काशी विश्वनाथ मंदिर बारह ज्योतिर्लिंगों में से एक है।

यह काशी विश्वनाथ मंदिर पिछले कई हजार वर्षों से वाराणसी में स्थित है। 

काशी विश्वनाथ मंदिर का हिंदू धर्म में एक विशिष्ट स्थान है। ऐसा माना जाता है कि एक बार इस मंदिर के दर्शन करने और पवित्र गंगा में स्नान कर लेने से मोक्ष की प्राप्ति होती है। इस मंदिर में दर्शन करने के लिए आदि शंकराचार्य, सन्त एकनाथ, रामकृष्ण परमहंस, स्वामी विवेकानंद, महर्षि दयानंद, गोस्वामी तुलसीदास सभी का आगमन हुआ है। यहीं पर सन्त एकनाथजी ने वारकरी सम्प्रदाय का महान ग्रन्थ श्रीएकनाथी भागवत लिखकर पूरा किया और काशीनरेश तथा विद्वतजनों द्वारा उस ग्रन्थ की हाथी पर धूमधाम से शोभायात्रा निकाली गयी। महाशिवरात्रि की मध्य रात्रि में प्रमुख मंदिरों से भव्य शोभा यात्रा ढोल नगाड़े इत्यादि के साथ बाबा विश्वनाथ जी के मंदिर तक जाती है। प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के दृढ़ संकल्प से काशी कारीडोर के अन्तर्गत काशी विश्वनाथ जी के मंदिर का विस्तार किया गया जो अद्भुत अकल्पनीय साथ ही आश्चर्य जनित भी है प्रत्येक काशी वासियों ने ऐसी परिकल्पना भी नहीं की होगी।



माननीय प्रधानमंत्री मोदी जी ने 8 मार्च 2019 को काशी विश्वनाथ कारीडोर का शिलान्यास किया गया लगभग 32 महिनों के अनवरत निर्माण कार्य के बाद 13 दिसम्बर 2021 मोदी जी द्वारा लोकार्पण किया गया |वहीं दूसरी तरफ काशी विश्वनाथ मंदिर न्यास द्वारा विभिन्न प्रकार की सुविधाएं प्राप्त करने हेतु सुगम दर्शन से लेकर रुद्राभिषेक विभिन्न आरती इत्यादि के लिए शुल्कों का प्रावधान कर जिस तरह से जन साधारण विशेष कर नित्य पूजार्चन करने वालों के लिए यह कष्टप्रद है किसी भी ज्योतिर्पिठ का व्यवसायी करण उचित नहीं है| वर्तमान मंदिर का निर्माण महारानी अहिल्या बाई होल्कर द्वारा सन् 1780 में करवाया गया था। बाद में महाराजा रणजीत सिंह द्वारा 1853 में 1000 कि.ग्रा शुद्ध सोने द्वारा बनवाया गया था। उत्तर प्रदेश के वाराणसी शहर में स्थित भगवान शिव का यह मंदिर हिंदूओं के प्राचीन मंदिरों में से एक है, जोकि गंगा नदी के पश्चिमी तट पर स्थित है।


कहा जाता है कि यह मंदिर भगवान शिव और माता पार्वती का आदि स्थान है। जिसका जीर्णोद्धार 11 वीं सदी में राजा हरीशचन्द्र ने करवाया था और वर्ष 1194 में मुहम्मद गौरी ने ही इसे तुड़वा दिया था। जिसे एक बार फिर बनाया गया लेकिन वर्ष 1447 में पुनं इसे जौनपुर के सुल्तान महमूद शाह ने तुड़वा दिया। हिन्दू धर्म में कहते हैं कि प्रलयकाल में भी इसका लोप नहीं होता। उस समय भगवान शंकर इसे अपने त्रिशूल पर धारण कर लेते हैं और सृष्टि काल आने पर इसे नीचे उतार देते हैं। यही नहीं, आदि सृष्टि स्थली भी यहीं भूमि बतलायी जाती है। इसी स्थान पर भगवान विष्णु ने सृष्टि उत्पन्न करने की कामना से तपस्या करके आशुतोष को प्रसन्न किया था और फिर उनके शयन करने पर उनके नाभि-कमल से ब्रह्मा उत्पन्न हुए, जिन्होने सारे संसार की रचना की।

