प्रह्लाद के साथ चिता में बैठ गई लेकिन विष्णु और प्रह्लाद की कृपा पाने वाले का क्या हो सकता है और प्रह्लाद आग में सुरक्षित रहे जबकि होलिका उस आग में जलकर राख हो गई। यह कहानी बताती है कि बुराई पर अच्छाई की जीत होनी चाहिए। आज भी सभी लोग होलिका दहन करके लकड़ी, घास और गाय के गोबर के ढेर को जलाते हैं और अगले दिन सभी एक दूसरे पर गुलाल, अबीर और अलग-अलग रंग डालकर होली खेलते हैं। होली हर साल फाल्गुन के महीने में मनाई जाती है। होली का त्योहार जैसे-जैसे नजदीक आता है वैसे-वैसे हमारा उत्साह भी बढ़ता जाता है। होली सही मायने में भारतीय संस्कृति का प्रतीक है, जिसके रंग अनेकता में एकता का प्रतीक हैं।


लोग एक दूसरे को प्यार और स्नेह का गुलाल लगाते हैं, सांस्कृतिक कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं, लोकगीत गाए जाते हैं और एक दूसरे के चेहरे को मधुर बनाते हैं। भारत में होली का त्योहार अलग-अलग राज्यों में अलग-अलग तरीकों से मनाया जाता है। ब्रज की होली आज भी पूरे देश के आकर्षण का केंद्र है। बरसाने की लट्ठमार होली भी बहुत प्रसिद्ध है। इसमें पुरुष महिलाओं को रंग देते हैं और महिलाएं पुरुषों को कपड़े के बने लाठी और चाबुक से पीटती हैं। इसी तरह मथुरा और वृंदावन में भी होली का पर्व 15 दिनों तक मनाया जाता है। कुमाऊं में गीत बैठी है जिसमें शास्त्रीय संगीत की सभाएं होती हैं। यह सब होली से कई दिन पहले शुरू हो जाता है। हरियाणा के धुलंडी में देवर को भाभी द्वारा प्रताड़ित करने की प्रथा प्रचलित है। विभिन्न देशों और धार्मिक संस्थानों जैसे वृंदावन में इस्कॉन या बांके बिहारी मंदिर में बसे प्रवासियों में होली की सजावट और उत्सव अलग-अलग तरीकों से मनाया जाता है। जिसमें कई समानताएं और कई अंतर हैं।

  • Admin
  • 2
  • July
  • 2021

Recent Posts