कानपुर का जेके मंदिर प्रसिद्ध राधाकृष्ण मंदिरों में से एक है।

सफेद संगमरमर से बने मंदिर में लगे झूमर और पत्थर की कलाकृतियां इसके गौरवशाली इतिहास को दर्शाती हैं।

प्रसिद्ध राधाकृष्ण मंदिरों में से एक शहर का जेके मंदिर पर्यटन का भी खास हिस्सा है। इस मंदिर में रोजाना हजारों लोग आते हैं। इसकी भव्यता दर्शन-पूजा से लोगों को आकर्षित करती है। यहां घूमने के साथ-साथ नवविवाहित जोड़ों के परिजन भी यहां आते हैं। इस भव्य मंदिर से जुड़ी कुछ ऐसी रोचक बातें हैं, जो बहुत कम लोग जानते हैं। कहा जाता है कि मंदिर का निर्माण 1960 में शुरू हुआ था और निर्माण कार्य आज भी जारी है। हालांकि, मूर्ति की स्थापना के बाद ही मंदिर को दर्शन के लिए खोला गया। गोलोकवासी सेठ कमलापति सिंघानिया की पत्नी रामप्यारी देवी ने मंदिर का निर्माण शुरू किया था। सफेद संगमरमर से बने मंदिर में लगे झूमर और पत्थर की कलाकृतियां इसके गौरवशाली इतिहास को दर्शाती हैं।



राधाकृष्ण जी महाराज के साथ नर्मदेश्वर महाराज, भगवान अर्धनारीश्वर, लक्ष्मी नारायण और हनुमान जी की प्रतिभा स्थापित है। शहर में हर दिन सैकड़ों की संख्या में श्रद्धालु इस धरोहर को देखने आते हैं और सुख-समृद्धि की कामना करते हैं। कहा जाता है कि मिर्जापुर से आए सिंघानिया घराने ने शहर में कारोबार शुरू किया और खूब तरक्की की. कुछ ही दिनों में जेके ग्रुप बन गया। इस दौरान जेके समूह ने जेके मंदिर का निर्माण शुरू किया। कहा जाता है कि निर्माण के समय आए साधु ने कहा था कि यदि मंदिर में निर्माण कार्य जारी रहा तो सिंघानिया घराने की प्रगति दिन-रात चौगुनी हो जाएगी। जिस दिन मंदिर में निर्माण रुकेगा, उसी दिन से प्रगति भी रुक जाएगी।


शायद यही वजह है कि पिछले साठ साल से राजमिस्त्री मंदिर में कोई न कोई काम करते रहते हैं। राजमिस्त्री भले ही दिन में एक ईंट से जुड़ गए हों, लेकिन आज तक निर्माण कार्य कभी नहीं रुका। वास्तु सुख और समृद्धि के लिए महत्वपूर्ण माना जाता है। सही वास्तु सकारात्मक ऊर्जा देता है, जिसे आप जेके मंदिर में महसूस कर सकते हैं। मंदिर के चारों ओर घूमने से दिशाओं और पांच तत्वों का सही संयोजन देखा जा सकता है। पंचतत्व में मंदिर निर्माण का सही क्रम देखने को मिलता है। मुख्य द्वार से राधाकृष्ण की मूर्ति स्पष्ट दिखाई देती है, जिसे पृथ्वी तत्व माना जाता है। इसके बाद जैसे ही जल तत्व प्रवेश करता है, यह एक शानदार फव्वारा देता है।

जैसे ही कोई मंदिर की सीढ़ियां चढ़ता है, अग्नि तत्व द्वार पर अग्नि तत्व दिखाता है। मंदिर के अंदर बड़ा हॉल वायु तत्व का आभास देता है, जबकि ऊपर एक विशाल गुम्बद यानि आकाश तत्व है। सभी पांच तत्वों को सही क्रम में जोड़ा गया है। मंदिर में पांच शिखर हैं, जिनमें सबसे ऊंची चोटी के नीचे राधाकृष्ण विराजमान हैं। जन्माष्टमी का त्यौहार मंदिर में बहुत ही खास होता है और इस दिन एक भव्य आयोजन होता है। इस कार्यक्रम में देश भर से लोग भाग लेते हैं और मंदिर को रंग-बिरंगी रोशनी से सुंदर रूप में दर्शाया जाता है। मंदिर में सात दिनों तक विशेष कार्यक्रम चलते रहते हैं। हीरक जयंती वर्ष में श्री राधाकृष्ण मंदिर ट्रस्ट द्वारा मंदिर कैलेंडर जारी किया गया है, जिसमें मंदिर की सुंदर छवि को दर्शाया गया है।


भारत की राजधानी दिल्ली में सबसे बड़ी मस्जिद "जामा मस्जिद" है, जिसे मुगल बादशाह शाहजहाँ ने 1656 ई. में बनवाया था।

कहा जाता है कि 5,000 कारीगरों ने शाहजहाबाद में भोजाल पहाड़ी पर मस्जिद-ए-जहाँ नुमा या जामा मस्जिद का निर्माण किया। 

Unveiling the Layers of Hinduism: A Tapestry of Spirituality

1: The Roots of Hinduism : Exploring Ancient Wisdom Hinduism, rooted in ancient scriptures like the Vedas and Upanishads, offers a profound journey into spirituality. Its foundational texts lay the groundwork for a diverse and intricate belief system that has evolved over millennia.

Studying the Kshatriya Faith: A More Detailed Look at Traditional Warrior Religion

The Kshatriya religion's beginnings: The origins of the Kshatriya religion can be found in ancient India, specifically in the Vedic era. In the conventional the city system, the term "Kshatriya" itself designates members of the warrior class, highlighting those with military and ruling professions. With time, this warrior class developed a unique spiritual thought that finally shaped the Kshatriya religion.

Beginning the Kshatriya Path: The Religion Journey of DharamGyaan

Weaving The soul Threads on the Kshatriya Path: Life's Tapestry With the insights of DharamGyaan, explore the richness of life's tapestry on the Kshatriya path. Examine articles that focus on the spiritual side of life, highlighting the need to live a meaningful life and to pursue morality and duty.

 

A Spiritual Odyssey: Examining the Core of Christianity

1. Building Blocks of Faith: Jesus' Life and Teachings: The life and teachings of Jesus Christ form the basis of Christianity. His teachings on forgiveness, love, and compassion serve as the cornerstone of Christianity. His life and career are chronicled in the Gospels, which provide believers with spiritual and moral guidance that is relevant to all eras and societies. The profound Beatitudes presented in the Sermon on the Mount serve as an encapsulation of the transforming ethics that continue to shape Christian morality.