अगस्त्य मुनि ने भी विश्वेश्वर की बड़ी आराधना की थी और इन्हीं की अर्चना से श्रीवशिष्ठजी तीनों लोकों में पुजित हुए तथा राजर्षि विश्वामित्र ब्रह्मर्षि कहलाये। सर्वतीर्थमयी एवं सर्वसंतापहारिणी मोक्षदायिनी काशी की महिमा ऐसी है कि यहां प्राणत्याग करने से ही मुक्ति मिल जाती है। भगवान भोलानाथ मरते हुए प्राणी के कान में तारक-मंत्र का उपदेश करते हैं, जिससे वह आवगमन से छुट जाता है, चाहे मृत-प्राणी कोई भी क्यों न हो। मतस्यपुराण का मत है कि जप, ध्यान और ज्ञान से रहित एवंम दुखों परिपीड़ित जनों के लिये काशीपुरी ही एकमात्र गति है। 


Ancient Indian Warriors Martial Arts and Military Traditions Revealed

The tales, legends, and historical records of old India never fail to mention how good the Kshatriyas were in warfare. The warrior class of ancient India was truly skilled not only in combat but also had a great knowledge of war methods and tactics as well as weapons. In this article, therefore we will explore the weapons used during their time, training methods they employed and strategies for fighting on battlefield that are described by classics like Dhanurveda.

Kshatriyas’ Role in Ancient India:In ancient Indian society, the Kshatriyas held a special place as defenders or rulers who protected people from external threats while ensuring justice prevails within the state through might. They were trained rigorously since childhood which made them physically tough leaders capable of handling any kind military challenge thrown at them.

Weapons used by Kshatriyas:

Swords and Blades: The Khanda was one among many types of swords known to be used by these warriors; others include Katara which is straight bladed weapon with single edge or sometimes two edges designed for thrusting attacks only. Cuts could also be made using this type of sword if necessary because it had sharp edges too

Kshatriya: Unveiling the Noble Warrior Spirit

1: The Essence of Kshatriya – Guardians of Dharma

Kshatriyas, the warrior class in ancient Indian society, embody the principles of duty, honor, and protection. In this column, we delve into the essence of the Kshatriya, exploring their historical significance as the custodians of dharma (righteousness) and the integral role they played in shaping the cultural and social fabric of ancient India.

होली का त्योहार हिंदु धर्म के प्रमुख त्योहारों में से एक है जो पूरे भारतवर्ष में धूमधाम से मनाया जाता है।

होली के दिन सभी लोग अपने सारे दुख भुलाकर एक दूसरे को गले लगाते हैं और रिश्तों में प्यार और अपनेपन के रंग भरते हैं।

Dare Meher, Sacred Fire and Parsi Heritage Guardians

One of the world’s tiniest but most animated religious minorities is the Parsi community, who are devoted to a religion called Zoroastrianism. Originating from Persia (modern-day Iran), Parsis have a rich history and cultural heritage. Among their religious practices is Dare Meher or Fire Temple, a place of worship with significant importance in it. This essay provides an insight into the history, architecture, religious significance, and issues around the preservation of Dare Meher highlighting attempts to uphold this vital part of Parsi heritage.

Historical Background of Zoroastrianism and the Parsi:

Origins and Migration:Zoroastrianism is one of the oldest monotheistic religions on earth founded by the prophet Zoroaster (or Zarathustra) over 3000 years ago in ancient Persia. Before being persecuted during the Islamic conquest in the 7th century, this religion thrived in Persia. Fleeing persecution, some Zoroastrians migrated to India around the eighth century where they were referred to as Parsis which means “Persian”.

Indian Establishment: The Parsi settled primarily in Gujarat and later in Mumbai (then called Bombay) when they arrived in India. Upon their arrival, indigenous rulers offered them refuge on the condition that they adapt themselves to local customs while holding onto their religious practices. They have made substantial contributions to Indian culture, society as well as economy for centuries and at the same time maintained a separate religious identity.

Importance of Dare Meher in Zoroastrian Worship

Role of Fire in Zoroastrianism: For instance, fire represents purity, veracity, and the presence of Ahura Mazda, who is also the most superior power among all other deities. It’s believed that it’s sacred and an indispensable part of all religious rites. The fires are kept perpetually burning in Fire Temples with much reverence being paid to them through prayers and rituals conducted before them.

Different Kinds of Fire Temples:In Zoroastrian worship, there are three grades of fire housed within different types of Fire Temples:

  • Atash Dadgah: this is the simplest form where any Parsi can look after it
  •  Atash Adaran: This takes a Zoroastrian priest for it to be placed at this grade. 
  • Atash Behram: this is the highest rank which requires elaborate rituals maintained by high priests. There are only nine Atash Behrams throughout the world; eight exist in India while one exists still exists in Iran.

Navroz Nectar: Savoring the Traditions and Delights of Parsi New Year

Description: Immerse yourself in the rich tapestry of Parsi culture as we unveil the beauty and significance of Navroz, the Parsi New Year. From ancient traditions to delectable culinary delights, join us in celebrating the spirit of renewal and joy that accompanies this auspicious occasion.