चारभुजा मन्दिर मेवाड़ कुम्भलगढ़ राजस्थान का ऐतिहासिक एवं प्राचीन हिन्दू मन्दिर है।

यह भारतीय राज्य राजस्थान के राजसमंद ज़िले की कुम्भलगढ़ तहसील के गढ़बोर गांव में स्थित है।

चारभुजा जी एक ऐतिहासिक एवं प्राचीन हिन्दू मन्दिर है जो भारतीय राज्य राजस्थान के राजसमंद ज़िले की कुम्भलगढ़ तहसील के गढ़बोर गांव में स्थित है। उदयपुर से 112 और कुम्भलगढ़ से 32 कि. मी.  की दूरी पर यह मेवाड़ का जाना–माना तीर्थ स्थल है, जहां चारभुजा जी की बड़ी ही पौराणिक एवं चमत्कारिक प्रतिमा है। मेवाड़ के सांवलियाजी मंदिर, केशरियानाथ जी मंदिर, एकलिंगनाथ जी मंदिर, श्रीनाथजी मंदिर, द्वारिकाधीशजी मंदिर, रूपनारायणजी मंदिर व चारभुजानाथ मंदिर सुप्रसिद्ध हैं। इस मन्दिर का निर्माण राजपूत शासक गंगदेव ने करवाया था। चारभुजा के शिलालेख के अनुसार सन् १४४४ ई।  (वि. स.  १५०१) में खरवड़ शाखा के ठाकुर महिपाल व उसके पुत्र रावत लक्ष्मण ने इस मंदिर का जीर्णोद्धार करवाया था। एक मन्दिर में मिले शिलालेख के अनुसार यहां इस क्षेत्र का नाम "बद्री" था जो कि बद्रीनाथ से मेल खाता है।



पौराणिक कथा के अनुसार श्रीकृष्ण भगवान ने उद्धव को हिमालय में तपस्या कर सद्गति प्राप्त करने का आदेश देते हुए स्वयं गौलोक जाने की इच्छा जाहिर की, तब उद्धव ने कहा कि मेरा तो उद्धार हो जाएगा परंतु आपके परमभक्त पांडव व सुदामा तो आपके गौलोक जाने की ख़बर सुनकर प्राण त्याग देंगे। ऐसे में श्रीकृष्ण ने विश्वकर्मा से स्वयं व बलराम की मूर्तियां बनवाईं, जिसे राजा इन्द्र को देकर कहा कि ये मूर्तियां पांडव युधिष्ठिर व सुदामा को सुपुर्द करके उन्हें कहना कि ये दोनों मूर्तियां मेरी है और मैं ही इनमें हूं। प्रेम से इन मूर्तियों का पूजन करते रहें, कलियुग में मेरे दर्शन व पूजा करते रहने से मैं मनुष्यों की इच्छा पूर्ण करूंगा। इन्द्र देवता ने श्रीकृष्ण की मूर्ति सुदामा को प्रदान की और पांडव व सुदामा इन मूर्तियों की पूजा करने लगे। वर्तमान में गढ़बोर में चारभुजा जी के नाम से स्थित प्रतिमा पांडवों द्वारा पूजी जाने वाली मूर्ति और सुदामा द्वारा पूजी जाने वाली मूर्ति रूपनारायण के नाम से सेवंत्री गांव में स्थित है।


कहा जाता है कि पांडव हिमालय जाने से पूर्व मूर्ति को जलमग्न करके गए थे ताकि इसकी पवित्रता को कोई खंडित न कर सके। गढ़बोर के तत्कालीन राजपूत शासक गंगदेव को चारभुजानाथ ने स्वप्न में आकर आदेश दिया कि पानी में से निकालकर मूर्ति मंदिर बनाकर स्थापित करो। राजा ने ऐसा ही किया, उसने जल से प्राप्त मूर्ति को मंदिर में स्थापित करवा दी। कहा जाता है कि मुग़लों के अत्याचारों को देखते हुए मूर्ति को कई बार जलमग्न रखा गया है। महाराणा मेवाड़ ने चारभुजानाथ के मंदिर को व्यवस्थित कराया था। कहा जाता है कि एक बार मेवाड़ महाराणा उदयपुर से यहां दर्शन को आए लेकिन देर हो जाने से पुजारी देवा ने भगवान चारभुजाजी का शयन करा दिया और हमेशा महाराणा को दी जाने वाली भगवान की माला खुद पहन ली। इसी समय महाराणा वहां आ गए। माला में सफेद बाल देखकर पुजारी से पूछा कि क्या भगवान बूढे़ होने लगे है? पुजारी ने घबराते हुए हां कह दिया। महाराणा ने जांच का आदेश दे दिया। दूसरे दिन भगवान के केशों में से एक केश सफेद दिखाई दिया।

