ईद-उल-फितर का यह त्योहार प्यार और इंसानियत का संदेश देता है

ईद-उल-फितर का त्योहार चारों तरफ प्यार और शांति का सन्देश देता है

ईद-उल-फितर उपवास करने वालों के लिए अल्लाह का इनाम है जो केवल एक महीने के लिए भूख और प्यास सहने के बाद भगवान को याद करते हैं। सेवइयां में लिपटे प्यार की मिठास इस त्योहार की खासियत है। मुसलमानों का सबसे बड़ा पर्व कहे जाने वाला यह पर्व न केवल हमारे समाज को जोड़ने का एक मजबूत सूत्र है, बल्कि यह इस्लाम के प्रेम और सद्भाव के संदेश को भी प्रभावी ढंग से फैलाता है। मीठी ईद के रूप में भी जाना जाता है, यह त्योहार विशेष रूप से भारतीय समाज का ताना-बाना है और भाईचारे की सदियों पुरानी परंपरा का वाहक है। इस दिन विभिन्न धर्मों के लोग अपनी शिकायतों को भूलकर एक दूसरे को गले लगाते हैं और सेवइयां आमतौर पर अपनी कड़वाहट की कड़वाहट को मिठास में बदल देती हैं। ईद-उल-फितर एक आध्यात्मिक महीने में कठिन परीक्षण के बाद उपवास करने वाले व्यक्ति को अल्लाह की ओर से एक आध्यात्मिक इनाम है।



ईद सामाजिक समरसता और प्रेम का मजबूत सूत्र है, यह त्योहार इस्लाम की परंपराओं का आईना है। उपवास करने वाले व्यक्ति के लिए इसके महत्व का अंदाजा अल्लाह के प्रति उसकी कृतज्ञता से लगाया जा सकता है। दुनिया में चांद को देखकर रोजा रखने और चांद को देखकर ईद मनाने की पुरानी परंपरा है और आज के हाईटेक दौर में तमाम बहस और बहस के बावजूद यह रिवाज बना हुआ है. मोटे तौर पर कहें तो रमजान और उसके बाद की ईद भी व्यक्ति को एक इंसान के रूप में सामाजिक जिम्मेदारियों को अनिवार्य रूप से निभाने का दायित्व सौंपती है। रमजान में हर सक्षम मुसलमान को अपनी कुल संपत्ति का 2.5 फीसदी के बराबर रकम निकालकर गरीबों में बांटनी होती है। इससे समाज के प्रति उसकी जिम्मेदारी का निर्वहन तो होता ही है, साथ ही गरीब रोजे रखने वाले भी अल्लाह के ईनाम का त्योहार मना पाते हैं। मोटे तौर पर कहें तो समाज के लगभग हर वर्ग को ईद की वजह से किसी न किसी तरह से फायदा होता है।


चाहे वह आर्थिक लाभ हो या सामाजिक लाभ। भारत में ईद का त्योहार यहां गंगा-जमुनी तहज़ीब के साथ मिलकर इसे और अधिक युवा और खुशहाल बनाता है। इस दिन को हर धर्म और वर्ग के लोग तहे दिल से मनाते हैं। ईद के दिन सेंवई या हैड-पंप से मुंह मीठा करने के बाद जब छोटे-बड़े, करीबी दोस्त और दुश्मन गले मिलते हैं तो चारों तरफ प्यार नजर आता है। शुद्ध खुशी से चमकते सभी चेहरों ने वातावरण में मानवता का संदेश फैलाया। हाथ हर जगह अल्लाह से दुआ माँगते नज़र आ रहे हैं और रोज़ा रखने और रमज़ान की इबादत करने की हिम्मत के लिए ख़ुदा का शुक्रिया अदा कर रहे हैं और यही उत्साह बताता है कि कम ईद आ गई है। कुरान के अनुसार, पैगंबर इस्लाम ने कहा है कि जब पहले ईमान वाले रमजान के पवित्र महीने के एहतराम से भाग जाते हैं और उपवास और प्रार्थना और उनके सभी कामों को पूरा करते हैं, तो अल्लाह एक दिन अपने सेवकों को पुरस्कृत और पुरस्कृत करेगा।

