Sikh

ये है शीश गंज साहिब गुरुद्वारा जहां सिखों के नौवें गुरू ने दिया था अपने जीवन का बलिदान।

शीश गंज साहिब जहां औरंगजेब का घमण्ड तोड़ा गया था, यहाँ धर्म की रक्षा के लिए गुरु तेगबहादुर ने दी थी शहादत। 

Sikhism is a monotheistic religion

Sikhism is a monotheistic religion that originated in the Punjab region of India in the 15th century. It was founded by Guru Nanak, who emphasized the importance of living a moral and ethical life and spreading love and compassion to all people. Here are some key things to know about Sikhism:

 

Guru Granth Sahib: The Guru Granth Sahib is the central religious text of Sikhism. It is considered the living guru and contains teachings from the Sikh gurus as well as other saints and poets from different religions. The Guru Granth Sahib is considered the ultimate authority on all matters of faith and practice.

 

 

सिक्खों के छठे गुरु हरगोविन्द सिंह जी को सिख धर्म में वीरता की एक नई मिसाल कायम करने के लिए भी जाना जाता है।

गुरु हरगोविन्द सिंह जी ने सिख समुदाय को सेना के रूप में संगठित होने के लिए प्रेरित किया था, उन्होंने सिख धर्म में एक नई क्रांति को जन्म दिया, जिस पर बाद में सिखों की एक विशाल सेना तैयार की गई।

सिख धर्म के 5वें गुरु अर्जन देव साहिब जी आत्म-बलिदान की एक महान आत्मा थे, जो सर्वधर्म समभाव के साथ-साथ मानवीय आदर्शों को कायम रखने के कट्टर समर्थक थे।

गुरु अर्जन देव  जी का जन्म अमृतसर के गोइंदवाल में वैशाख वादी 7 (संवत 1620 में 15 अप्रैल 1563) को सिख धर्म के चौथे गुरु, गुरु रामदासजी और माता भानीजी के यहाँ हुआ था।

गुरु अंगद देव जीवनी

गुरु अंगद देव जी, सिखों के दूसरे गुरु माने जाते हैं, गुरु ग्रंथ साहिब में गुरु अंगद देव जी के 62 श्लोक शामिल हैं।

Accepting Sikhism: A Spiritual and Serving Journey

1. Foundational Sikh Beliefs: The Guru Granth Sahib, the primary religious text that guides Sikhs, is at the core of Sikhism. The teachings place a strong emphasis on the goal of selfless service, the equality of all people, and the unity of God. Sikhs adhere to the ideal of leading an honest, sincere life while attempting to maintain a harmonic balance between their spiritual and material obligations.

सिखों के तीसरे गुरु, गुरु अमरदास जी की जीवनी

सिखों के तीसरे गुरु, गुरु अमर दास का जन्म वैशाख शुक्ल 14, 1479 ई. में अमृतसर के 'बसर के' गाँव में पिता तेजभान और माता लखमीजी के यहाँ हुआ था। गुरु अमर दास जी एक महान आध्यात्मिक विचारक थे।

Understanding Spirituality in Sikhs An Expedition with DharamGyaan

Hemkunt Foundation: De­voted to Caring for People Ge­t to know the Hemkunt Foundation's gracious work, a group steadfast in its drive­ to care for people. Uncove­r stories detailing the foundation's be­nevolent actions, ones showing off the­ Sikh values of giving without expecting re­turn and aid to fellow humans.

 

इस ब्लॉग पोस्ट में, हम सिख धर्म के मौलिक सिद्धांतों, इतिहास, धार्मिक अभ्यास, और सामाजिक महत्व को समझेंगे।

इतिहास

  • गुरु नानक का जन्म: सिख धर्म के संस्थापक गुरु नानक देव जी का जन्म साल 1469 में हुआ था। उनका जीवन कथा और उनकी शिक्षाएं सिख धर्म के आध्यात्मिक आदर्शों को समझने में मदद करती हैं।
  • दस सिख गुरु: सिख धर्म में दस गुरुओं का महत्वपूर्ण भूमिका है, जिनमें से प्रत्येक ने अपने शिक्षाओं और योगदान से धर्म को आगे बढ़ाया।

Investigating Sikhism: Revealing the Spirit of the Sikhs

The Living Guru, the Guru Granth Sahib: The Guru Granth Sahib, a holy text that acts as the eternal Guru, is the central figure in Sikhism. The Guru Granth Sahib, which includes teachings and hymns from Sikh Gurus as well as spiritual authorities from other religions, provides Sikhs with inspiration and direction. It highlights the significance of selfless service, the unity of God, and the equality of all people.

 

अमृतसर के संस्थापक और सिख धर्म के चौथे गुरु, गुरु रामदास जी के जन्मदिन को प्रकाश पर्व या गुरु पर्व भी कहा जाता है।

श्री गुरु रामदास साहेबजी का जन्म कार्तिक वादी  2, विक्रमी संवत् 1591 (24 सितंबर सन् 1534) के प्रकाश में लाहौर की चुना मंडी में हुआ था, इनके पिता जी का नाम हरदासजी और माता जी का नाम दयाजी था।

लोहड़ी पंजाबी और हरियाणवी लोग बहुत उत्साह के साथ मनाते हैं। यह देश के उत्तरी प्रांत में अधिक मनाया जाता है।

इन दिनों पूरे देश में लोग पतंग उड़ाते हैं इन दिनों पूरे देश में विभिन्न मान्यताओं के साथ त्योहार का आनंद लिया जाता है।