प्रभु वेंकटेश्वर को भगवान विष्णु अवतार माना जाता है और कहा जाता है कि प्रभु विष्णु ने कुछ समय के लिए स्वामी पुष्करणी नामक सरोवर के किनारे निवास किया था।

इस तिरुपति के चारों ओर स्थित पहाड़ियाँ, शेषनाग के सात फनों के आधार पर बनीं 'सप्तगिरि' कहलाती हैं।

इस मंदिर के विषय में एक अनुश्रुति इस प्रकार से है। प्रभु वेंकटेश्वर या बालाजी को भगवान विष्णु अवतार ही है। ऐसा माना जाता है कि प्रभु विष्णु ने कुछ समय के लिए स्वामी पुष्करणी नामक सरोवर के किनारे निवास किया था। यह सरोवर तिरुमाला के पास स्थित है। तिरुमाला- तिरुपति के चारों ओर स्थित पहाड़ियाँ, शेषनाग के सात फनों के आधार पर बनीं 'सप्तगिरि' कहलाती हैं। श्री वेंकटेश्वरैया का यह मंदिर सप्तगिरि की सातवीं पहाड़ी पर स्थित है, जो वेंकटाद्री नाम से प्रसिद्ध है। वहीं एक दूसरी अनुश्रुति के अनुसार, 11वीं शताब्दी में संत रामानुज ने तिरुपति की इस सातवीं पहाड़ी पर चढ़ कर गये थे।



प्रभु श्रीनिवास (वेंकटेश्वर का दूसरा नाम) उनके समक्ष प्रकट हुए और उन्हें आशीर्वाद दिया। ऐसा माना जाता है कि प्रभु का आशीर्वाद प्राप्त करने के पश्चात वे 120 वर्ष की आयु तक जीवित रहे और जगह-जगह घूमकर वेंकटेश्वर भगवान की ख्याति फैलाई। वैकुंठ एकादशी के अवसर पर लोग यहाँ पर प्रभु के दर्शन के लिए आते हैं, जहाँ पर आने के पश्चात उनके सभी पाप धुल जाते हैं। मान्यता है कि यहाँ आने के पश्चात व्यक्ति को जन्म-मृत्यु के बंधन से मुक्ति मिल जाती है।


मंदिर का मुख्य प्रवेश द्वार- गोपुरम
माना जाता है कि इस मंदिर का इतिहास 9वीं शताब्दी से प्रारंभ होता है, जब काँचीपुरम के शासक वंश पल्लवों ने इस स्थान पर अपना आधिपत्य स्थापित किया था, परंतु 15 सदी के विजयनगर वंश के शासन के पश्चात भी इस मंदिर की ख्याति सीमित रही। 15 सदी के पश्चात इस मंदिर की ख्याति दूर-दूर तक फैलनी शुरू हो गई। 1843 से 1933 ई. तक अंग्रेजों के शासन के अंतर्गत इस मंदिर का प्रबंधन हातीरामजी मठ के महंत ने संभाला। हैदराबाद के मठ का भी दान रहा है।

1933 में इस मंदिर का प्रबंधन मद्रास सरकार ने अपने हाथ में ले लिया और एक स्वतंत्र प्रबंधन समिति 'तिरुमाला-तिरुपति' के हाथ में इस मंदिर का प्रबंधन सौंप दिया। आंध्रप्रदेश के राज्य बनने के पश्चात इस समिति का पुनर्गठन हुआ और एक प्रशासनिक अधिकारी को आंध्रप्रदेश सरकार के प्रतिनिधि के रूप में नियुक्त किया गया।


देहलवी को "रोशन चिराग-ए-दिल्ली" की उपाधि दी गई थी, जिसका उर्दू में अर्थ होता है, "दिल्ली का चिराग़"।

नसीरुद्दीन महमूद चिराग-देहलावी 14वीं सदी के रहस्यवादी-कवि और चिश्ती संप्रदाय के सूफी संत थे। वह सूफी संत, निजामुद्दीन औलिया और बाद में उनके उत्तराधिकारी के शिष्य थे। वह दिल्ली से चिश्ती संप्रदाय के अंतिम महत्वपूर्ण सूफी थे।

कैलाश पर्वत तिब्बत में स्थित एक पर्वत श्रृंखला है, इसके पश्चिम और दक्षिण में मानसरोवर और रक्षास्थल झीलें हैं।

कैलास पर्वत से कई महत्वपूर्ण नदियाँ निकलती हैं - ब्रह्मपुत्र, सिंधु, सतलुज आदि। इसे हिंदू सनातन धर्म में पवित्र माना जाता है।

अहोबिलम आंध्र प्रदेश के कुरनूल जिले में पूर्वी घाट पहाड़ी क्षेत्र में स्थित है जिसे गरुड़द्री पहाड़ी के नाम से जाना जाता है।

यह स्थान पांच किलोमीटर के दायरे में स्थित भगवान नरसिंह के नौ मंदिरों के लिए प्रसिद्ध है।

शब-ए-बरात की रात सच्चे दिल से अल्लाह की इबादत करते हुए अगर कोई शख्स अपने गुनाहों से तौबा कर लेता है तो अल्लाह उसके सारे गुनाह माफ कर देता है।

 

शब-ए-बरात त्योहार शाबान महीने की 14 तारीख को सूर्यास्त के बाद शुरू होता है और 15 तारीख की शाम तक मनाया जाता है।