Muslim

  • Home    >
  • Muslim
blog_img
  • 2
  • November

कुरान में बकरीद के दिन अल्लाह ने हज़रत इब्राहिम को सपने में अपनी सबसे प्यारी चीज़ की कुर्बानी देने का आदेश दिया था।

मुस्लिम धर्म के अनुसार बकरीद के दिन जानवरों की कुर्बानी दी जाती है, उस समय हजरत इब्राहिम के घर 80 साल की उम्र में एक बच्चे का जन्म हुआ था।


ईद-उल-अजहा यानी कुर्बानी की ईद। गरीबों की देखभाल करने का दिन। इस्लाम यानी मुसलमानों को मानने वालों के लिए यह त्योहार बेहद खास है। कई लोग ईद-उल-अधा को ईद-ए-कुर्बान भी कहते हैं। कुर्बानी उस जानवर के लिए की जाती है, जो 10, 11, 12 जिल्हिज्जा यानी हज के महीने में खुदा के नाम पर कुर्बानी दी जाती है। क़ुरआन में लिखा है- हमने तुम्हें हौज-ए-कौसा दिया है, इसलिए तुम अपने अल्लाह के लिए दुआ करो और कुर्बानी करो। इस्लाम में कहा गया है कि दुनिया में 1 लाख 24 हजार पैगंबर (नबी, पैगंबर) आए। जिन्होंने अल्लाह के आदेश का पालन किया और इस्लाम की दावत दी। हजरत मुहम्मद साहब आखिरी नबी थे। उसके बाद भविष्यवाणी का युग समाप्त हो गया। इन्हीं पैगम्बरों में से एक पैगंबर हजरत इब्राहिम दुनिया में आए, 


जिनकी सुन्नत को बकरीद मनाकर जिंदा रखा जाता है। कुरान में उल्लेख है कि अल्लाह ने हज़रत इब्राहिम को सपने में अपनी सबसे प्यारी चीज़ की कुर्बानी देने का आदेश दिया था। उस समय हज़रत इब्राहिम के घर 80 वर्ष की आयु में एक बच्चे का जन्म हुआ। हज़रत इब्राहिम के पुत्र का नाम इस्माइल था। वह हज़रत इब्राहिम के सबसे प्रिय थे। हजरत इब्राहिम ने अल्लाह के आदेश को पूरा करने के लिए कड़ी परीक्षा दी। जहां एक तरफ हज़रत इब्राहिम को अल्लाह के हुक्म को पूरा करना था, वहीं दूसरी तरफ उनके बेटे का प्यार उन्हें ऐसा करने से रोक रहा था, लेकिन उन्होंने अल्लाह के आदेश का पालन किया और अल्लाह के रास्ते में बेटे की कुर्बानी देने को तैयार हो गए। हजरत इब्राहिम ने जब कुर्बानी देनी शुरू की तो उन्हें लगा कि उनकी भावनाएं बीच में आ सकती हैं।


इस वजह से उन्होंने आंखों पर पट्टी बांधकर यज्ञ किया था। इसके बाद जब उन्होंने अपनी आंखों पर पट्टी हटाई तो बेटे इस्माइल को सुरक्षित पाया और वहां एक डंबा (भेड़ जैसा जानवर) पड़ा हुआ देखा। यहीं से ईद उल अजहा शुरू हुई और सभी मुसलमान हजरत इब्राहिम की इस सुन्नत को जिंदा रखने के लिए अल्लाह की राह में कुर्बानी देते हैं। इस्लाम में इसे खास तौर पर मुसलमानों और गरीबों का ख्याल रखने को कहा गया है। इसलिए बकरीद पर गरीबों का खास ख्याल रखा जाता है। इस दिन बलि के बाद मांस के तीन भाग किए जाते हैं। इन तीन भागों में एक हिस्सा अपने लिए रखा जाता है, एक हिस्सा पड़ोसियों और रिश्तेदारों को और एक हिस्सा गरीबों और जरूरतमंदों को बांटा जाता है।


इसके जरिए मुस्लिम लोग यह संदेश देते हैं कि वे दूसरों की भलाई के लिए अल्लाह की राह में अपने दिल के करीब की चीज भी कुर्बान कर देते हैं। पिछले साल की तरह इस साल भी कोरोना वायरस का असर ईद-उल-अजहा पर पड़ रहा है. बहुत कम जगहों पर बकरियों की मंडियां बनाई जा रही हैं। कहीं कोरोना की वजह से बकरियां महंगी तो कहीं सस्ती हो रही हैं. कोरोना वायरस को देखते हुए तमाम बड़े मुस्लिम संगठनों ने भी मुसलमानों से सरकार की ओर से जारी गाइडलाइंस के मुताबिक ईद-उल-अजहा मनाने की अपील की है. कुर्बानी के लिए जानवर खरीदते समय कई बातों का ध्यान रखना पड़ता है। सबसे पहले अगर आप बकरी खरीद रहे हैं तो उसकी उम्र कम से कम 12 महीने यानी एक साल होनी चाहिए। वहीं अगर आप कोई बड़ा जानवर खरीद रहे हैं तो उसकी उम्र कम से कम 2 साल होनी चाहिए।

  • Admin
  • 2
  • November
  • 2021