इसलिए इस दिन को 'ईद' कहा जाता है और इनाम और इनाम के इस दिन को ईद-उल-फितर का नाम दिया जाता है। रमजान इस्लामिक कैलेंडर का नौवां महीना है। इस पूरे महीने में उपवास रखा जाता है। इस महीने के अंत में शव्वाल का 10वां महीना शुरू होता है। इस महीने की पहली चांद रात ईद की चांद रात है। इस रात का इंतजार साल भर एक खास वजह से किया जाता है, क्योंकि इस रात को दिखने वाले चांद से ही इस्लाम का बड़ा त्योहार ईद-उल-फितर घोषित होता है। इस तरह यह चांद ईद का पैगाम लेकर आता है। इस चंद्र रात्रि को 'अल्फा' कहते हैं। समय चाहे कितना भी बदल जाए, लेकिन ईद जैसा त्योहार हम सभी को अपनी जड़ों की ओर वापस लाता है और हमें इस बात का एहसास कराता है कि पूरी मानव जाति एक है और मानवता इसका धर्म है।


इस्लाम धर्म में ईद-ए-मिलाद नाम का मुस्लिम त्यौहार भी आता है, इस्लामिक कैलेंडर के अनुसार इसे एक पवित्र महीना रबी-उल-अव्वल माना जाता है

ईद-ए-मिलाद के दिन पैगंबर मुहम्मद ने 12 तारीख को अवतार लिया था, इसी याद में यह त्योहार जिसे हम ईद-ए-मिलाद, उन-नबी या बारावफात मनाया जाता है।

हम बोधवाद की मूल बातें जानेंगे, इसकी शुरुआत कहाँ से हुई, और इसके पाठ आज क्यों मायने रखते हैं।

उत्पत्ति और ऐतिहासिक संदर्भ . सिद्धार्थ गौतम का जन्म:   बोधवाद की उत्पत्ति सिद्धार्थ गौतम के जीवन से मानी जाती है, जिनका जन्म लगभग 563 ईसा पूर्व नेपाल के लुंबिनी में हुआ था। युवा राजकुमार ने बाद में मानव अस्तित्व के मूलभूत प्रश्नों के उत्तर की तलाश में अपना शाही जीवन त्याग दिया। . बोधि वृक्ष पर खोज:   सिद्धार्थ की यात्रा ने उन्हें बोधगया में बोधि वृक्ष के बारे में गहरी जानकारी दी। इस असाधारण ज्ञानोदय से बोधवाद की शुरुआत हुई, जहाँ सिद्धार्थ को बुद्ध के नाम से जाना जाता था, जिन्हें जागृत व्यक्ति भी कहा जाता था।

. बौद्ध धर्म का मूल:   बौद्ध धर्म का हृदय चार आर्य सत्य हैं, जिन्हें बुद्ध ने अपनी मुख्य शिक्षाओं के रूप में फैलाया। ये सत्य दुख के विचार, यह कहां से आता है, इसे कैसे समाप्त किया जाए और दुख से मुक्ति का मार्ग बताते हैं। . आठ चरणों का मार्ग:   चार मुख्य सत्यों के साथ-साथ आठ-चरणीय पथ भी निहित है, जो नैतिक और मानसिक विकास का एक रोडमैप है। इस पथ में सही समझ, महत्वाकांक्षा, संचार, कार्य, जीवनशैली, प्रयास, सतर्कता और फोकस शामिल हैं।

Embarking on Faith: The Essence of Islam

1. Islam: A Religion of Submission: Islam, the second-largest religion globally, is founded on the principle of submission to the will of Allah (God). Muslims, followers of Islam, adhere to the teachings outlined in the Quran, considered the holy book revealed to Prophet Muhammad. The central tenet of Islam is the declaration of faith, the Shahada, which underscores the oneness of God and the prophethood of Muhammad.

Come­, dive deep into the­ guiding ideas and rituals that shape Jainism.

 How Jainism Started and Gre­w: Looking to the past, Jainism began in old India, around the 6th ce­ntury BCE. Lord Mahavira, the 24th Tirthankara, started it. Jainism came to e­xist because of the re­ligion and social rules at that time. Its main ideas we­re spiritual knowledge, se­lf-control, and no violence. These­ made Jainism more popular.