Muslim

  • Home    >
  • Muslim
blog_img
  • 2
  • November

ईद-ए-ग़दीर: इस्लामी इतिहास में वह दिन जिसके आधार पर मुसलमानों को शिया-सुन्नी में विभाजित हुआ था

जिसके आधार पर दुनिया का मुसलमान दो समुदायों शिया और सुन्नी में बंटा हुआ है, उस शख्स का नाम हज़रत अली है।


इस्लाम में मोटे तौर पर दो समुदाय हैं - शिया और सुन्नी। दुनिया के सारे मुसलमान इन्हीं दो समुदायों में आते हैं। इनके वितरण का आधार इस्लामी इतिहास है। दोनों समुदायों की कुरान एक ही है, हर दिन अनिवार्य नमाज की संख्या बराबर है। दोनों समुदाय अल्लाह के पैगंबर मुहम्मद (रसूल अल्लाह) और कुरान के लिए भी एकमत हैं। इस्लामी इतिहास के आधार पर पैगंबर के उत्तराधिकारी के बाद उनके बारे में अलग-अलग राय के कारण दोनों समुदाय विभाजित हो गए थे। जानिए कौन है वो वारिस। जिस शख्स के आधार पर दुनिया के मुसलमान दो समुदायों शिया और सुन्नी में बंटे हुए हैं, उस शख्स का नाम हजरत अली है।


अली संबंध में पैगंबर मुहम्मद के दामाद थे। वह पैगंबर की बेटी फातिमा के पति थे। इस रिश्ते के अलावा, वह पैगंबर के चचेरे भाई भी थे। शिया समुदाय के अनुसार, रसूल अल्लाह (पैगंबर) ने खुद घोषणा की थी कि उनके बाद उनके उत्तराधिकारी अली होंगे। हालांकि सुन्नी समुदाय इस दावे से सहमत नहीं है। शिया समुदाय के अनुसार, पैगंबर ने यह घोषणा 18 ज़िल्हिज्जाह 10 हिजरी (19 मार्च, 633 ई.) को ग़दीर-ए-खुम के मौदान में की थी। ग़दीर नाम की जगह मक्का और मदीना के बीच में है। ग़दीर ख़ुम जगह जोफ़ा से 3-4 किमी दूर है। जोफा मक्का से 64 किमी उत्तर में है। हाजी जोफा से एहराम (हज के लिए विशेष कपड़े) पहनते हैं।


पैगंबर के समय में, मिस्र, इराक, सीरिया और मदीना के लोग जोफा द्वारा एक दूसरे से अलग हो गए थे। क्या थी वो घोषणा- 10 हिजरी को पैगंबर ने आखिरी हज किया था। हज के बाद फरिश्ता जिब्रील कुरान की पांचवी सूरह की 67वीं आयत लेकर पैगंबर मुहम्मद के पास पहुंचे। आयत के उतरने के बाद, पैगंबर ने तीर्थयात्रियों को ग़दीर-ए-खुम में रुकने का आदेश दिया। वह आयत थी - या अय्युहर रसुलु बल्लीघ मा उनज़िला इलाइका मिन रब्बिक वा इन लाम तफ़ल फामा बल्लागाता रिसाल्ताहु वलाहु यासिमुका मिन अन्नास। जिसका अर्थ था - ऐ रसूल, उस संदेश को पहुँचा दो जो तुम्हारे रब की ओर से तुम्हारी ओर उतारा गया है।


आयत के प्रकट होने के बाद, पैगंबर ने सभी तीर्थयात्रियों को ग़दीर-ए-खुम में रुकने के लिए कहा। आदेश के बाद काफिले में सवार लोग रुक गए। जो पीछे रह गए वे जमीन पर पहुंचने का इंतजार कर रहे थे। गर्मी का मौसम था और जोहर (सुबह की दोपहर) का समय था। पैगंबर ने ऊंट के काजों को इकट्ठा करके एक ऊंचा मिंबर बनाया। वह उस पर खड़ा हो गया और खुतबा (भाषण) दिया। इस खुतबा में पैगम्बर ने अली का हाथ पकड़ कर लोगों को उससे मिलवाया। अपने उत्तराधिकारी के रूप में नियुक्ति की घोषणा करते हुए उन्होंने कहा, मन कुंतो मौलाहो फहजा अलीयुन मौला। यानी जिसका मैं मौला हूं उसका अली मौला। ग़दीर के क्षेत्र में इस घोषणा से जुड़ी आयतें क़ुरआन में हैं। शिया समुदाय 18 ज़िल्हिज्ज को ईद-ए-ग़दीर के रूप में मनाता है।

  • Admin
  • 2
  • November
  • 2021