तारकेश्वर मंदिर शिवरात्रि पर होती है विशेष पूजा

भगवान शिव के लिए देवी लक्ष्मी ने यहां खोदा है कुंड, देवी पार्वती हैं वृक्ष के रूप में

देवभूमि उत्तराखंड की पावन भूमि पर ढेर सारे पावन मंदिर और स्थल हैं। उत्तराखंड को महादेव शिव की तपस्थली भी कहा जाता है। भगवान शिव इसी धरा पर निवास करते हैं। इसी जगह पर भगवान शिव का एक मंदिर बेहद ही खूबसूरत जगह पर मौजूद है और वह है ताड़केश्वर भगवान का मंदिर। मान्यता है कि इस मंदिर में मांगी गई हर मन्नत भगवान पूरी करते हैं। यहां हर साल लाखों श्रद्धालु न केवल देश से बल्कि विदेशों से भी आते हैं। इस मंदिर के पीछे एक बेहद रोचक कहानी छिपी है। ताड़केश्वर महादेव मंदिर बलूत और देवदार के वनों से घिरा हुआ है जो देखने में बहुत मनोरम लगता है।



यहां कई पानी के छोटे छोटे झरने भी बहते हैं। यह मंदिर सिद्ध पीठों में से एक है। यहां आप किसी भी दिन सुबह 8 बजे से 5 बजे तक दर्शन कर सकते हैं। लेकिन महाशिवरात्रि पर यहां का नजारा अद्भुत होता है। इस अवसर पर यहां विशेष पूजा का आयोजन किया जाता है। मंदिर परिसर में एक कुंड भी है। मान्यता है है कि यह कुंड स्वयं माता लक्ष्मी ने खोदा था। इस कुंड के पवित्र जल का उपयोग शिवलिंग के जलाभिषेक के लिए होता है। जनश्रुति के अनुसार यहां पर सरसों का तेल और शाल के पत्तों का लाना वर्जित है। लेकिन इसकी वजह के बारे में लोग कुछ कह नहीं पाते।


पौराणिक कथाओं के अनुसार, ताड़कासुर नामक राक्षस ने भगवान शिव से अमरता का वरदान प्राप्त करने के लिए इसी स्थान पर तपस्या की थी। शिवजी से वरदान पाकर ताड़कासुर अत्याचारी हो गया। परेशान होकर देवताओं और ऋषियों से भगवान शिव से प्रार्थन की और ताड़कासुर का अंत करने के लिए कहा। ताड़कसुर का अंत केवल भगवान शिव और माता पार्वती का पुत्र कार्तिकेय कर सकते थे। भगवान शिव के आदेश पर कार्तिकेय ताड़कासुर से युद्ध करने पहुंच जाते हैं। अपना अंत नजदीक जानकर ताड़कासुर भगवान शिव से क्षमा मांगता है।

भोलेनाथ असुरराज ताड़कासुर को क्षमा कर देते हैं और वरदान देते हैं कि कलयुग में इस स्थान पर मेरी पूजा तुम्हारे नाम से होगी इसलिए असुरराज ताड़कासुर के नाम से यहां भगवान भोलेनाथ ताड़केश्वर कहलाते हैं। एक अन्य दंतकथा भी यहां प्रसिद्ध है। एक साधु यहां रहते थे जो आस-पास के पशु पक्षियों को सताने वाले को ताड़ते यानी दंड देते थे। इनके नाम से यह मंदिर ताड़केश्वर के नाम से जाना गया। ताड़कासुर के वध के बाद भगवान शिव ने यहां पर विश्राम किया था। विश्राम के दौरान भगवान शिव पर सूर्य की तेज किरणें पड़ रही थीं। भगवान शिव पर छाया करने के लिए स्वयं माता पार्वती सात देवदार के वृक्षों का रूप धारण कर वहां प्रकट हुईं। इसलिए आज भी मंदिर के पास स्थित 7 देवदार के वृक्षों को देवी पार्वती का स्वरूप मानकर पूजा जाता है।


Islam: Including the Incredible of a Multifaceted and Infinite Religion

Origins and Historical Context: From the Arabian Peninsula, Islam first appeared in the seventh century CE, with its founder Muhammad serving as its last messenger. Islam's sacred book, the Quran, is a compilation of the revelations that Muhammad received. In the Islamic Golden Age, the faith rapidly expanded across continents, influencing a wide range of cultures and fostering the advancement of knowledge, the arts, and science.

 

मणिपुर के लोग कृष्ण भक्ति की रासलीला को वैष्णव पारम्परिक तरीके से मानते हैं।

मणिपुर में 1720 से 1728 तक रामानंदी संप्रदाय के शांति दास नामक एक संत वैष्णव परंपरा का प्रचार करने के लिए राजा के पूर्ण संरक्षण में थे।

Rethinking Education: Nurturing Future Leaders in a Changing World

Embracing Diversity in Learning Styles: Education is not a one-size-fits-all endeavor. Acknowledging and embracing diverse learning styles is crucial for fostering an inclusive and effective educational environment. Tailoring teaching methods to accommodate different strengths and preferences empowers students to maximize their potential.

इस्लाम धर्म में ईद-ए-मिलाद नाम का मुस्लिम त्यौहार भी आता है, इस्लामिक कैलेंडर के अनुसार इसे एक पवित्र महीना रबी-उल-अव्वल माना जाता है

ईद-ए-मिलाद के दिन पैगंबर मुहम्मद ने 12 तारीख को अवतार लिया था, इसी याद में यह त्योहार जिसे हम ईद-ए-मिलाद, उन-नबी या बारावफात मनाया जाता है।

Embracing Faith in a Changing World: Walking the Christian Walk

Founded in Belief: Fortifying Your Spiritual Basis A strong and enduring faith in Christ lies at the center of the Christian experience. It is crucial for believers to cultivate and fortify their spiritual basis by Bible study, prayer, and fellowship with like-minded people. Having a solid faith foundation provides us with direction and fortitude in a world where distractions clamor for our attention.