इसे ऊपर से चिपकाया गया केश मानकर जब उसे उखाडा़ गया तो श्रीविग्रह (मूर्ति) से रक्त की बूंदें निकल पड़ी। इस तरह भक्त देवा की भगवान ने लाज रख दी। उसी रात्रि को महाराणा ने सपना देखा जिसमें भगवान ने कह दिया कि भविष्य में कोई भी महाराणा दर्शन के लिए गढ़बोर न आवे तब से पंरपरा का निर्वाह हो रहा है, यहां मेवाड़ महाराणा नहीं आते है। लेकिन महाराणा बनने से पूर्व युवराज के अधिकार से इस मंदिर पर आकर जरूर दर्शन करते है और फिर महाराणा की पदवी ली जाती है। इसी गढ़बोर पर कभी रावत-राजपूत नाम से पहचान रखने वाले क्षत्रियों के पूर्वज विहलजी चौहान के अनूठे शौर्य पर मेवाड़ के शासक रावल जैतसी ने विहलजी को रावत का खिताब व गढ़बोर का राज्य इनाम में दिया था। आज भी विहलजी चौहान का दुर्ग चारभुजा से सेवंत्री जाने वाले मार्ग पर खण्डहर हालात में विद्यमान है। गढ़बोर में चारभुजानाथ का प्रतिवर्ष भाद्रपद मास की एकादशी (जलझुलनी एकादशी) को विशाल मेला लगता है। चारभुजा गढ़बोर में हर वर्ष लाखों श्रद्धालु दर्शन करने आते हैं। यहां पर आने वाले भक्तों की हर मनोकामना पूरी होती है।


इस ब्लॉग पोस्ट में, हम सिख धर्म के मौलिक सिद्धांतों, इतिहास, धार्मिक अभ्यास, और सामाजिक महत्व को समझेंगे।

इतिहास

  • गुरु नानक का जन्म: सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव जी का जन्म साल 1469 में हुआ था। उनका जीवन कथा और उनकी शिक्षाएं सिख धर्म के आध्यात्मिक आदर्शों को समझने में मदद करती हैं।
  • दस सिख गुरु: सिख धर्म में दस गुरुओं का महत्वपूर्ण भूमिका है, जिनमें से प्रत्येक ने अपने शिक्षाओं और योगदान से धर्म को आगे बढ़ाया।

Understanding Jainism A Way to The soul Connection and Nonviolence

Jainism, a time-honore­d belief system, stands out for its focus on pe­ace (ahimsa), personal control, and spiritual growth. Over many ce­nturies, its impacts have reache­d billions globally. This detailed manual covers Jainism's ke­y beliefs, eve­ryday roles for its adherents, and the­ deep-seate­d beliefs and wisdom from this timele­ss religion.

Jainism, its Roots and Journey: Birth: Jainism sprung up in ancie­nt India, sharing birth era with Hinduism and Buddhism. Its last spiritual guide, Lord Mahavira, is considere­d its creator. His life and lessons are­ the foundation of Jainism. Journey through Time: Jainism's growth spans many ce­nturies. Initially rooted in rigorous spiritual rituals, it bloomed into an influe­ntial Indian faith and philosophy. Influential people, te­xts, and monuments have guided its transformative­ journey.

 

 

Let's explore­ the intriguing Parsi customs and their exe­cution.

Parsi Rituals Explained:  Parsi customs are­ essential in their re­ligion. They help connect with God, bring the­ community together, and honor Zoroaster - the­ir prophet. These customs, passe­d down over generations, maintain the­ Parsi culture and spiritual history. Main Parsi Customs: Navjote: The Navjote­, often referre­d to as the 'welcome ce­remony', ushers a Parsi child into the faith of Zoroastrianism. Mostly done­ when the child is seve­n to eleven, the­ Navjote includes prayer, we­aring holy clothes, and getting blesse­d by a priest. This marks the start of their life­ as practicing Zoroastrians. Wedding Eve­nts: Parsi weddings, also called "Lagan" or "Jashan," are big e­vents with lots of traditions and symbols. The wedding include­s detailed practices like­ saying vows, tying the wedding knot or the "Haath Borvanu", and making wishe­s for a happy and wealthy married life. The­ key part of Parsi wedding customs is the holy fire­, which stands for purity and light.

 

 

भारत के त्योहारों पर नजर डालें तो ज्यादातर त्योहार फसल कटने के बाद ही पड़ते हैं, पोंगल त्योहार भी इनमे से एक है।

अन्य त्योहारों की तरह, पोंगल को उत्तरायण पुण्यकालम के रूप में जाना जाता है जिसका हिंदू पौराणिक कथाओं में विशेष महत्व है।